Advertisements

Jack Ma- Founder of Alibaba|Biography in Hindi

Jack Ma - Biography in Hindi

   Jack Ma- Founder of Alibaba की Biography in Hindi । जिनका अधिकतर जीवन असफलता व संघर्ष से भरा रहा। Jack Ma की एक quality ने उन्हें चीन के सबसे सफल इंसान का दर्जा दिया।। इसी के चलते उनकी गिनती आज Forbes के अनुसार दुनियाँ के richest Persons में होती है।

        विश्वास वह शक्ति है। जो किसी भी इंसान से नामुमकिन काम भी करवा सकती है। अगर किसी इंसान को खुद पर विश्वास हो जाए। कि वह कर सकता है। तो फिर चाहे, कितनी भी तकलीफ आये। चाहे वह कितनी ही बार फेल हो। लेकिन एक ना एक दिन, वह अपने लक्ष्य को हासिल कर ही लेता है।

अगर आपने कोशिश करना नहीं छोड़ा है। तो इसका मतलब है, कि आप हारे नहीं है। हार तो तब होती है। जब हम कोशिश करना ही बंद कर देते हैं। ऐसा कहना है- Jack Ma का। जिन्हें आज सारा विश्व Alibaba के founder और विश्व के 18वें सबसे powerful व्यक्ति के रूप में जानता है।

Jack Ma- Founder of Alibaba
Advertisements

Jack Ma ki Biography

 बचपन का नाम  :  मा यूं

            जन्म  :  10 सितम्बर 1964

        जन्म-स्थान  :  हांग्जो,चीन

                शिक्षा  :  बी०ए (अंग्रेजी)

            व्यवसाय  :  दिग्गज कारोबारी

                              निवेशक

                              राजनीतिज्ञ

     मुख्य पहचान  :  अलीबाबा के संस्थापक

                               व CEO

                  पत्नी  :   Cathy Zhang

बच्चे  :   3  

बचपन से असफलताओं का साथ

  एक समय वह भी था। जब Jack Ma अपनी पहचान ढूंढने के लिए। अपनी छोटी-सी नौकरी ढूंढने के लिए, जगह-जगह भटक रहे थे। लेकिन उस वक्त, उनका वक्त अच्छा नहीं था। यह व्यक्ति जहां भी, जैसी भी नौकरी के लिए जाता। Rejection ही हाथ आता। अब उस वक्त, इनका समय खराब था या इनकी किस्मत। यूँ भी कहा जा सकता है। इनकी Destiny, बजाए इनकी नौकरी के, कुछ बड़ा काम करवाना चाहती थी। यह भी कहा जा सकता हैं।इनकी Qualification, जो किसी job के लिए fit नहीं थी।इनकी दुबली-पतली personality  भी बाधक थी।

      May un यानि कि Jack Ma, जिनका जन्म 10 सितम्बर 1964 में एक निम्न मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था।  इनके परिवार में माता-पिता के अलावा एक बड़ा भाई व छोटी बहन है। इन्होंने 1988 में Cathy Zhang से विवाह किया।इनके एक बेटा व एक बेटी है।इनके पिता musician व story teller का काम करते थे। Jack Ma बचपन से ही चुनोतियों में सम्भावनाये तलाश करते थे।

      यह बचपन से ही पढ़ाई में  नालायक बच्चों की श्रेणी में आते थे। पढ़ाई में मन न लगाने वाले Jack Ma, 4th class में दो बार और 8th class में तीन बार फेल हुए। वही कॉलेज के entrance exam में पांच बार फेल हुए। इन्होंने failure में भी fail होने का रिकॉर्ड कायम किया। कॉलेज के entrance exam में, maths subject में 120 अंकों में मात्र 1 अंक ही हासिल किया।

पढ़ाई में कमजोर होना, एक अलग बात है। लेकिन 120 में 1 अंक लाना,एक अलग बात है।यानि कि एक tech कंपनी alibaba के founder का maths थोड़ा नही, बहुत ही weak था।इन्होंने कभी भी management की पढ़ाई नहीं की। यह आज भी कंपनी के accounting report नहीं पढ़ पाते। इससे एक बात तो पता चलती है। Millionaire होने के लिए maths का अच्छा होना जरूरी नहीं है। लेकिन Jack Ma अकेले ऐसे इंसान नही है। जो पढ़ाई में नालायक रहे हो। Albert Einstein और Edison जैसे लोगों को भी,पढ़ाई में problem आती थी।

Jack Ma की जिद्द व द्र्ढ़ता

Jack Ma में एक quality बचपन से ही थी। बहुत ही दुबले-पतले होने के बावजूद। जब बच्चे इन्हें दुबलेपन के कारण चिढ़ाते थे। तब अपने से बड़े बच्चों से भी भिड़ जाते थे। बस परिणाम की चिंता किए बगैर।  इनकी इसी quality ने, इनके career में एक बड़ी भूमिका निभाई। जैसे-तैसे इन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। इनको और किसी subject में कोई रुचि नहीं थी। लेकिन बचपन से ही, इन्हें english सीखने की बहुत इच्छा थी। इन्होंने english सीखने की इच्छा के चलते हुए। अपनी पढ़ाई के साथ-साथ tourist guide का भी काम किया। जिसके लिए, वह मेहनताना नहीं लेते थे। बस बदले में विदेशी लोगों से english सीखना। इनका एक मात्र लक्ष्य था। ऐसा लगभग 8 साल तक करते रहे। जिसके कारण english में काफी अच्छी पकड़ बन गई। शायद इनके जीवन की, यही सबसे बड़ी एक उपलब्धि भी थी।

इसके बाद इन्होंने Haward University में दाखिले की कोशिश की। लेकिन वहां पर भी इनका सामना rejection से ही हुआ। अपनी जिद के चलते, इन्होंने Haward University में 10 बार apply किया। लेकिन हर बार, इनके form को reject कर दिया जाता। लेकिन Jack Ma की यही quality, उनकी ज़िद्द और दृढ़ता ही थी। जो उन्हें एक आम इंसान से अलग करती है। साथ ही सभी को अचंभित भी करती है। Jack Ma को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता। University उनके फॉर्म को लगातार reject कर रही है। लेकिन फिर भी patience व positivity के साथ apply करते रहे। केवल इस उम्मीद पर कि कभी न कभी तो, उसका नंबर भी आएगा। जब Haward में पड़ने के chance पूरी तरीके से खत्म हो गया। तब आखिरकार 1988 में Hunan Normal University से english में graduation पूरा किया।

Jack MA का असफलताओं भरा Career

  Jack Ma के career की शुरुआत बहुत ही असफलताओं से भरी हुई थी। इन्होंने 30 अलग-अलग जगहों पर नौकरी के लिये आवेदन किया। लेकिन हर जगह, उन्हें निराशा ही मिली। इसी दौरान वह एक बार KFC में भी नौकरी के लिए गए। उस वक्त KFC चीन में पहली बार आया था। जिसमें 24 लोगों ने आवेदन किया था। उनमें से 23 लोग, तो select हो गए। लेकिन Jack Ma ही अकेले थे। जिनका selection नहीं हुआ।  इसके बाद Jack पुलिस में भर्ती होने के लिए भी गए। जहां 4 लोगों  को select कर लिया गया। इन्हें यह कहकर लौटा दिया गया।  तुम इस नौकरी के लिए ठीक नहीं हो।

     Jack की शुरुआत से ही English अच्छी थी। जिसके कारण एक कॉलेज में, उन्हें lecturer के पद पर रख लिया गया। इस पद पर इन्हें 12 dollar महीने पर रखा गया। जहाँ ये बच्चों को बड़े interest व passion के साथ पढ़ाते थे। इसके बाद इन्होंने खुद का english translator का काम किया। इसी सिलसिले में, 1995 की शुरुआत में वह अमेरिका गए। वहां उन्होंने पहली बार internet देखा। Jack Ma ने इससे पहले कभी भी इंटरनेट नहीं चलाया था। Jack ने जब पहली बार internet चलाया। तब उन्होंने Yahoo पर Beer शब्द खोजा। उन्हें Beer से संबंधित बहुत सारी जानकारियां, विभिन्न देशों से प्राप्त हुई। लेकिन वह, यह देखकर अचंभित थे। चीन का कहीं पर भी नाम नहीं था।

    उन्होंने चीन के बारे में सामान्य जानकारियां ढूंढने की कोशिश की। उन्होंने पाया कि चीन की कोई सामान्य जानकारी भी internet पर मौजूद नहीं थी। Jack को Net पर, एक अच्छी opportunity दिखाई दी। उसके बाद ही Jack ने internet से जुड़ा काम करने का सोचा। इन्होंने  अमेरिका से लौटने पर,  लगभग 50 लोगों को अपना idea बताया। 

      वह  China की market के लिए कुछ करना चाहते हैं। उन सब ने कहा कि उनके idea में बिल्कुल भी दम नहीं है। उनके idea को एकदम बकवास बताया। उन्होंने Jack Ma से कहा, कि तुम्हें तो खुद Computer चलाना नहीं आता। तुम एक ऐसी company बनाना चाहते हो। जो internet पर Business करेगी। तुम बुरी तरह से फेल हो जाओगे।

उन्होंने इसके बारे में थोड़ी और research की। अपने देश के छोटे-बड़े व्यवसाय को इंटरनेट से जोड़ने की योजना बनाई। इसके लिए इन्होंने, अपने मित्रों के साथ मिलकर एक website बनाई। जिसका नाम China Yellow Page था। विदेशों से इसको अच्छा response भी आने लगा। उनका concept अच्छा होने के बाद भी। चीन में उन्हें अच्छी funding नहीं मिल पाई। इसी के कारण उन्हें, इसे भी बंद करना पड़ा।

ऐसे हुई Alibaba.com की शुरुआत

  इतनी असफलताओं का सामना करने के बाद, शायद ही कोई होगा। जो आगे कुछ नया करना चाहेगा। लेकिन Jack Ma ने अपनी पत्नी और 20 अन्य लोगों के साथ मिलकर। उन्होंने 1999 में फिर से एक नई website बनाई। जिसका नाम alibaba.com था। ये एक online, B2B Platform था। इसमें भी उन्हें शुरुआती दौर में, कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ा।

Alibaba का काम किसी ना किसी तरह शुरू तो हो गया। लेकिन इसे बड़ा बनाने के लिए, उनके पास अधिक fund नहीं था। यहां तक कि वह fund के लिए Sillicon Valley भी गए। वहां किसी को भी इनका idea पसंद नहीं आया। Failure चाहे कितनी बार क्यों ना हो। लेकिन अपनी जिद और निरंतरता के चलते, आपके सपने एक दिन जरूर पूरे होंगे। लेकिन बाद में soft Bank ने एक बड़ा निवेश किया। इसके बाद एक साल में ही अलीबाबा profit में आ गई। उसके बाद फिर, कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

Ebay को दिखाया बाहर का रास्ता

   2002 में ebay एक बड़े fund के साथ, china के online market में प्रवेश किया। Jack Ma को लगा। कभी ना कभी तो ebay उनके रास्ते में आएगी। इसलिए उन्होंने 2003 में Taobao.com नाम से, दूसरी C2C site launch की।ये local online बाजार की site थी। 3 साल तक उन्होंने इस पर सभी तरह के transaction को free कर दिया।

इस पर सभी लोगों ने ebay जैसी बड़ी कंपनी से लड़ाई में। उनका ये पागलपन बताया। लेकिन Jack Ma कहां मानने वाले थे। बचपन से ही जिद्दी स्वभाव के होने के कारण, यह कहां मानने वाले थे। इन्होंने Taobao को चाइना की ebay site के रूप में को प्रचारित किया। इसी नीति के कारण लोगों के sentiments, Taobao से जुड़ गए। इसका लाभ भी Taobao को मिला। बिल्कुल रामदेव बाबा के देशी और विदेशी प्रचार नीति की तरह।

Jack Ma- A Successful Person

  इसी दौरान 2005 में Yahoo ने फंडिंग कर, अलीबाबा के 40% शेयर खरीद लिए। इतनी बड़ी funding व उनके प्रचार नीति के कारण। Ebay का टिकना मुश्किल हो गया। फिर 2 साल के भीतर ही, यह भी अपना बोरिया-बिस्तर बांध कर, चाइना से चली गई। फिर अलीबाबा आने वाले वर्षों में और बड़ी होती चली गई। कभी महीने के 800 रुपए कमाने वाले टीचर,एक सफल business man है।

      Forbes के अनुसार,आज इनकी net worth लगभग 275 लाख करोड़ मानी जाती है। आज विश्व के 9वें नंबर के ब्रांड है। 200 से ज्यादा देशों तक, इनका market watch हो चुका है। Jack Ma आज दुनिया के richest Person रूप में गिने जाते हैं। उनकी कुल संपत्ति 20 Billions Dollar  से भी ज्यादा है।

इतने बड़े Alibaba के Founder जैक मा में, आज भी कोई घमंड नहीं है। वह बहुत simple living में विश्वास रखते हैं।

Alibaba का नेटवर्क facebook से भी कहीं ज्यादा है। जितनी कमाई Amazon और Ebay मिलकर करती हैं। उससे कहीं ज्यादा Jack Ma की Alibaba अकेले करती है। हमें असफलताओं से घबराना नहीं चाहिए। बल्कि उसका समझदारी से मुकाबला करना चाहिए। क्योंकि वक्त हमेशा एक-सा नहीं होता है। अगर आपकी जिंदगी में अभी छांव है। तो इंतजार करिए, सफलता की किरण आपकी जिंदगी को भी रोशन करेगी। जब किसी काम में आपको असफलता मिलती है।तो वहीं आपको ज्यादा समझदारी से, उसी काम को करने का मौका देती है।

Jack Ma को लेकर एक बड़ा खुलासा

   जैक मा को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी सरकार ज़ख्मा से उनके उपभोक्ताओं का डाटा लेना चाहती थी। लेकिन Jack Ma इसके लिए बिल्कुल तैयार नहीं थे। इसी के बाद उनके गायब होने की खबर आई। आज की दुनिया में dollar के मुकाबले data का मूल्य कहीं से भी कम नहीं है। Data किसी भी उद्योगपति के लिए वह स्रोत है। जिससे dollar कमाए जा सकते हैं

     Jack Ma अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए। लगातार चीनी नियामक से बचते रहे। लेकिन चीनी राष्ट्रपति जिंगपिन के दखल देने के बाद। Jack Ma के पास सीमित रास्ते ही शेष रह गए। सरकारी एजेंसियों के मुताबिक, Jack अपने Alipay से लोगों को loan देते थे। फिर उससे पैसा कमाते थे। जबकि loan डूबने पर सारी जिम्मेदारी बैंकों की होती थी। Jack Ma के App- Alipay के पास लगभग एक अरब लोगों का data है। इन data के आधार पर Jack के पास, लोगों के खर्च करने के आंकड़े, loan लेने के आंकड़े और financial habits से जुड़े data इकट्ठा है।

   

Leave a Reply

Your email address will not be published.