Advertisements

Anupam Kher Biography in Hindi | एक कश्मीरी पंडित की पूरी दास्ताँ

Anupam Kher Biography in Hindi। Anupam Kher Struggle Story in Hindi। अनुपम खेर की जीवनी। अनुपम खेर की जिंदगी के अनछुए पहलू। अनुपम खेर का जीवन परिचय। अनुपम खेर – एक कश्मीरी पंडित की दास्तां। अनुपम खेर ने मंदिर से क्यों चुराए पैसे। अनुपम खेर की कहानी। The Kashmir Files Actor – Anupam Kher।  Biography of Anupam Kher। Anupam Kher Success Story in Hindi। Anupam Kher Biography। Anupam Kher Wife। Anupam Kher Son and Family। Anupam Kher Income and Net-Worth। Anupam Kher Lifestyle 2022 Anupam Kher in Hindi

Anupam Kher Biography in Hindi
एक कश्मीरी पंडित अनुपम खेर की कहानी

ऊपर वाले ने हम सबको, एक अनोखी पहचान दी है। इस जीवन में कुछ अनोखा करने के लिए। हर कोई आशा करता है कि  उसका जीवन सफल हो। वह उन ऊंचाइयों को छुए। जिसकी वो कल्पना करता है। यह शख्स भी, कुछ अलग नहीं है। उनका सपना था कि वह एक अभिनेता बने।

हम सब सपनों की दुनिया में जीते है। लेकिन इनका मानना है कि अपने सपनों को सच करने का सबसे अच्छा तरीका है। आप जाग जाओ। कहते हैं – Dreams are just a reflection of your Desires। मतलब सपने सिर्फ आपकी इच्छाओं का एक प्रतिबिंब हैं।

       लेकिन आँख खुलते ही, आपके सामने वह शक्ति आ जाती है। ताकि आप अपनी इच्छाओं को पूरा कर सकें। यह शक्ति ऊपर वाले ने, सबको बराबर दी है। फर्क सिर्फ इतना है कि मुट्ठी भर लोग ही, इस बात को समझ पाते हैं। बाकी निराशाजनक जिंदगी बिताते हैं।

लेकिन ऐसा क्यों है। क्योंकि लोगों का life में नजरिया, बहुत निराशावादी यानी pessimistic हो गया है। कोई भी अनोखी घटना, हमारे लिए एक अपवाद बन जाती है। हम सोचने लगते हैं कि ऐसा कुछ हमारे साथ नहीं हो सकता।

     किस्मत पर मटकी फोड़ना, तो हमारी खानदानी आदत है। एक छोटे कद का आदमी, कभी Basketball Player नहीं बन  सकता। शरीर से भारी आदमी, dancer नहीं बन सकता। एक आम देखने वाला आदमी, कभी अभिनेता नहीं बन सकता। ये है, हमारी life के preconceived questions। धीरे-धीरे हमें अच्छाइयां दिखनी बंद हो जाती है। हम हर चीज में बुराई ढूंढते हैं। 

     एक खूबसूरत सफेद दीवार पर कोने में, अगर एक काला दाग हो। तो हमें सिर्फ दाग देखेगा। वह सफेद रंग नहीं। याद रखिए कि एक निराशावादी व्यक्ति को, हर अवसर में कठिनाई दिखाई देती है। लेकिन एक आशावादी व्यक्ति को, हर कठिनाई में अवसर दिखाई देता है। ऐसी ही सोच रखने वाले, एक सुप्रसिद्ध अभिनेता है। लेखक हैं। मोटिवेशनल स्पीकर हैं। जिनका नाम है – अनुपम खेर जी।

      इन्हें चाहें किसी भी किरदार में ढाल दो। वो अपने आपको, कुछ इस कदर audience के सामने पेश करते हैं। जिसकी वजह से, वह उस किरदार को एक अलग ही जीवंत रुप दे देते है। इन्होंने अपने career में, बहुत सारी सुपर हिट फिल्मों में काम किया है।

चाहे वो action हो। Comedy हो या फिर पारिवारिक फ़िल्म हो। हमेशा से ही वह हर एक किरदार में फिट बैठते है। यही वजह रही है कि उन्होंने अपने career में 600 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया।

Anupam Kher Struggle Story in Hindi
Advertisements

Anupam Kher - An Introduction

 

अभिनेता – अनुपम खेर

एक नज़र

पूरा नाम

अनुपम खेर

जन्म-तिथि

7 मार्च 1955

जन्म-स्थान

शिमला, हिमाचल प्रदेश, भारत

जाति

कश्मीरी पंडित

पिता

स्व० पुष्कर नाथ खेर (वन विभाग में क्लर्क के पद पर)

माता

दुलारी खेर (ग्रहणी)

भाई

राजू खेर (अभिनेता) चो

स्कूल

डी०ए०वी पब्लिक स्कूल, शिमला, हिमाचल प्रदेश

कॉलेज

● पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ 

● नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, नई दिल्ली

शैक्षिक योग्यता

रंगमंच ड्रामा में स्नातक

विवाह

◆ मधु मालती कपूर 1970 (पहली पत्नी)

◆ किरण खेर (1985)

बच्चे

सिकंदर खेर (सौतेला बेटा) किरण व गौतम का



व्यवसाय

● अभिनेता

● निर्देशक

● निर्माता 

● लेखक

● शिक्षक 

● मोटिवेशनल स्पीकर






डेब्यू

● फिल्म – आगमन (अभिनेता) 1982 

● अंग्रेजी फिल्म – नेहरु: द ज्वेल ऑफ इंडिया 1987

● फिल्म – ओम जय जगदीश (निर्देशक) 2002

● चाइनीज फिल्म – Lust Caution 2007

●  हॉलीवुड फिल्म – गांधी पार्क 2007







पुरस्कार 

व 

सम्मान

◆ 1985 – फिल्म फेयर अवार्ड – सर्वश्रेष्ठ अभिनेता- सारांश 

◆ 1996 – फिल्म फेयर अवार्ड – सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता – दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे  

◆ 1993 – फिल्म फेयर अवार्ड – सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता – खेल 

◆ 1994 – फिल्म फेयर अवार्ड – सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता – डर

◆ 2004 – पद्मश्री अवार्ड

2016 – पद्म भूषण

इनकम

3 – 5 करोड़ प्रति फ़िल्म

30 करोड़ + (प्रतिवर्ष)

नेट-वर्थ

$55 मिलियन (लगभग 405 करोड़)

अनुपम खेर का प्रारम्भिक जीवन
Early Life of Anupam Kher

   अनुपम खेर जी का जन्म 7 मार्च 1955 को हिमाचल प्रदेश के शिमला में हुआ। अनुपम खेर जी वैसे तो, एक कश्मीरी पंडित हैं। इनके पिता की नौकरी शिमला में थी। जोकि फॉरेस्ट डिपार्टमेंट में, एक क्लर्क के पद पर थे। इसलिए इनका जन्म शिमला में हुआ। इनके पिता का नाम पुष्करनाथ खेर था। वहीं इनकी माता जी दुलारी खेर, एक ग्रहणी है।

     अनुपम खेर का शुरू से ही अपने माता-पिता से बेहद लगाव था। अनुपम जी एक जॉइंट फैमिली में पले-बढ़े। जिनमें चाचा-चाचियां, बहुत सारे cousins थे। कुल मिलाकर, इनके परिवार में 11 सदस्य थे। तब इनके पिता को तनख्वाह के रूप में, मात्र ₹90 मिला करते थे।

इनके पिता की कमाई ज्यादा अच्छी नहीं थी। उस पर, इनके परिवार में सदस्यों की संख्या बढ़ती जा रही थी। इसीलिए उनकी मां ने एक समय, अपने सभी आभूषण बेच दिए।

     परिवार में कितने भी आर्थिक परेशानियां क्यों न रही हो। लेकिन अनुपम को, उनका जेब खर्च मिल जाया करता था। वो 10 पैसे  प्रतिमाह हुआ करता था। अनुपम खेर के परिवार में, इनका एक छोटा भाई भी है। इनका नाम राजू खेर है। वह भी बॉलीवुड इंडस्ट्री में, एक अभिनेता के रूप में स्थापित हैं।

अनुपम खेर की शैक्षिक योग्यता
Educational Qualification of Anupam Kher

 अनुपम खेर की प्रारंभिक शिक्षा पांचवी कक्षा तक लेडी इरविन स्कूल में हुई। फिर आगे की शिक्षा, शिमला के ही डीएवी कॉलेज से हुई। बचपन से ही इन्हें एक्टिंग का बहुत शौक था। यह अपने टीचर्स की नकल किया करते थे। यह स्पोर्ट्स और पढ़ाई में बहुत अच्छे नहीं थे। लेकिन एक्टिंग के गुर, इनमें कूट-कूटकर भरे थे। उसके बाद, इन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ से अपनी स्नातक की शिक्षा पूरी की। 

     कॉलेज के दिनों में इनका व्यक्तित्व हर एक पर जादू कर देता था। क्योंकि इनका ग्रेजुएशन हिस्ट्री में हुआ था। बाद में, यह  थिएटर और ड्रामा का कोर्स करने के लिए दिल्ली आ गए। इन्होंने National School of Drama (NSD) नई दिल्ली से थिएटर और ड्रामा में ग्रेजुएशन किया। 

अनुपम खेर ने अभिनय के लिए की चोरी
Anupam Kher Steals for Acting

   नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा जाने से पहले, उन्होंने अपनी मां के मंदिर से पैसे चुराए थे। स्कूल और कॉलेज के दिनों में ही, इन्हें एक्टिंग का शौक चढ़ा गया था। तभी उन्होंने अखबार में, एक विज्ञापन देखा। जिसमें एक एक्टिंग कोर्स का जिक्र था। इसके लिए, उन्हें ₹100 की जरूरत थी। लेकिन अनुपम इसकी डिमांड, अपने पिता के सामने नहीं रख सकते थे।

       तब अनुपम खेर ने मंदिर से पैसे चुराने का फैसला किया। उन्होंने अपने आपको समझाया कि मैं तो सिर्फ भगवान कृष्ण की नकल कर रहा हूं। वह माखन चुराते थे। मैं एक्टिंग में जाने के लिए, अपनी मां के मंदिर से चंद रुपए चुरा रहा हूं। पंजाब यूनिवर्सिटी के Theatre Department में, इनका परिचय मशहूर बलवंत गार्गी और अमाल अलाना के साथ हुआ। इन्होंने उनके साथ नाटक करते हुए। बहुत सारी बातें सीखी।

   इनकी मेहनत रंग लाई। फिर पंजाब यूनिवर्सिटी के Theatre Department में, अनुपम बतौर गोल्ड मेडलिस्ट चुने गए। यही वजह रही कि यह सीधे नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा पहुंच गए।

अनुपम खेर के संघर्ष का दौर
Anupam Kher - Struggling Period

  1978 में जब अनुपम खेर नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से बाहर निकले। तो इन्हें लग रहा था कि यह थिएटर करेंगे। वह भी लगातार, लेकिन काम आसानी से इनके पास नहीं आया। दिल्ली के बंगाली मार्केट इलाके में, यह धोबी कॉलोनी में रहा करते थे। कभी-कभार जरूरत पड़ने पर, यह पैसे भी उधार लिया करते थे। मुफलिसी का आलम, इनकी जिंदगी में छा रहा था। तभी  भारतेंदु नाट्य एकेडमी (BNA), लखनऊ से एक ड्रामा टीचर की नौकरी का अवसर आया। 

     अनुपम खेर ने बतौर ड्रामा लेक्चरर BNA में काम करना शुरू कर दिया। लेकिन एक साल के अंदर ही, इनके अंदर का एक्टर जोश दिखाने लगा। फिर इनकी नौकरी करने की इच्छा खत्म होती गई। अभिनय करने के साथ-साथ, पैसा कमाना भी जरूरी था। संघर्ष के दिनों में, यह नौकरी ही इनका सहारा थी। तभी इनके एक मित्र ने कहा। मुंबई में भी तुम बतौर एक्टिंग टीचर काम कर सकते हो। फिर वहां पर struggle भी करते रहना।

       3 जून 1981 को अनुपम खेर ने, मुंबई के सरजमीं पर कदम रखा। फिर अनुपम खेर ने एक चाली में रहने का इरादा बनाया। तब इनका address हुआ करता था। अनुपम खेर – 2/15 खेरवाड़ी, खेर नगर, खेर रोड। यह महज इत्तेफाक था। तभी इनके मन में यह ख्याल आया। कि मुंबई उनके सपने जरूर सच कर देगी। जब पैसे न हो। तो इंसान अपने घर की तरफ ही रुख करता है। कुछ ऐसे ही हालात थे। इनके पास पैसे खत्म होते जा रहे थे। कहीं काम बन नहीं रहा था।

अनुपम खेर की वैवाहिक स्थिति
Anupam Kher - Marital Status

 अनुपम खेर का पहला विवाह 1970 में मधुमालती कपूर से हुआ था। लेकिन आपसी मतभेदों के कारण, इनका यह रिश्ता बहुत समय तक नहीं चला। अनुपम खेर का दूसरा विवाह, किरण खेर से हुआ। उनकी पहली मुलाकात पंजाब यूनिवर्सिटी में ही हुई थी। किरण खेर इनसे 1 साल सीनियर थी। इन दोनों ने एक साथ कई नाटकों में भी काम किया। लेकिन किरण अपने निजी जीवन में परेशान थी।

      किरण की पहली शादी बिजनेसमैन गौतम बेरी से हुई थी। किरण और गौतम की एक संतान भी है। जिनका नाम सिकंदर खेर है। लेकिन बाद में, उनकी शादी ठीक-ठाक नहीं चल पाई। तब इन दोनों ने तलाक लेने का फैसला किया। जब वह अपने पति से अलग हुई। तब इनकी दोस्ती अनुपम से हो गई। इस तरह मुलाकातों का सिलसिला बढ़ता रहा। इसके बाद सन् 1985 में, दोनों ने विवाह के बंधन में बनने का फैसला किया।

अनुपम खेर का बॉलीवुड मे प्रवेश
Anupam Kher - Entry in Bollywood

  दर-दर की ठोकरे खाने के बाद, अनुपम खेर महेश भट्ट से मिले। महेश भट्ट जानते थे कि वह एक अच्छे रंगमंच अभिनेता हैं। महेश भट्ट ने कहा कि हां अनुपम, मैंने तुम्हारा नाम सुना है। तुम बहुत अच्छे हो। तब अनुपम खेर ने जवाब दिया था। आपने गलत सुना है। मैं अच्छा नहीं, मैं सबसे बेहतर हूं। उनके इसी अंदाज पर, महेश भट्ट ने उन्हें फ़िल्म ‘सारांश’ के लिए साइन कर लिया। 

      जहाँ एक तरफ, उनकी किस्मत का दरवाजा खुल रहा था। वहीं पर एक बड़ी मुसीबत, उनके सामने चली आ रही थी। सारांश की शूटिंग के 10 दिन पहले। संजीव कुमार को इस फ़िल्म में, साइन करने की बात चल पड़ी। फिल्म के निर्माता यह नहीं चाहते थे। एक struggling actor को लेकर, यह experiment किया जाए। तब महेश भट्ट ने कहा था। अनुपम तुम कोई और किरदार निभा लो। यह किरदार संजीव कुमार साहब निभाएंगे।

     अनुपम खेर रो पड़े। चिल्लाने लगे। फिर कहने लगे कि महेश भट्ट, एक धोखेबाज इंसान हैं। तब महेश भट्ट ने फिल्म के निर्माता से बात की। उनसे कहा कि अगर अनुपम खेर इस फिल्म में हैं। तभी यह फिल्म बन सकती है। फिल्म सारांश की शूटिंग के समय, इनकी उम्र मात्र 28 साल थी। लेकिन इन्होंने एक वृद्ध व्यक्ति का किरदार बखूबी निभाया। यह किरदार कुछ इस तरह निभा दिया। कि अनुपम खेर ने सभी के दिल में घर बना लिया।

     फिल्म सभी को पसंद आई और सबने मान लिया। अनुपम खेर एक बेजोड़ अभिनेता है। इसके बाद करीब 10 दिन के अंदर ही, इनके पास 100 फिल्मों के offer थे। अनुपम खेर ने उसके बाद पलट कर नहीं देखा। चाहे वह जज्बाती किरदार हो या कॉमेडी। पिता का किरदार हो या दोस्त का। विलेन के किरदार में, डॉक्टर डेन को कौन भूल सकता है। अनुपम ने ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में शाहरुख खान के पिता का किरदार बखूबी निभाया।

      इसके बाद फिल्म ‘दिल’ में कंजूस बाप का रोल निभाकर, अनुपम खेर ने यह साबित कर दिया था। एक ही फिल्म में यह हर तरह का जज्बा दिखा सकते हैं।

अनुपम खेर को पुरस्कार व सम्मान
Anupam Kher - Honors and Awards

 अनुपम खेर को फिल्म ‘सारांश’ के लिए बेस्ट एक्टर का फिल्म फेयर अवार्ड मिला। इसके बाद उन्हें फिल्म ‘राम-लखन’ के लिए भी, बेस्ट एक्टर का फिल्म फेयर अवार्ड मिला। इसके बाद अनुपम ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। इन्होंने अपने कैरियर में बहुत सारी हिट फिल्म्स दी है। जिनमें ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे’, ‘कुछ कुछ होता है’, ‘जब तक है जान’ और ‘हैप्पी न्यू ईयर’ शामिल है।

     इसके अलावा अनुपम खेर ने तेलुगू, मलयालम, कन्नड़, मराठी व पंजाबी फिल्मों में भी काम किया। इसके साथ ही उन्होंने बहुत सारी Hollywood Movies में भी काम किया। जिनमें प्रमुख है- Bend it Like Beckham, Ang Lee’s Golden Lion, List, Caution। अभी 2019 में इनकी एक फिल्म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ रिलीज हुई थी। इन सबके अलावा अनुपम खेर की एक प्रोडक्शन कंपनी भी है। जिसके अंतर्गत इन्होंने 2002 में ‘ओम जय जगदीश’ फिल्म लांच की थी।

 

अनुपम खेर पुरस्कार व सम्मान

वर्ष

फिल्म

अवार्ड

1984

सारांश- सर्वश्रेष्ठ अभिनेता

फिल्म फेयर अवार्ड

1988

विजय- सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता

फिल्म फेयर अवार्ड

1989

राम लखन– सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता

फिल्म फेयर अवार्ड

1990

डैडी- सर्वश्रेष्ठ अभिनेता 

•फिल्म फेयर अवार्ड  

•नेशनल फिल्म अवार्ड 

1991

लम्हे- सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता

फिल्म फेयर अवार्ड

1992

खेल- सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता

फिल्म फेयर अवार्ड

1993

डर- सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता

फिल्म फेयर अवार्ड

1995

दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे- सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता

फिल्म फेयर अवार्ड

1999

हसीना मान जाएगी- सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता

स्क्रीन अवार्ड

2005

मैंने गांधी को नहीं मारा- सर्वश्रेष्ठ अभिनेता

कराची इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल

Advertisements

2004

फिल्मों में महत्वपूर्ण योगदान के लिए

पद्मश्री 

(भारत सरकार)

2016

फिल्मों में महत्वपूर्ण योगदान के लिए

पद्मभूषण 

(भारत सरकार)

अनुपम खेर की इनकम, नेट-वर्थ व लाइफस्टाइल
Anupam Kher - Income, Net-worth and Lifestyle 2022

 अनुपम खेर का अपना घर जुहू बीच मुंबई में है। यहां पर यह अपने परिवार के साथ रहते हैं। इसके साथ ही अंधेरी में भी एक घर है। इसके अलावा, इनका एक घर हिमाचल प्रदेश में भी है। अनुपम खेर को luxurious cars रखने का बहुत शौक है। इनके पास Porsche Cayenne कार है। जिसकी  कीमत ₹2 करोड़ है। 

      इसके अलावा इनके पास Mercedes, Rollce Royce, Audi, Mahindra Scorpio, BMW जैसी कारें भी हैं। अनुपम खेर अपनी प्रत्येक फिल्म के लिए, ₹5 से ₹6 करोड लेते हैं। इनकी ज्यादातर इनकम Brand Endorsement से आती है। जिसमें वह प्रत्येक ब्रांड के ₹1 करोड़ charge करते है। जबकि इनका नेट-वर्थ ₹405 करोड रुपए के लगभग है।

FAQ :

 

प्र० अनुपम खेर कौन हैं?

उ० अनुपम खेर एक कश्मीरी पंडित हैं। यह एक मशहूर अभिनेता, निर्माता, निर्देशक, लेखक, शिक्षक व मोटिवेशनल स्पीकर हैं।

 

प्र० अनुपम खेर की पहली पत्नी का नाम क्या है?

उ० अनुपम खेर की पहली पत्नी मधुमालती कपूर थी।

 

प्र० अनुपम खेर की दूसरी पत्नी कौन है?

उ० अनुपम खेर की दूसरी पत्नी मशहूर अभिनेत्री किरण खेर हैं।

 

प्र० अनुपम खेर के बेटे का क्या नाम है?

उ० अनुपम खेर के बेटे का नाम सिकंदर खेर है। यह इनकी दूसरी पत्नी किरण खेर व गौतम बेरी के पुत्र हैं।

 

प्र०  क्या अनुपम खेर कश्मीरी पंडित हैं?

उ०  अनुपम खेर मूल रूप से कश्मीर से हैं। लेकिन इनका जन्म शिमला, हिमाचल प्रदेश में हुआ।

 

प्र० अनुपम खेर की पहली प्रसिद्ध फिल्म कौन-सी थी?

उ० अनुपम खेर की पहली फिल्म महेश भट्ट द्वारा निर्देशित सारांश थी।

 

प्र० अनुपम खेर के भाई का क्या नाम है?

उ० अनुपम खेर के छोटे भाई का नाम राजू खेर है। यह भी एक अभिनेता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.