Advertisements

Rework Book Summary in Hindi। अपना बिजनेस अभी ₹0 से शुरू करे

Rework Book Summary in Hindi। Rework Book by Jason Fried & David Heinemeier Hansson Rework Book क्यों पढ़नी चाहिए। काम करने का तरीका बदलो। अपना बिजनेस ₹0 से शुरु करें। बिज़नेस करिए, स्टार्टअप नहीं। कैसे शुरू करें, कोई भी बिजनेस। चौका देने वाली Business Tactics। स्टार्ट अप कैसे स्टार्ट करे। How to Start a Business without money। Rework Book Review in Hindi। Rework in Hindi। Business Development Book in hindi। How to make money in hindi। Book Summary in Hindi। How to attract Customers in Hindi। Rework Book in Hindi। Rework Summary in Hindi। How to change the way you work forever in hindi

Rework Book Review in Hindi
Advertisements

Rework Book Summary in Hindi
कैसे शुरू करे कोई भी बिजनेस

आप जब भी कोई Business book पढ़ेगे। तो ज्यादातर books में, आपको एक ही जैसी सलाह मिलेगी। जैसे एक business plan लिखें। Competition की study करें। Investor खोजें आदि।  अगर आप इसी तरह की कोई और दूसरी book की खोज रहे हैं। तो फिर Rework आपके काम की नहीं है।

       लेकिन अगर आप चाहते हैं कि आप कोई एक ऐसी book पढ़े। जो आपको business में success होने का better, faster और easier way दिखाएं। यह बताएं कि plans बनाने, outside investor खोजने, competition की study करने, workaholic बनने, paperwork व meeting में समय बर्बाद करने और office maintain करने की कोई आवश्यकता ही नहीं है।

      तो केवल और केवल, Rework ही एक ऐसी book है। जो आपको इन सवालों के जवाब दे सकती है। Rework book आपको वास्तव में यह बताती है। कि असल  में, आपको इन सबके बारे में, अब बात करना बंद कर देना चाहिए। बल्कि काम करना शुरु कर देना चाहिए। यह सिखाएगी कि आप more productive कैसे बनें। कैसे अपने पैसे बर्बाद किए बगैर, अपने काम को exposure दें। 

       इस book में आप, इससे भी ज्यादा counter initiative ideas यानी प्रतिवादात्मक विचार जानेंगे। जो आपको inspire और provoke करेंगे। Rework आसान भाषा और एक बेहतर दृष्टिकोण के साथ। उन सभी के लिए, एक सटीक tool है। जिन्होंने अपने दम पर, कुछ करने का सपना देखा है। यह book hardcore entrepreneur, small business owners, नौकरी के शिकार और artist आदि के लिए, बेहद valuable guidance से भरी हुई है।

       Rework – change the way, you work forever को पढ़ने से पहले। यह जानते हैं कि इसे आपको क्यों पढ़ना चाहिए। तो जानते हैं, वह 4 मूलभूत बातें। जो Jason Fried और David Heinemeier Hansson हमें सिखाना चाहते हैं।

Rework - Don't be Afraid of Mistakes in Work
काम मे होने वाली गलतियों से डरे नही

कोई भी काम करना, इसलिए बंद न करें। या फिर शुरू करने में, झिझकें नहीं। कि आपसे गलतियां होंगी। बल्कि आपके मस्तिष्क में, जब यह विचार आये। तो इसे इस तरह सोचें कि mistake आपकी learning process का एक हिस्सा है। इससे ज्यादा कुछ भी नहीं है। हमारे पास ऐसे कई बहाने होते हैं। जिनका use हम अपने comfort zone से बाहर के कामों को करने से, बचने के लिए करते हैं।

      जैसे हमारे पास पर्याप्त समय नहीं है। इस तरह के बहाने, हम अक्सर failure से बचने और अपने अहंकार को बचाने के लिए करते हैं। इस बात की, आपको कई बार सलाह भी मिलती होगी। कि फलां इंसान ने यह काम किया था। देखो, वह आज बर्बाद हो चुका है। इसी बारे में, यह book हमे सिखाती है। कि दूसरे लोगों ने जो किया है। वह आपसे अलग circumstances और माहौल में किया या सीखा है।

      इसलिए उसका पालन करने की, आपको कोई आवश्यकता नहीं है। उनकी सीखों को, अपने नियम बनने की अनुमति न दें। उनके आधार पर, यह तय न करें। क्या काम करेगा और क्या नहीं करेगा। क्योंकि दूसरे लोगों की गलतियां, आखिर दूसरे लोगों की ही गलतियां है। उनका आपसे कोई लेना-देना नहीं है। आप अपनी असफलताओं से ज्यादा, अपनी सफलताओं से सीखते हैं। सफलता से आप जानते हैं कि क्या काम करता है।

      इसलिए आप सफलताओं को बार-बार दोहरा सकते हैं। लेकिन असफलताएं आपको सिखाती है कि क्या काम नहीं करता है। किसी दूसरे की सफलता, आपको यह नहीं बता सकती। इसलिए आपका, यह समझना बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है। कि success पाने के लिए, failure का आना जरूरी नहीं है। यह book आपको बहुत ज्यादा tension लेने की बजाएं। अगले सबसे important काम पर, focus करने के लिए सक्षम बनाती है।

Rework - Don't Stick to your Earlier Plan and Make Changes in it on time
अपनी पूर्व इच्छा पर अडिग न रहकर उसमे समय-समय पर बदलाव करे

अगर आप बड़े plan बनाते हैं। फिर उन पर अड़िग रहते हैं। तो आपका भविष्य, मुसीबत में पड़ सकता है। आप इन बड़े plans को plans न कहकर, इन्हें  strategic guess कह सकते हैं। ये वास्तविकता में यही होते हैं। मान लीजिए, आपने strategic plan बनाएं। ताकि आपको दिशा की स्पष्ट कल्पना रहे। कि आपको किस ओर जाना है।

      आज आपने जो strategic plan बनाया है। वह future में relevant होगा या नहीं। यह हम पूर्वानुमान नहीं कर सकते। समय-समय पर, इसमें बदलाव आवश्यक होते हैं। ताकि आप future में आने वाली, उन दिशाओं में आगे बढ़ना जारी रख सकें। जो उस समय सबसे ज्यादा perfect होगी। यहां आपको बहुत से brands के बारे में जानना जरूरी है। जिन्होंने अपना बिजनेस शुरु, तो किसी दूसरे काम से किया था। लेकिन आज वे  उससे बिल्कुल अलग business में है। वे अब दुनिया के सबसे बड़े brands बने हुए है।

      इनमें सबसे जाना-पहचाना नाम Amazon का है। जिन्होंने book बेचने से, अपना बिजनेस शुरु किया। आज सब कुछ बेच रहे हैं। Youtube डेटिंग साइट से शुरु होकर, आज video sharing का सबसे बड़ा platform है। OLA आज ride sharing business से electric scooter के बिजनेस में है। Netflix ने अपना कारोबार DVD rent पर देने से शुरु किया था। लेकिन आज वह, online streaming के बिजनेस में है।

    इसी तरह से Instagram अपने checking business से social media के बिज़नस में है। TATA ने एक trading farm से अपना कारोबार शुरू किया था। आज इसे हर क्षेत्र में फैला लिया है। Starbucks ने coffee beans से शुरु होकर, आज drink business में है। वहीं Nokia एक paper mill से शुरु होकर, आज mobile device बिजनेस में है।

      इसलिए यह book, इसे बेहतर तरीके से सिखा सकती है। कि अक्सर योजनाएं बहुत पहले बना ली जाती है। भविष्य में जब उन्हें लागू करने का समय आता है। तो उनका, तब कोई मतलब नहीं रह जाता है। क्योंकि past में सोचा गया भविष्य, बदल जाता है। यदि आप अपनी planning को छोटे-छोटे भागों में बांट लेते हैं। जिन्हें हम एक निश्चित टाइम में माप सकते हैं।

    जैसे weekly planning या फिर इसे daily monitoring system आदि के द्वारा तय कर सकते हैं। तो आपको किसी बड़ी चीज का अनुमान लगाने की तुलना में, इसके सटीक होने की ज्यादा संभावनाएं होंगी।

Rework- Don't be a Workaholic about your Work
अपने काम को लेकर workaholic न बने

मैं जब भी कहीं ये सुनता हूं कि 24 घंटे में से 19 घंटे अपने काम को करते हुए  बिताओ। तो मुझे कंपकपी-सी चढ़ने लगती है। उस समय मैं स्वयं को energetic न महसूस करके। डरा हुआ सा महसूस करने लगता हूं। फिर सोचने लगता हूं कि अगर मुझे इतना ही काम करना है। तो फिर वह सब, कब और कैसे करूंगा। जो बड़े लोग करते हैं। जैसे दुनिया की सैर, एकांत में बैठकर बांसुरी सीखना और बजाना। कोई पेंटिंग करना।

    योग, ध्यान और प्राणायाम करना। अपने स्वयं के बारे में जानने के लिए, ढेर सारी पुस्तकें पढ़ना। नए-नए दोस्त बनाना। नए-नए क्षेत्र देखना। इसी तरह के वे सभी काम, जो आप सोचते हैं। इस बारे में यह book सिखाती है कि आप workaholic  बनकर, जितना हल करते हैं। उससे कहीं ज्यादा, तो आप समस्याएं पैदा करते हैं। Workaholic इंसान अपने intelligence की कमी को छुपाने के लिए। Force यानी बल का प्रयोग और ज्यादा ताकत से करते हैं।

      वे ऐसा स्वयं अच्छा महसूस करने के लिए भी करते हैं। न कि समस्याओं को सुलझाने के लिए। यदि आप भी यह मानते हैं। कि workaholic होना एक अच्छा गुण है। तो आप यह नहीं जानते होंगे कि आपकी इस समय असल मे वास्तविक समस्याये क्या है। हां, यह लोग इतनी मेहनत, कभी-कभी इसलिए भी करते हैं। ताकि दूसरों को नीचा दिखाया जा सके। वे यह साबित कर सकें कि वास्तव में उनसे ज्यादा dedication से, यह काम कोई और नही कर सकता है। Author लिखते हैं कि आवश्यकता पड़ने पर ही, इतनी कड़ी मेहनत करें। न कि हर समय। वरना आप one man army से ज्यादा कुछ नहीं होंगे।

Rework- Focus on What You Have Now
आपके पास जो अभी है, उस पर ध्यान दे

इससे कोई फर्क नही पड़ता कि आपका विचार कितना शानदार व क्रांतिकारी है। यदि आप इसे अच्छी तरीके से एग्जीक्यूट करने में सक्षम नहीं है। तो यह कुछ भी नही है। Fried और Hansson एक iconic filmmaker- Stanley Kubrick का उदाहरण देते हुए, इस point को स्पष्ट करते हैं। उनके inspiring फिल्ममेकर को यह सलाह थी कि एक कैमरा और फिल्म ले। फिर फिल्म की शूटिंग शुरू कर दें। Kubrick, starting और creating के महत्व को जानते थे।

      उसी तरह entrepreneur को, अपने प्रयासों में सफल होने के लिए, ऐसा ही करने की आवश्यकता है। जब आपके product को launch करने की बात आती है। तो आप एक समय सीमा तय करें। यहां तक कि अगर आपके पास, अपने product के पूरी तरह से तैयार होने से, पहले की जाने वाली चीजों की एक proper list हैं। तो launch का सबसे अच्छा तरीका यह होगा कि आप इसे अभी launch कर दें।

    बाद में, अपने उत्पाद में improvement और उसका duplication करते रहे। इस approach का support, Eric Ries भी करते हैं। जिन्होंने अपनी पुस्तक The Lean Startup में MVP Concept के बारे में बताया है। Seth Godin ने भी अपने shipping approach के द्वारा। इस concept को अपनी book – Linchpin में detail से समझाया है।

Obstacles that come in the beginning of a Business are Good
बिज़नेस की शुरुआत मे आने वाली बधाएं, अच्छी होती है

क्योंकि तब आप उनसे creative होना सीखते हैं। तब आपके पास जो है। उसी के दायरे में रहकर, आप वह सब करते हैं। हमेशा आपके पास उपलब्ध संसाधनों के साथ, अपनी मूल चीजों को सर्वश्रेष्ठ बनाने पर बहुत ज्यादा ध्यान दें। इसे समझने के लिए, एक architect का example लेते हैं। वह कभी भी बिल्डिंग पर काम करना शुरू करते वक्त। फर्श के tiles की details  योजना नहीं बनाता है।

      यदि आप भी इस बात पर focus करते हैं कि आप अभी क्या कर सकते हैं। तो बड़ी पिक्चर के बजाय, आप वह करना सीखेंगे। जो आपके लिए काफी अच्छा होगा। क्योंकि लंबी planning, आपके मनोबल को कम कर सकती है। बड़ी planning के बजाय, आप कुछ बेहद basic चीजों से शुरू करें। ताकि हमेशा प्रगति करते रहे। अगर आपके सामने कोई बड़ी समस्या है। तो पूरी समस्या को solve करने का प्रयास न करें।

      बल्कि सबसे पहले तो, इसके मूल में जाएं। पता लगाएं कि आखिर इसकी जड़ कहां है। फिर यह जाने कि इसकी ऐसी कौन-सी चीज है। जिस पर आप काम कर सकते हैं। जैसे जब भी आपके सामने, किसी party को arrange करने का मौका आया होगा। तब आपने शायद ही, यह विचार किया होगा। कि आपको ही यहां पर, खाने वाली सभी dishes पकानी पड़ेगी। 

     आप जैसे किसी party का arrangement करने के लिए, management करते हैं। ठीक वैसे ही किसी समस्या को deal करना चाहिए। आप हर काम नहीं कर सकते हैं। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण काम को अवश्य चुन सकते हैं।  उसे बेहतर तरीके से कर भी सकते हैं। उन कामों को preference दें। जिन्हें आप करना चाहते हैं। जटिल समाधान की तुलना में, सरल समाधान बेहतर होते हैं।

     इसी तरह एक quick solution, एक complete समाधान से बेहतर है। Perfectionism के बजाय, पर्याप्त अच्छाई का लक्ष्य रखें। अपने business को बुलंदियों पर ले जाने के लिए, हमेशा तैयार रहे। आपके बिजनेस का मूल, उन habits पर best होना चाहिए। जिन्हें लोग आज बदलना चाहते हैं। आप उन पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे पाएंगे। जिन habits को लोग आज से 5 या 10 साल बाद बदलना चाहेंगे।

Keep your To-Do List short
अपनी To-Do लिस्ट को छोटा रखे

    आपको तो आज पर ही ध्यान देना पड़ेगा। यह book सिखाती है कि आज के selection के द्वारा, आज के result पर focused कैसे रहा जाए। आपकी To Do list जितनी ज्यादा लंबी होगी। उसमें उतने ही ज्यादा अधूरे items होगे। वो आपको बेहद खराब दिखेंगे। दूसरी ओर छोटी To Do list हमेशा आपकी productivity और motivation पर। Amazing impact डाल सकती है।

  इसलिए Fried और Hansson का आपको सुझाव है कि अपने To Do की लंबी list को तोड़कर, छोटा कर ले। इसका प्रभाव यह होगा कि जब भी आप छोटी तस्वीर को देखेंगे। तो आप ज्यादा progress करते हैं। यह उस big picture को घूरने और उससे भयभीत और demotivate होने से कहीं ज्यादा बेहतर होगा।

          यह entrepreneurs के लिए, पढ़ी जाने वाली books में से एक है। बिना समय बर्बाद किए। इसे पढ़ना शुरू कर देना चाहिए। क्योंकि यह book आपको अपने दम पर business करने के लिए, अति महत्वपूर्ण आत्मविश्वास को बढ़ावा देगी। इसमें कुछ business advice डरावनी हो सकती है। लेकिन start-up ज्ञान और प्रेरणा की खुराक प्राप्त करने के लिए, यह एक बेहतरीन book है।

     सभी entrepreneur जो आज most important decision लेने में सक्षम नही है। सिर्फ अपने doubt की वजह से अटके हुए है। उनके लिए इस book में valuable business lessons हैं। यदि आप अभी कोई बिजनेस शुरू करने जा रहे हैं। या फिर अपने आप को किसी ऐसी नौकरी में फंसा हुआ महसूस कर रहे हैं। जिससे आप घृणा करते हैं। या फिर ज्यादा productive बनना चाहते हैं। 

    तो Rework book आपके लिए एक बेहतरीन गाइड हैं। इसमें लेखक आपको काम करने का एक efficient, productive और straight forward तरीका बताते हैं। यह आपको उससे उबरने में सहायता करती है। जो आपको आज तक पीछे रूके हुए हैं। यह सिखाएगी कि एक idea से execution ज्यादा important क्यों है। यह भी की आपको competition को कैसे avoid करना चाहिए।

Humble Request

     Rework आपको बताएंगी। कैसे आप Productive बने। कैसे बड़े planning से बचें। बेहतर निर्णय कैसे लें। बेहतर meetings को कैसे host करें। अगर आप भी इन सभी चीजों को सीखकर, सब कुछ अपने अनुरूप  करना चाहते हैं। तो मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप तुरंत नीचे दिए गए Book REWORK के Link पर Click करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.