Advertisements

Ego is the Enemy by Ryan Holiday | Book Summary in Hindi | Ego आपको कैसे बर्बाद करता है

Ego is the enemy Book summary in Hindi | Don’t talk about your goals | Ego is the enemy by Ryan Holiday | कौन है आपका असली दुश्मन | Ego आपको कैसे बर्बाद करता है? | अपने Ego से कैसे free हो | How to Master Your Ego | Defeat The Devil Inside You | मेरा दुश्मन मेरा अहंकार | ईगो को कंट्रोल कर लो सारी दुनिया आपके कदमों में होगी।

Ego is the Enemy
Advertisements

EGO IS THE ENEMY by RYAN HOLIDAY
Book Summary

 जब आप अपने अंदर के दुश्मन से जीत जाते हैं। तो बाहर का दुश्मन, आपका कुछ भी नुकसान नहीं कर सकता। अंदर के दुश्मन बहुत सारे होते हैं। जैसे कि आलस गुस्सा और घमंड। इस किताब में एक खास तरह के दुश्मन की बात की गई है। जिसका नाम है- Ego। यह हमारे चरित्र का वह हिस्सा है। जो हमारे बारे में हमेशा अच्छा सोचता है। अपने बारे में अच्छा सोचना कोई गलत बात नहीं है। लेकिन जब आप अपनी कमियों को अनदेखा करके। अपने गलत कामों को भी अच्छी नजर से देखने लगते हैं। तो यह नुकसानदायक हो सकता है। इस किताब में बताया गया है कि Ego वास्तविकता में होता क्या है। किस तरह से हम इसे काबू कर सकते हैं। इसे काबू न करने के क्या नुकसान हो सकते हैं।

इसी Ego के बारे में, author Ryan Holiday ने अपनी book Ego is the enemy में विस्तार से बताया है। उनका मानना है कि हर किसी की जिंदगी में तीन Phases चलती हैं। पहली- Aspire, दूसरी- Success  और तीसरी- Failure। हमारा ego इन्ही तीन phases में हमारे पास आता है। हमें बर्बाद करने के लिए। इस Book में यही बताया गया है कि कैसे हमारा Ego इन तीन phases of life में हमारे पास आता है। कैसे हम इनसे बचकर, अपनी life को अच्छे से चला सकते हैं।

What Is Ego ?

Ego और Attitude में सिर्फ एक ही अंतर है। Attitude सिर्फ एक, way of living है। वही ego उस way of living को दिखाकर, अपने आपको बड़ा बताना है। जैसे कि हर Indian, Asian है। लेकिन हर Asian का Indian होना जरूरी नहीं है। वैसे ही हर egoistic person के अंदर attitude होता है। लेकिन हर attitude वाले person में ego हो। ऐसा जरूरी नहीं। आजकल ज्यादातर लोग attitude को ego से connect करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। Ego एटीट्यूड से बहुत छोटा होता है। वही ego, bad attitude का part होता है।

उदाहरण के लिए, जिसके पास good attitude है। वह यह बोलेगा, मेरे अंदर capabilities है। जो मुझे सबसे सफल बनाएंगी। वहीं पर egoistic person कहेगा। मेरे पास इतनी ज्यादा knowledge है। कि मुझसे ज्यादा बुद्धिमान इस दुनिया में कोई और नहीं है। Ego को humility metre से check किया जा सकता है। जैसे कि जितनी ज्यादा humility (विनम्रता) होगी, उतना कम ego उस person के अंदर होता है। इसका मतलब ego, humility के indirectly proportional होता है। अब बात आती है कि हम अपनी जिंदगी के तीन phase पर। किस प्रकार के ego से मिलेंगे। उनको कैसे सही किया जा सकेगा।

EGO
1st Phase - ASPIRE

कुछ काम करने से पहले, ego हमें बर्बाद करने की कोशिश करता है। यह वह stage होती है। जब हम अपने goal को set करते हैं। उसके लिए काम करने जा रहे होते हैं। आपने भी बहुत सारे, ऐसे लोगों को देखा होगा। जो हर साल की शुरुआत में, New year resolution करके कुछ start करते हैं। फिर कुछ ही दिनों में, उसे बंद कर देते हैं। ऐसा इसलिए होता है। क्योंकि वह उस काम की शुरुआत तो करते हैं। फिर पूरी दुनिया को बताते हैं। देखो मैंने यह New year resolution लिया है। मैं अपनी जिंदगी को बदल दूंगा।

कई बार ऐसा कहा गया है कि अगर हम अपने goal को दुनिया को बता देते हैं। तब हमारे अंदर motivation आता है। फिर हम उस काम को complete करते हैं। लेकिन इसमें एक दिक्कत आती है। हम सिर्फ बात करते ही रह जाते हैं। अपने goal को पाने के लिए, कुछ भी काम नहीं करते। हम सिर्फ बताते हैं कि वह एक दिन ऐसा करेंगे। इतने पैसे कमाएंगे। वो गाड़ी खरीदेंगे। ऐसी ही बहुत सारी बातें करते रहते हैं। लेकिन वह एक चीज करना भूल जाते हैं। जोकि एक action है।

बड़ी-बड़ी बातें करना, किसको अच्छा नही लगता है। लेकिन वहीं पर जब action लेने का समय आता है। तब वह लोग, वहां से गायब हो जाते हैं। दुनिया को अपने goals बताने में, कोई दिक्कत नहीं। लेकिन आपको तभी motivation मिलेगा। जब आप लोगों के प्रति accountable होंगे। अगर आपको goal set करने के बाद ही, तारीफ मिलने लगे। तब उसे पूरा करने की जरूरत क्या है। वहीं पर जब लोग, आपसे पूछते हैं कि क्या तुम यह कर पाओगे। तो आपके अंदर, उनको साबित करने का motivation आता है। आप उस काम को complete करते हैं।

      जैसे कि मैं अपनी बात करूं। तो मैंने हर week में दो post डालने का निश्चय किया। अपने इस goal को, मैंने सभी को बता दिया। लोगों ने मुझसे कहा कि अन्य कामों के साथ, दो अलग-अलग category में लिखना मुश्किल होगा। वहां से मुझे motivation मिली। मैं अपने उस goal को अभी तक बखूबी पूरा करता आया हूं। इसका कारण यह भी है कि मैं उन लोगों की उपेक्षा का सामना नहीं करना चाहता। इसलिए मेरा प्रयास व motivation मुझे प्रेरित करते रहते है। अब आप कैसे, इस phase में आए हुए, Ego को खत्म कर सकते हैं।

पहले आप अपने goals को, उनको बताएं। जो आप का मजाक उड़ा सकते हैं। ताकि उनको एक और मौका मिल जाए। आप का मजाक उड़ाने के लिए। मैं आपका बुरा नहीं चाहता हूं। लेकिन अगर आपको motivation चाहिए। तो यह सबसे अच्छा तरीका होगा। फिर जब आप इसे, उन्हें बता देते हैं। तो इसको अपने दिमाग में जरूर बैठा ले। कि जब आप उस goal तक नहीं पहुंच पाए। तो वह लोग आपका बहुत मजाक उड़ाएंगे। फिर उस goal के लिए काम करिए। अब आपके अंदर एक fear of rejection भी है। Fear of failure के साथ। तब आप दुगनी तेजी से काम करेंगे।आप अपने goal तक पहुंचने के लिए, हर संभव प्रयास करेंगे।

EGO
2nd Phase - SUCCESS

 इस phase में आए हुए Ego, हमें आगे चलकर बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं। इस बात को समझने के लिए, author ने एक बहुत अच्छा example दिया। Howard Hues अपने समय के सबसे अधिक financially successful person थे। उन्होंने पहली बार success को तब देखा। जब वह 18 साल के थे। अपने father की death के बाद। उन्होंने अपने father की tools कंपनी के सारे share खरीद लिए। उस वक्त सब लोग यह कह रहे थे कि यह एक गलत निर्णय है। Howard Hues, Bankrupt हो जाएंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 

    उनके इस decision की वजह से, उन्होंने billions of dollar कमाए। जब उन्होंने success को पाया। तब उनके अंदर बहुत सारा ego आ गया। उन्हें लगा कि वह जिस भी बिजनेस में जाएंगे। वहां पर वह success हो जाएंगे। इसी वजह से, उन्होंने different types of businesses में पैसे लगाएं। वह फिल्म इंडस्ट्री में गए। Aviation business में गए। उन्होंने RKO movie studio भी खरीद लिया। जिसमें उनको बहुत loss हुआ। और भी बहुत सारे बिजनेस में, उन्हें loss हुआ। उन्होंने काफी losses bear किये।

      Victor Franklin कहते है, “Man is pushed by drives but he is pulled by values”। हमारी values और ethics यह decide करते हैं। हम कितने दिनों तक, अपनी success को रोक पाएंगे। अगर हम यह सोचना start कर देते हैं। हम सबसे knowledgeable person है। हमें सब कुछ पता है। क्योंकि हमने यह achieve कर लिया या वो achieve कर लिया। तो हमारा यह भ्रम बहुत ही जल्दी टूट जाएगा। यही चीज Howard hues के साथ भी हुआ। इतनी जल्दी success पाने के बाद, उन्हें लगने लगा। वह सब कुछ पा सकते हैं। अपनी ego को fuel देते रहे। अंत में एक ऐसा time आया। वह अपनी wealth और power सब कुछ खो बैठे थे। अब आप कैसे इस ego को खत्म कर सकते हैं। 

By Being A Student जी हां, आप चाहे जितनी भी success पा ले। चाहे जितनी भी books पढ़ ले या डिग्री ले ले। तब भी आप किसी न किसी से तो, हरदम छोटे ही रहते हैं। यह आपको मानना पड़ेगा। इस संसार में बहुत सारे लोग, आपसे किसी न किसी रूप में बड़े होंगे। जो कि आप से ज्यादा knowledge, आपसे ज्यादा experience, आपसे ज्यादा power रखते होंगे। अगर गिनती की जाए। तो ऐसे बहुत सारे लोग होंगे। इसका मतलब है कि आप चाहे जितनी भी कोशिश कर ले। आप किसी न किसी से छोटे तो रहेंगे। 

अब आप क्या करें। आप अपने अंदर इस humility को जगाएं कि मुझसे भी बड़े लोग हैं। जो कि मुझसे ज्यादा जानते हैं। जब आप ऐसा सोचने लगेंगे। तब आपके अंदर एक सीखने की चाह रहेगी। जिसकी वजह से, आपके अंदर ego की आग पर, पानी फिर जाएगा। ऐसा author इसलिए बोलते हैं। क्योंकि जब आपको यह लगता है कि आप सच में महान नहीं है। तब आपके ऊपर success का भूत सवार नहीं होता। आप धीरे-धीरे grow करते हैं।

EGO
3rd Phase - FAILURE

 आप सोच रहे होंगे। Failure होने में कैसा ego। क्योंकि failure होने पर तो, हम हार जाते हैं। हमारा सारा ego तो खत्म हो जाता है। हां, आपने बिल्कुल सही समझा। लेकिन ऐसे काफी लोग होते हैं। जो एक बार fail होने के बाद, बार-बार fail होते रहते हैं। वह एक ही गलती को बार-बार दोहराते रहते हैं। जिसके परिणाम स्वरूप fail होते रहते हैं। क्या आपने कभी ऐसा सोचा है कि वह ऐसा क्यों करते हैं। क्योंकि उनके ego ने, उनकी आंखें बंद कर रखी होती है। उनका ego उनको यह मानने से रोकता है, कि वह गलत हो सकते हैं या वह भी fail हो सकते हैं।

    जैसे कि Sandeep Maheshwari जी यह ज्यादातर बोलते रहते हैं। Situation को As It Is देख लेना ही successful और intelligent इंसान की पहचान है। जब कोई आदमी यह नहीं देख पाता। कि वह क्या गलती कर रहा है। न ही उसमें, उस गलती को ढूंढने की इच्छा होती है। तो उस आदमी को और नीचे गिरने के बहुत chances होते हैं। Failure होना कोई भी बुरी चीज नहीं है। बल्कि failure हमें बहुत सारी चीजें सीखा सकती है। Failure और Success एक सिक्के के दो पहलू हैं। Life में हम कभी fail होते है, तो कभी हम  success पा लेते हैं।

Author ने failure वाले ego को solve करने के लिए। Alive Time और Dead Time के बारे में बताया है। Detroit Red एक criminal था। वह ड्रग्स बेचता था, चोरी करता था और भी कई गंदे काम करता था। फिर फरवरी 1946 में जब वह 19 साल का था। वह चोरी के जुर्म में पकड़ा गया। उसको 10 साल की सजा हुई। वह जेल के अंदर बहुत सारे क्रिमिनल दोस्त बनाकर और बड़े क्राइम के बारे में सीख सकता था। वह बहुत बड़ा क्रिमिनल बन सकता था। लेकिन उसने बिल्कुल ही अलग काम किया।

उसने जेल के अंदर ही reading start कर दी। वह History,  Psychology, Religion और Philosophers के बारे में पढ़ने लगा। कुछ सालों के बाद यह लड़का, आगे चलकर Malcom X के नाम से famous हुआ। जोकि American Minister थे। जिन्होंने Civil Rights Movement के दौरान अहम भूमिका निभाई थी। Detroit ने जेल के time को alive time बना दिया था। फिर वह Malcom X बन गए।

Alive time का मतलब है। आप अपने हर एक सेकंड को या तो कुछ सीखने में या फिर किसी अच्छी जगह पर use करें। वहीं पर Dead time तब होता है। जब आप wait करते हैं कि आपका अच्छा टाइम आएगा। फिर आप action लोगे। हम जब भी fail हो। तो उसके बाद सारा समय alive time बना देना चाहिए। जिससे हम अगली बार ऐसी गलती न करें। फिर success के लिए आगे बढ़े।

EGO को हराने का Fromula

  Ego को हराने का formula बहुत ही simple है। जो हमें इसी book से मिला। वह है- plus(+), minus(-) और equal to(=)। जब भी आपकी life में aspire stage हो। तो आपको equal to का use करना चाहिए। मतलब आपको एक ऐसे आदमी को, अपने साथ रखना चाहिए। जो daily आपको Challenge करें। आपके अंदर motivation को जगाए रखें। ताकि आप aspire वाली ego को हरा सके।

दूसरा जब आप success के stage पर हो। तो आपको plus का use करना चाहिए। आपको अपने से ज्यादा successful और powerful लोगों से सीखते रहना चाहिए। ताकि आपके अंदर arrogance ना आए। आप अपने next target के लिए काम करें। तीसरा जब आपकी life में failure की stage हो। तो आपको minus का use करना चाहिए। आप सही समझे। आपको अपने से छोटे लोगों को, मतलब जिनको आप सिखा सकते हैं। उनको अपने साथ रखना चाहिए। हरदम सीखते रहना चाहिए। ताकि आप अपने level पर रहे और ज्यादा नीचे ना गिरे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.