Advertisements

Don’t Sweat the Small Stuff Book Summary | Unimportant चीजों से बचकर Stress-Free जीवन जिए

Don’t sweat the small stuff by Richard Carlson। Don’t sweat the small stuff Book summary। Unimportant चीजों से कैसे बचें। 3 ways to be stress free। The Secret weapon for reducing stress। Don’t sweat the small stuff book review। Best Book summary in Hindi Don’t sweat the small stuff Book Review

Don't sweat the small stuff
Advertisements

Don't Sweat The Small Stuff
Book Summary

   आज की भागती-दौड़ती जिंदगी में, लोग इतने ज्यादा busy हो गए हैं। सबको कहीं न कहीं पहुंचने की जल्दबाजी है। सबको हमेशा कुछ न कुछ करना है। कहीं जाना है। कुछ achieve करना है। किसी के पास भी relax करने का time ही नहीं है। यह भी हो सकता है। वह खुद ही relax करना नहीं चाहते। सब अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए super active होना चाहते हैं।

      क्या आपने कभी सोचा है। क्या सच में, हर समय दौड़ना। इतना ज्यादा जरूरी है। क्या कुछ achieve करने के लिए, सच में भागदौड़ की इतनी ज्यादा जरूरत है। क्या हर चीज, आपकी life में emergency बनकर रह गई है। जिसे आप एक emergency की तरह देखे बगैर भी कर सकते हैं। 

     आप शांत और relax भी हो सकते हैं। सारा काम करते हुए भी, आप life के खूबसूरत और अनमोल moment को enjoy कर सकते हैं। तो आगे आप जानेंगे कि life कोई emergency नहीं है। आपको हर चीज के लिए, जल्दबाजी करने की जरूरत भी नहीं है। सबसे पहले शांति से सोच समझकर decide कीजिये। सबसे ज्यादा जरूरी काम कौन-सा है। उसके बाद उसे achieve करने के लिए कौन-कौन से step लेने हैं।

दुनिया में कुछ भी बड़ा नहीं है। यह दुनिया छोटी-छोटी चीजों से मिलकर बनी है। इसमें आप यह भी सीखेंगे। यदि कोई आपमें कमियां या दोष निकाल रहा है। जो कि अक्सर होता है। तो आप उसे कैसे handle करें। सहानुभूति यानि कि Compassion और kindness से कैसे दिलों को जीतना चाहिए। इसके जरिए, आप दुनिया को एक अलग नजरिये से देखना सीखेंगे। जो आपको अपने daily routine की problems को solve करने में मदद करेगा।

Don't Sweat The Small Stuff

हममें से बहुत से लोग छोटी-छोटी बातों या situation को भी बेमतलब बहुत बड़ा बना देते हैं। हम तो मानने लगे हैं कि life में हर चीज एक emergency है। इन बातों को control कर। हम बेहतर तरीके से जिंदगी को enjoy कर सकते हैं। इस book के Author ने इसे बहुत simple example से explain किया है।

        Imagine कीजिए कि आप बाइक या कार चला रहे हैं। अचानक पीछे से आकर, कोई आपको overtake करता है। तब आपका क्या reaction होगा। आमतौर पर तो लोग, यहां पर गुस्सा हो जाते हैं। या फिर चिल्लाते हैं। कुछ लोग तो पूरे दिन, यह कहानी दूसरों को बताते रहते हैं। एक छोटी-सी बात के लिए, बहुत सारे stress लेते रहेंगे। यानी तिल का ताड़ बना देंगे।

वह बस खुद को सही साबित करने में, अपनी सारी एनर्जी बेकार कर देंगे। जो उनका पूरा दिन बर्बाद कर देगा। अगर आप नाराज होने की जगह, परेशान न होना choose करेंगे। इसे जाने देंगे। तो आप अपने मन की शांति को बचा सकते हैं। आगे का एक अच्छा और मजेदार दिन बिता सकते हैं। तो decide कीजिए, आपको क्या करना है।

Make Peace With Imperfection

   इस दुनिया में कुछ भी perfect नहीं है। हमें चीजों को उनकी कमियों के साथ accept करना चाहिए। जब हम इस perfection की तलाश को खत्म करना सीख जाएंगे। तब हम हर चीज की सुंदरता को देख सकेंगे। इसके लिए एक example देखते हैं।

    हम हर चीजों में दोष ढूंढते रहते हैं। कमियां ढूंढते रहते हैं। जैसे हमारी अलमारी में सब कुछ फैला हुआ है। कपड़े ठीक से धुले हुए नहीं हैं। Body पर बहुत ज्यादा fat है। न जाने क्या-क्या दुनियादारी की चीज। जो जैसा present stage पर है। हम उसे और बेहतर बनाने में लगे रहते हैं। इन सब चक्कर में, हम life के छोटे-छोटे magic moment को देख ही नहीं पाते।

Perfectionist होने में, वैसे कोई बुराई नहीं है। लेकिन आपको यह समझना होगा। हर चीज का perfect होना बिल्कुल भी जरूरी नहीं है। जब हम चीजों को उसके actual रूप में, actual form में accept करना सीख जाएंगे। जैसे वह हैं। तब हम खुद-ब-खुद उसकी अच्छाइयों और qualities को देखने लगेंगे।

The Way Of Thinking

हमारे मन में चलने वाले thoughts बेकाबू होते हैं। इन्हें control करना बहुत मुश्किल होता है। हमें पता भी नहीं चलता। लेकिन कुछ ही second में हजारों ख्याल हमारे मन में लगातार चलते ही रहते हैं। एक thought के बाद, दूसरी thought आती है। फिर तीसरी और एक-दूसरे जोड़कर कभी न खत्म होने वाला सिलसिला बन जाता है।

      बिल्कुल एक snow ball की तरह। जिसकी शुरुआत एक छोटे से बर्फ के टुकड़े से होती है। फिर उसमें थोड़ी-थोड़ी बर्फ जुड़ करके, उसे बहुत बड़ा बना देती है। हमारे thoughts, हमारे विचार बिल्कुल ऐसे ही होते हैं। लेकिन एक peaceful life के लिए, आपको खुद को बदलना ही होगा।

      मान लीजिये कि आप रात को सो रहे हैं। फिर अचानक से उठ जाते हैं। आपको याद आता है कि सुबह आपको एक urgent call करना है। Relax होने की वजह बजाएं। आपको एक important चीज याद आ गई। अब आप दूसरी चीजों के लिए परेशान होने लगते हैं। जैसे Boss के साथ होने वाली बातचीत की, आप rehearsal करने लगते हैं। आने वाली मीटिंग के बारे में सोचने लगते हैं।

      जितनी भी दूसरी calls करनी है। उन सब के बारे में चिंता करने लगते हैं। इस वजह से आप और भी ज्यादा upset हो जाते हैं। सोचने लगते हैं कि आप सच में कितने ज्यादा busy है। इसकी वजह से और भी ठेर सारे thoughts पैदा होना लगते हैं। जो हमें disturb कर देते हैं। यह जो process है। कभी भी खत्म नहीं होता।

      इस problem का एक simple सा उपाय है। अगर आपको snowball को शुरुआत से ही बड़ा नहीं होने देंगे। तो आपका mind disturb नहीं होगा। अपने thoughts यानी कि अपने विचारों को snowball मत बनने दीजिए। जैसे ही आपको लगने लगे कि आप बहुत ज्यादा सोच रहे हैं।

तो खुद को झकझोर कर कहिये। भाई अब सोचना बंद करो। अपना ध्यान दूसरी तरफ करने के लिए, आप पेपर और पेन लेकर लिखना शुरू कर सकते हैं। सुबह आपको क्या-क्या important काम पूरे करने है। इस तरह से, आप अपनी नींद को disturb होने से रोक सकते हैं।

Become More Patience

Patience हमारी life में बहुत important होता है। ये आपको शांति और प्यार से भर देता है। इसकी मदद से चिड़चिड़ापन कम होने लगता है। आप अपनी life के यादगार पलों को, खुलकर enjoy कर सकते हैं। Author ने इसे, अपने personal experience से समझाने की कोशिश की है।

     उनकी दो छोटी बेटियां हैं। वो जब भी वह book लिखने बैठते हैं। अक्सर उनकी 4 साल की बेटी, उन्हें बार-बार तंग किया करती थी। जब भी वह अपने study room में गहरी सोच में डूबे होते थे। तो वहां पर पहुंच जाती। लेकिन वह कभी भी न तो अपनी बेटी पर गुस्सा हुए। न ही उन्हें कभी भी चिड़चिड़ाहट हुई।

     अगर उन्हें कभी negative thought आ भी जाता। तो वह अपने बच्चे की मासूमियत और भोलेपन के बारे में सोचने लगते। वह यह सोचने लगते कि वह इसलिए नहीं आती। कि वह उन्हें disturb करना चाहती है। बल्कि वह इसलिए आती है। क्योंकि वह उन्हें बहुत प्यार करती है। वो जब उसका मासूम चेहरा देखते। तो अपनी सारी थकान भूल जाते। उन्हें इतने प्यारे बच्चे देने के लिए, भगवान का शुक्रिया अदा करते। 

यह जो patience है। यह बहुत important quality है। इसकी कमी से आप जीवन में, निराश महसूस करने लगेंगे। छोटे-छोटे लेकिन दिल को छूने वाले, experience को feel ही नहीं कर पाएंगे। तो कोशिश कीजिए। Patience को लाने की और इसे आगे बढ़ाने की।

Create Patience Practice Period

 समझते हैं कि यह हमें कैसे करना है। जब हमने अपनी life में patience की importance के बारे में जान लिया। तो देखते हैं। हम अपने patience का level  कैसे improve कर सकते हैं। आप patience की art को सीखने के लिए,  patience practice period सेट कर सकते हैं।

     खुद को बस 5 मिनट के लिए patience रहने के लिए कहिए। Practice के साथ, इसका टाइम धीरे-धीरे बढ़ाते जाइए। आप समय के साथ खुद में change होता हुआ देखेंगे। Practice के साथ, आप एक धैर्यशील इंसान बन जाएंगे। Author ने इसे अपने बच्चों के साथ try किया।

       एक दिन जब वह, एक जरूरी call कर रहे थे। तो उनके दोनों बच्चों ने उन पर सवालों की बौछार कर दी। वह बस अपने पापा का पूरा ध्यान, खुद की तरफ चाहते थे। लेकिन उनके पापा का ध्यान, तो फोन करने में लगा हुआ था। Author ने खुद को, 30 मिनट तक patience रहने के लिए कहा। न तो वह गुस्सा हुए और न ही चिल्लाए।

वह बस बिल्कुल धैर्य के साथ, शांत बने रहे। उनका mood अच्छा होने लगा। उन्होंने notice किया कि जब वह शांत और patience थे। तब उनके बच्चे भी बिल्कुल शांत और patience थे। जब आप patience के साथ चीजों को हैंडल करने लगेंगे। तब आप देखेंगे कि आप अपने काम को पहले से ज्यादा अच्छे तरीके से कर पा रहे हैं। आपके रिश्ते भी ज्यादा strong होंगे। उसमें ज्यादा प्यार और विश्वास होगा।

Allow Yourself To Be Bored

 हम में से कोई भी life में bore होना नहीं चाहता। लेकिन यकीन मानिए। Bore होना mental health के लिए, बहुत अच्छा होता है। ये हमारी body और mind को relax करने में मदद करता है। एक छोटा-सा break लेना और उस समय सिर्फ relax करना। आपको बहुत sharp साथ बना देता है। ज्यादा focus करने में मदद करता है।

      Author जब वाशिंगटन के, एक छोटे से शहर में थे। तो उन्हें बहुत ज्यादा बोरियत होती थी। तब उन्होंने इसके फायदों के बारे में जाना। वह उस समय एक Psychotherapist के साथ training ले रहे थे। एक बार उन्होंने पूछा कि इस छोटी की जगह में, खुद को entertain करने के लिए लोग रात में क्या करते हैं। Psychotherapist ने जवाब दिया कि कुछ नहीं।

     यह आपकी training का भी एक हिस्सा है। इसीलिए आप भी कुछ नहीं करेंगे। अगर आप खुद को बोर होने देंगे। तो आप ज्यादा शांत होना सीखेंगे। आप relax होना सीखेंगे। जो कि आज हम इस भागती दौड़ती हुई, जिंदगी में भूल गए हैं। बस अपनी breathing पर ध्यान रखिए। अपनी body और mind को rest करने देना है। पहले तो author को यह सुनकर, बहुत अटपटा सा लगा।

      फिर उन्होंने इसे try करने के बारे में सोचा। शुरुआत में ऐसे ही खाली बैठना। उन्हें बड़ा अजीब लगता था। लेकिन कुछ टाइम के बाद, वह इसे enjoy करने लगे। हमारे विचारों की जो लंबी train है। वह किसी भी स्टेशन पर रूकती नहीं है। बस चलती रहती है। हम इंटरटेनमेंट के लिए कुछ न कुछ हमेशा ढूंढते रहते हैं। हम बस अगले step के बारे में सोचते रहते हैं। जैसे कि जब हम dinner कर रहे हैं। तो हम last में मिलने वाले, आइसक्रीम या मिठाई के बारे में सोचने लगते हैं।

जब हम आइसक्रीम को enjoy कर रहे होते हैं। तो आगे क्या करना है। उस बारे में सोचना शुरु कर देते हैं। इस तरह से यह चैन कभी भी खत्म नहीं होती। इसलिए हमारे mind को relax करने का, relax होने का कभी भी टाइम ही नहीं मिलता। जब हम खुद को बोर होने देते हैं। तो हम अपने माइंड को, कुछ समय के लिए, हर चिंता से दूर करके clean कर देते हैं। तब जाकर हमारा माइंड relax feel करता है।

Repeat To Yourself Life isn't Emergency

   यह सच है कि हम खुद के लिए, एक goal set करते हैं। फिर उसे एक emergency की तरह treat करने लगते हैं। अपने goal को पाने के लिए, हम एक डेडलाइन बनाते हैं। वहां तक पहुंचने की हड़बड़ी में रहते हैं। इस चक्कर में हम उस journey की मस्ती को enjoy ही नहीं करते। इस बात को समझना बहुत जरूरी है। Life कोई emergency नहीं है। आपको किस बात की जल्दी है।

      Author ने अपने कुछ client के experience को share किया है। उनके कुछ client का मानना था। अगर वह घंटों तक कड़ी मेहनत नहीं करेंगे। तो वह जिंदगी में बहुत पीछे रह जाएंगे। वह अपनी life को एक emergency की तरह treat करते थे। जहां पर हर काम time पर होना बहुत जरूरी था। उनकी client एक housewife थी। उनके तीन बच्चे थे। वह अपने घर को साफ-सुथरा रखने के बारे में बहुत सख्त थी। 

    उसने Author को बताया कि उन्हें हमेशा यही चिंता लगी रहती है। वह उतनी अच्छी तरीके से सफाई नहीं कर पाएंगी। जैसा वह चाहती हैं। सुबह सबके घर से निकलने से पहले ही साफ-सफाई करना चाहती थी। लेकिन जब वह ऐसा नहीं कर पा रही थी। तो इस चीज ने उन पर, बुरा असर डालना शुरू कर दिया। उन्हें डॉक्टर के पास जाना पड़ा। वह अपनी चिंता को control करने के लिए, दवाई तक लेने लगी।

       Author ने उसे explain किया कि उसका हाल ऐसा हो गया। जैसे किसी ने उसके सर पर बंदूक तान रखी हो। उसे ठीक से सफाई करने के लिए, कहा जा रहा हो। वैसे किसी ने भी ऐसा करने के लिए, उसे force नहीं किया था। यह pressure उसने खुद बनाया था। उसके मन में यह बात बैठी थी। सब साफ करना, एक emergency है। जो time पर होना ही चाहिए।

इस बात को न भूलें कि आपको physical और mental, दोनों तरह से fit और healthy रहना है। खुद को याद दिलाते रहिए। Life एक emergency नहीं है। क्योंकि life में थोड़ा ठहराव बहुत जरूरी है।

Choose Being Kind Over Being Right

 लोग अक्सर खुद को सही साबित करने के लिए। दूसरों को नीचा दिखाते हैं। यह जरूरी तो नहीं कि आप तभी Right होंगे। जब दूसरा इंसान Wrong होगा। उल्टा उसे नीचा दिखाकर, आपको और ज्यादा बुरा लगेगा। क्योंकि आपके दिल, वह हिस्सा जहां Compassion छुपा होता है। वह hurt हो जाएगा। इसीलिए दूसरों की गलतियां निकालना बंद कीजिए। उसे ignore करना सीखिए।

     आपको right होने के बजाय kind होने की जरूरत है। इस attitude को अपनाने से, आप बहुत satisfied यानी कि बहुत ज्यादा संतुष्ट feel करेंगे। जैसे कि author, अपनी पत्नी के साथ एक बिजनेस प्लान discuss कर रहे थे। जिसमें वह अपनी पत्नी को बार-बार गलत सिद्ध कर रहे थे। लेकिन उनकी पत्नी बहुत खुश थी। उनका plan बहुत सफल रहा था। 

बाद में, author को एहसास हुआ कि यह idea तो उनका था ही नहीं। यह तो उनकी wife का idea था। जो कि इतना successful हुआ था। उन्होंने अपनी wife से माफी मांगी। उनकी wife ने कहा कि वह author के लिए, बहुत खुश थी। इसलिए उनसे कोई बहस नहीं की। उनका मानना था कि कोई फर्क नहीं पड़ता। कौन सही है, कौन नहीं। सिर्फ खुशी मायने रखती है। दूसरों को समझना और दिल बड़ा रखना। हमें खुशी देता है। इसीलिए Be Kind ।

Develop Your Own Helping Rituals

 छोटी-छोटी चीजों में दिल बड़ा रखना और दयालु होना। हमें बहुत अच्छा feel कराता है। एक kind और नेक दिल इंसान बनने के लिए। हमें खुद helping attitude बनाना चाहिए। आपकी यह habit सिर्फ लोगों की मदद नहीं करेगी। बल्कि अपने आप मे बहुत मजेदार भी है। जैसे आप किसी के लिए दरवाजा खोल सकते हैं। किसी के लिए, टोल बूथ पर पैसे दे सकते हैं।

     जो लोग अकेले हैं। उनसे मिलने जा सकते हैं। ताकि उन्हें अकेलापन न लगे। आपको जो भी करना पसंद हो। आप उस चीज को choose कर सकते हैं। लोगों की मदद कर सकते हैं। ऐसा करने से आप बहुत अच्छा feel करेंगे। जैसे कि author सन फ्रांसिस्को के, एक छोटे से शहर में रहते थे। यह एक शांत जगह थी। जो चारों ओर से प्रकृति की सुंदरता से घिरी हुई थी।

      लेकिन मन को सुकून देने वाली इस खूबसूरती को। जगह-जगह फैली गंदगी ने जैसे दाग लगा दिया था। लोग घरों से, गाड़ियों से रास्ते पर कचरा फेंक दिया करते थे। उस छोटी-सी जगह पर, साफ सफाई के लिए मदद मिलना। बहुत मुश्किल था। इसीलिए author ने इसे खुद साफ करने का decision लिया।

       उन्हें जब भी कहीं रास्ते में, पार्क में या कही पर कचरा बिखरा दिखाई देता। तो वह उसे उठाकर डस्टबिन में डाल देते थे। कुछ समय के बाद, author इस आदत को enjoy करने लगे। कुछ लोगों ने कई बार, उन्हें सफाई करते हुए देखा। उनकी इस बात ने, उनके दिल को इतना छू लिया। उन्होंने भी इसे अपनाने का decision ले लिया।

अब तो यह win-win वाली situation थी। जिसमें सब का फायदा ही फायदा था। आप दूसरों की मदद कर रहे हैं। जिसमें आपको मजा आने लगा। आप दूसरों को भी, ऐसा करने के लिए inspire कर रहे हैं। हम दूसरों की बुरी आदत को, तो बड़ी जल्दी सीख जाते हैं। लेकिन अच्छी आदत अपनाने में, इतना समय क्यों लगा देते हैं। सोचियेगा जरूर।

Humble Request

   अभी तक आपने इसे पढ़कर, जो भी सीखा। वो पूरी Book का अंश मात्र है। यदि आप भी अपने जीवन मे Unimportant चीजों से बचकर stress free जीवन जीना चाहते है। तो Richard Carlson की Book- Don’t Sweat the Small Stuff जरूर पढ़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.