Advertisements

Richa Kar- Founder of Zivame | सफलता की कहानी

Richa Kar- Founder of Zivame | Success Story

   Zivame की CEO व Founder, Richa Kar ने 700 करोड़ की कंपनी खड़ी कर दी।जिस काम को लेकर उनकी माँ को शर्मिंदगी महसूस होती थी। Richa Kar ने लोगों व समाज की परवाह न करते हुए,सफलता की नई ऊंचाइयों को छुआ। Richa Kar की story आज सभी युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत है। Zivame एक ऐसा online platform है,जो महिलाओं के हित के लिए बनाया गया।

       अगर आप सही हो।तो कुछ भी साबित करने की कोशिश मत करो। प्रयास करो और सही बने रहो। गवाही वक्त खुद दे देगा।

इंसान चाहे तो, कुछ भी असंभव नहीं होता है। हमारे भारत में जहां महिलाओं के अंडर गारमेंट्स पर बात करना भी, शर्म की बात मानी जाती है। वहां किसी लड़की को, उसको बेचने के बारे में सोचना। यह उस लड़की की सोच को सलाम, करने की जरूरत है।

Richa Kar- सफलता की कहानी

  किसी भी बिजनेस का idea आना। फिर उसे शुरू कर, आसमान की बुलंदियों तक पहुंचाना। यह दोनों बहुत अलग बात है। दूसरे देशों की तुलना में। आज भी हमारे भारत देश में औरतों के लिए दुकान से under garments खरीदना। बहुत ही ज्यादा मुश्किल का विषय है। खासकर तब, जब shopkeeper कोई पुरुष हो। लेकिन बहुत कम लोग ऐसे होते हैं। जो महिलाओं की इस समस्या को समझते हैं। इसे कम करने के लिए, कोई सही प्रयास करते है। 

  वही एक ऐसा शख्स भी है। जिसने लोगों की परवाह किए बगैर। लोग क्या सोचेंगे। एक ऐसा business, एक ऐसा कदम उठाया। जिससे वह आज 700 करोड़ से ज्यादा की कंपनी खड़ी कर पाई है। वाकई इनकी सोच काबिले तारीफ है। अपनी कड़ी मेहनत और dedication से, एक lingerie brand  की कंपनी खड़ी की। Zivame- lingerie brand की CEO और founder है- Richa Kar

Richa Kar
Education and Family Background

  रिचा कर का जन्म 17 जुलाई 1980 को झारखंड के जमशेदपुर शहर में हुआ। यह एक मध्यम वर्गीय परिवार से सम्बंध रखती है। इनकी मां एक house-worker और पिता Tata Steal Company में काम करते हैं। बचपन से ही इनका academy background रहा है। schooling पूरी करने के बाद, बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस,पिलानी से अपना graduation पूरा किया। इनका उद्देश्य बचपन से ही कुछ अलग करने का था। अपनी एक अलग पहचान बनाना थी। इसलिए इन्होंने एक IT Sector की कंपनी में, बतौर software analysis के पद पर काम करना शुरू कर दिया।

Richa's First Job

  सिर्फ नौकरी करना, इनका उद्देश्य नहीं था। इसलिए इंजीनियरिंग करने के बाद, इन्होंने MBA करने का मन बनाया। जिसके चलते इन्होंने अपना MBA पूरा किया। फिर इन्होंने Spencers Company में brand communication एरिया मैनेजर के तौर पर भी काम किया। इन्हें साल 2010 में SAP कंपनी के साथ business Consultant के तौर पर, काम करने का मौका मिला। यहाँ पर उन्होंने leader ship के बारे में भी बहुत कुछ सीखा। कैसे बिजनेस में काम होता है, यह भी समझा। धीरे-धीरे यह उनका जुनून बनता गया। जिसने उन्हें Zivame बनाने के लिये प्रेरित भी किया। 

      इनके लिए यह एक बहुत अच्छी opportunity साबित हुई। लेकिन Richa के दिमाग में तो, कोई और idea घर कर चुका था। उन्होंने इन कंपनी से नए Business, Leadership और कोई भी Business कैसे work करता है। इनकी knowledge अच्छी तरीके से मिल चुकी थी। इसके साथ ही, यह भी पता चल चुका था। किसी बिजनेस को शुरू करने के लिए proper knowledge का होना बेहद जरूरी है।

      Richa को अपना बिजनेस शुरू करने के लिए, बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। बिना plan और strategy के  आप, किसी भी बिजनेस को grow नहीं कर सकते। शायद इनके लिए, यह एक plus point था। क्योंकि इन्होंने MBA भी किया था। कई कंपनियों का work experience भी था। बस फिर क्या था। इन्होंने अपने idea से एक E-commerce कंपनी Zivame की नींव रखी।

मुश्किलों भरा सफर

   Richa Kar को शुरुआत में तो, अपने घर में ही विरोध झेलना पड़ा था। रिचा की मां ने अपनी बेटी का यह कहकर विरोध किया। हम अपने जान-पहचान वालों से क्या कहेंगे। हमारी बेटी ब्रा और पेंटी बेंचती है। रिचा बताती हैं कि उनके पिता को तो, यह भी समझ में नहीं आया। वह कौन-सा काम करना चाहती हैं। वह कहती हैं। जब शुरू में लोगों को, हमारे बिजनेस के बारे में पता चला। तब लोग उन पर हंसते थे। उनका मजाक बनाया जाता था।

शुरुआती दौर में तो उन्हें अपने बिजनेस के लिए, जगह ढूंढने में भी समस्या होती थी। जब वह मकान किराए पर लेने जाती। उस वक्त मकान मालिक, उनसे उनके बिजनेस के बारे में पूछते थे। तब वह उनसे केवल इतना ही कह पाती थी। वह online कपड़े बेचती हैं। तब जाकर उन्हें जगह मिलती थी। इसी तरह online shopping website- Zivame के लिए, Payment gateway हासिल करना भी चुनौतीपूर्ण रहा। इन चुनौतियों का सामना करते हुए, Richa कभी पीछे नहीं हटी।

Object of Zivame- To Help Women

Zivame का मुख्य उद्देश्य था।महिलाओं की मदद करना। भारत के कई शहरों में, तब Lingerie के अच्छे ब्रांड उपलब्ध नहीं रहते थे। लोग Lingerie Products के online portal पर होने के बारे में, सोच भी नहीं सकते थे। सबसे बड़ी समस्या यह थी। कई शहरों में महिलाओं को Lingerie की खरीदारी करने में दिक्कत आती थी। औरतें अपनी जरूरत की चीजों को लेने में भी हिचकिचाती  थी। कारण भी यही था। कि ज्यादातर लोग इस बात से unaware थे। यहां तक कि कई लोगों को Lingerie के बारे में, बोलने में शर्म आती थी। Richa Kar ने इस gap को कवर करने के लिए 25 अगस्त 2011 को ई-कॉमर्स प्लेटफार्म पर Zivame की शुरुआत की।

Meaning of Zivame

Richa Kar अपनी website का नाम Ziva रखना चाहती थी। लेकिन website का नाम उपलब्ध ना होने के कारण। उन्हें इसका नाम Zivame रखना पड़ा। जिसका अर्थ  होता है- मुझ में चमक होना।  Zivame बिजनेस एक distribution system के साथ आना चाहता था। जो lingerie के physical distribution की दिक्कतों को दूर कर सके। Zivame में ऑनलाइन product expert भी हैं। जिनसे महिलाएं chat भी कर सकती हैं। उनसें सवाल भी पूछ सकती हैं। Richa अपने ग्राहकों को, अच्छी सर्विस देने में भी विश्वास करती है। इससे customer का Zivame पर भरोसा बनता रहा। इससे इसके बिजनेस में stability भी आती गई।

उन्होंने इस बिजनेस को कुछ इस तरह से design किया। जिससे कि यह बिजनेस महिलाओं की demand को पूरी कर सके। होजरी के लेन-देन के बिजनेस को बखूबी संभाले। किसी भी business को शुरू करने के लिए, funds की सबसे पहले जरूरत होती है। जिसके लिए Richa ने कुछ अपने पैसे, friends और relative के पैसों को invest किया। जब इन्होंने अपने बिजनेस शुरुआत की।तब इनकी शादी नहीं हुई थी।

Success of Richa Kar

 कॉलेज के समय से,ये अपने batchmate केदार गोविंद को डेट कर रही थी। फिर आगे चलकर, उन्हीं से इनकी शादी हुई। यह बताने का एक मात्र उद्देश्य है। केदार ने शुरू से ही इनका सहयोग किया। जब इन्होंने यह बिजनेस शुरू किया। तब उनकी मां को भी चिंता हुई। तुम्हारे यह बिजनेस करने पर, मैं अपने मिलने-जुलने वालों को, क्या जवाब दूंगी। वह क्या कहेंगे। लेकिन उन्होंने अपना लक्ष्य decide कर लिया था। Parents के मान जाने का एक reason यह भी था। वह जानते थे कि लड़की educated है। अगर यह बिजनेस नहीं चला। तो कहीं ना कहीं job तो आसानी से मिल ही जाएगी।

        इन्होंने E-commerce Company को कुछ इस तरह से डिजाइन किया। कि Products आसानी से customer तक पहुंचे। साथ ही महिलाओं को सही फिटिंग चुनने का मौका भी मिले। इन्होंने अपने प्रोडक्ट में बेस्ट क्वालिटी के साथ-साथ, कई सर्विस भी provide की। जैसे कि exchange offer, money back गारंटी व  discount offer भी देना शुरू किया। इस बिज़नेस में इन्हें कई  Up & downs का सामना भी करना पड़ा। 2015-16 में इनकी कंपनी को 54 करोड़ का घाटा भी झेलना पड़ा। लेकिन तब भी Richa Kar ने हिम्मत नहीं हारी।

आज Zivame, 5000 से ज्यादा  range, 50 से ज्यादा brands और 1000 से ज्यादा size शामिल कर चुका है। उनकी website पर हर महीने 2.5 मिलियन unique visitors आते हैं। हर 1 मिनट में website पर, उनके under garments भी बिक जाते है। आज इस कंपनी में, कई बड़े-बड़े इन्वेस्टर्स ने fund invest किया है। Zivame आज ऐसी कंपनी बन चुकी है। जो आज लाखों करोड़ों महिलाओं को बेस्ट क्वालिटी प्रोडक्ट के साथ, सुविधाएं भी उपलब्ध करा रही है। अपने हौसले और जुनून के दम पर Richa Kar ने वह कर दिखाया। जो किसी ने सोचा भी नहीं था। एक entrepreneur के रूप में रिचा कर की यात्रा motivational है। आज के युवा entrepreneur को, उनसे बहुत कुछ सीखना भी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.