Advertisements

Joe Biden Biography in Hindi | गरीबी से 77 साल में, इतिहास रचने का सफर

Joe Biden Biography in Hindi। Biography of Joe Biden। 46th President of US Joe Biden। Success Story of Joe Biden in Hindi।  कभी न हार मानने वाले, जो बाइडेन की अनोखी कहानी। जो बाइडेन के सफलता की कहानी। 77 साल की उम्र में बने, सबसे शक्तिशाली व्यक्ति। गरीबी से इतिहास रचने का सफर। यूक्रेन संकट पर जो बाइडेन। Joe Biden Biography। Joe Biden Age। Success Story of Joe Biden। Joe Biden Controversy in Hindi। 46th President of USA। Joe Biden Lifestyle 2022 Income and Net-Worth।

Joe Biden 46th President of US Biography in Hindi
जो बाइडेन के सफलता की अनोखी कहानी

किसी आदमी को मापने का पैमाना यह नहीं है कि वह कितनी बार गिरा। पैमाना यह है कि वो कितनी जल्दी उठा।

       इस शख्सियत ने अपने पिताजी की इस बात को गाँठ बांध लिया। तभी वो जीवन के इसने उतार-चढ़ाव को झेलते हुए। दुनिया की सबसे शक्तिशाली मुल्क के सर्वोच्च शिखर पर पहुंचे। जिनकी हर कदम कटीलें राहों से गुजरे। कामयाबी से भरी यह कहानी है। उस शख़्स की, जो अमेरिका के राष्ट्रपति पद पर आसीन हुए। सफलता के जिस शिखर पर आज यह शख़्स पहुंचा। वहां पहुंचने के लिए इस शख़्स ने, संघर्ष का एक लंबा रास्ता तय किया है।

     इस सफर में गरीबी है। कदम दर कदम कड़ा संघर्ष है। विवाद है, पत्नी, बेटी और बेटे के मौत का गम भी है। Depression  की एक ऐसी कहानी है। जिसने उन्हें suicide के मुहाने तक पहुंचा दिया। लेकिन हर चुनौती, हर डिप्रेशन को, झाड़-पोछकर,  वह बार-बार इस तरह खड़े हो जाते। जैसे कुछ हुआ ही न हो। इसके पीछे उनके पिता का दिया हुआ, मंत्र ही था।

      हर आदमी की जिंदगी में संकट आते हैं। दुख आते हैं। Challenges आते हैं। कुछ लोग उन चीजों से हार मान लेते हैं। फिर पीछे रह जाते है। कुछ लोग इन challenges को overcome करते हुए। जिंदगी में आगे बढ़ जाते है। जिस शख्स को बचपन में, उनके दोस्त हकला कहकर चिढ़ाते थे। उन्हीं के भाषण से, अमेरिकी जनता इतनी प्रभावित हुई। कि उन्हें देश की कमान ही थमा दी।

जिसने भी कामयाब लोग हैं। उनके पीछे की सच्चाई कोई नहीं जानता। हर कामयाब व्यक्ति, ऐसे ही कामयाबी हासिल नहीं कर लेता है। न जाने कितनी मुसीबतों के बाद, वह उस मुकाम को हासिल करता है। यह एक ऐसे ही महान व्यक्ति, अमेरिका के राष्ट्रपति Joe Biden है। इनकी कहानी तो ऐसी है। शायद आप इनकी जगह होते, तो हार मान लेते। क्यूंकि जो घटना इनके साथ हुई। उसे सुनकर किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाएंगे।

     आज हम जानेंगे, जो बाइडेन कैसे अपनी life में struggle किया। फिर struggle करते-करते, आज उस जगह पहुंच गए। यानी कि 78 साल की उम्र में, 2020 में अमेरिका के राष्ट्रपति बन गए। यह आज ऐसे देश के राष्ट्रपति बन गए। जो विश्व में सबसे शक्तिशाली है। इसकी पावर ऐसी है कि यह जिस देश पर बैन लगा देता है। तो सारी country को उसकी बात माननी पड़ती है। आज जो बाइडेन विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता हैं।

46th President of US Joe Biden
Advertisements

US President - Joe Biden
An Introduction

 

अमेरिकन राष्ट्रपति – जो बाइडेन

एक नज़र

पूरा नाम

जोसेफ रोबीनेट बाइडेन

उपनाम

जो बाइडेन, जो

जन्म-तिथि

20 नवंबर 1942

जन्म-स्थान

पेंसिलवेनिया, स्कैटन, यूनाइटेड स्टेट

पिता

जोसेफ बाइडेन सीनियर

माता

कैथरीन यूजेनिया जीन  फिगनेगन

स्कूल

सेंट पॉल एलिमेंट्री स्कूल, आर्कमेरे

कॉलेज

• यूनिवर्सिटी ऑफ डेलवेयर 

• सिराकस यूनिवर्सिटी

शैक्षिक योग्यता

बीए – जूरिस डॉक्टर

पत्नी

● निलिया हंटर ( विवाह 1966 – निधन 1972)

● डॉ जिल जैकब्स बाइडेन

(विवाह 1977)

बच्चे

• नाओमी क्रिस्टीना (बेटी – निधन)

• जोसफ बीयू बाइडेन

                   (बेटा)

• रोबर्ट हंटर बाइडेन 

                   (बेटा)

• एशले बाइडेन (बेटी)

पेशा

• राजनीतिज्ञ 

• वकालत 

• लेखक

राजनीतिक पार्टी

डेमोक्रेटिक पार्टी

पद

अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति

अवार्ड्स

● Best Public Defender – 1979

● Presidential Medal of Freedom – 2017

● Champion of the Rails – 2001

● Rail Leadership Award – 2002

इनकम

 

नेट-वर्थ

$ 15 मिलियन

जो बाइडेन का प्रारम्भिक जीवन
Early Life of Joe Biden

 जो बाइडेन का जन्म 20 नवंबर 1942 को अमेरिका के स्कैटन, पेंसिलवेनिया के सेंट मेरी हॉस्पिटल में हुआ था। इनका जन्म एक अपर मिडल क्लास फैमिली में हुआ था। इनका पूरा नाम जोसेफ रोबीनेट बाइडेन जूनियर है। इनकी शुरुआती परवरिश स्कैटन पेंसिलवेनिया में हुई थी। इनके पिता जोसेफ बाइडेन सीनियर थे। जिनका ऑयल का बिजनेस था। बिजनेस में काफी नुकसान होने के कारण। इनके पिता को  काफी financial दिक्कतों का सामना करना पड़ा था।

      इसके बाद उन्हें नौकरी खोजने के लिए, बहुत संघर्ष करना पड़ा। फिर बाइडेन के पिता को car selling की नौकरी मिली। जिसके कारण इनके पूरे परिवार को, विलमिंगटन डेलावेयर में shift होना पड़ा। इनके पिता भट्ठियों की सफाई के काम के अलावा। पुरानी कारों के भी विक्रेता थे। इनके पिता 86 वर्ष की उम्र में चल बसे।  वहीं की माता जी ने 92 साल की उम्र पूर्ण करके, इस दुनिया से विदा ले ली।

     इनकी माता जी का नाम कैथरीन यूजेनिया जीन  फिगनेगन था। जोकि एक हाउसवाइफ थी। कैथोलिक ईसाई धर्म में जन्में जो बाइडेन, चार भाई-बहनों में सबसे बड़े हैं। इनकी बहन का नाम मैरी बाइडेन और दो भाइयों के नाम फ्रैंक बाइडेन और  जिम बाइडेन हैं।

जो बाइडेन की शिक्षा
Education of Joe Biden

   जो बाइडेन के शुरुआती स्कूल की शिक्षा, स्कैटन के ही सेंट पॉल एलिमेंट्री स्कूल से पूरी हुई। यह पढ़ाई में इतने अच्छे स्टूडेंट नहीं थे। बस इनकी गिनती एवरेज स्टूडेंट में होती थी। जब जो बाइडेन 13 वर्ष के थे। तब पिता के ऑयल बिजनेस में नुकसान होने के कारण, परिवार को डेलावेयर जाना पड़ा। यहां पर भी उन्होंने अपनी पढ़ाई को रुकने नहीं दिया। जो बाइडेन ने, वहां पर सेंट हेलेना स्कूल में अपना दाखिला लिया। फिर अपनी पढ़ाई को निरंतर रखा। 

     इन्होंने अपनी पढ़ाई के खर्च के लिए, पढ़ाई के साथ-साथ काम भी किया। इस काम में स्कूल की सफाई के साथ-साथ, स्कूल की खिड़कियां और गार्डन की सफाई भी शामिल थी। इसके बाद, 1965 में उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ डेलावेयर से इतिहास व पॉलिटिकल सांइस में, अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद वह सिराकस यूनिवर्सिटी से अपनी कानून की पढ़ाई करने चले गए। कानून की पढ़ाई के लिए, उन्हें उनका प्रेम खींच ले गया था। एक ट्रिप के दौरान, बाइडेन की मुलाकात निलिया हंटर से हुई। उन दोनों में प्रेम हो गया। 

जो बाइडेन का विवाह व पारिवारिक संघर्ष
Joe Biden - Marriage and Family Struggle

 27 अगस्त 1966 में जो बाइडेन ने निलिया हंटर से शादी कर ली। निलिया हंटर से, जो बाइडेन के तीन बच्चे थे। उन्हें दो बेटे और एक बेटी हुई। जो बाइडेन के बेटों का नाम जोसेफ बीयू बाइडेन और रॉबर्ट हंटर बाइडेन है। बेटी का नाम नाओमी क्रिस्टीना बाइडेन था। जो बाइडेन एक बेटी चाहते थे। उन्हें वह मिली भी, लेकिन अधिक समय के लिए नहीं।

     18 दिसंबर 1972 को बाइडेन की पत्नी निलिया और उनकी 1 साल की बेटी नाओमी डेलावेयर में, एक सड़क दुर्घटना में मारे गए। इनके बेटे बीयू का एक पैर टूटा।  हंटर की leg injury के साथ ही skull fracture हुआ। इस हादसे ने बाइडेन को तोड़ दिया। वह इतने depression में चले गए। कि वो खुदकुशी करने तक की सोच  बैठे। परिवार ने उन्हें संभाला। इसके बाद Biden ने निर्णय लिया कि वह राजनीति को छोड़कर, अपने बच्चों की देखभाल करेंगे।

      Biden एक अच्छे politician थे। इसलिए उन्हें सुझाव दिया गया कि वह राजनीति को नहीं छोडे। बाइडेन ने तय किया। कि वह सीनेटर के रूप में, अपनी जिम्मेदारी का पालन करेंगे। वह पहली बार सीनेट के लिए चुने गए थे। लेकिन शपथ ग्रहण के लिए, वाशिंगटन नहीं गए। बल्कि अस्पताल के एक कमरे में, उन्होंने पद और गोपनीयता की शपथ ली।

        हादसे में घायल उनके बेटे अस्पताल में भर्ती थे। इसके बाद 5 साल बहुत कठिन थे। 5 साल तक single father के रूप में, उन्होंने दोनों बेटों की परवरिश की। साथ ही सीनेटर की जिम्मेदारी का पालन भी किया। वह हर रोज Washington DC से wilmington तक 108 km का सफर ट्रेन से तय करते। बाद में, जब तक वह सीनेटर रहे। उनकी यह आदत बनी रही।

     1975 में जो बाइडेन के भाई द्वारा, आयोजित एक blind date पर, वह एक शिक्षिका जिल जैकब्स से मिले थे। फिर 17 जून 1977 को संयुक्त राष्ट्र के चैपल में जो बाइडेन और जिल की शादी हुई। जो बाइडेन ने अपनी दूसरी पत्नी को राजनीति में, उनकी रुचि के साथ रहने का मौका दिया। इनकी एक बेटी भी है। जिसका नाम एशले बाइडेन है। इनका जन्म 1981 में हुआ था। एशले बाइडेन एक सामाजिक कार्यकर्ता है। 2015 में उन्हें एक और झटका लगा। जब उनके बड़े बेटे बीयू की 46 साल की उम्र में, brain cancer से मौत हो गई।

जो बाइडेन के राजनैतिक कैरियर की शुरुआत
Political Career of Joe Biden

जो बाइडेन को बचपन से ही, एक लंबी बातचीत करने व लंबा भाषण देने में समस्या थी। वह हर एक लंबी बातचीत करते समय, बीच में रुक जाया करते थे। या फिर एक ही बात को दोहराने लग जाया करते थे। अपनी इस समस्या को दूर करने के लिए, बाइडेन ने बहुत मेहनत की। इसके लिए, बाइडेन अपने मुंह में पत्थर रखकर, कविताएं पढ़ते थे।सभी बच्चे किताब में पैराग्राफ को पढ़ते थे। तो बाइडेन पैराग्राफ को अच्छी तरह से याद कर लेते थे। वह शीशे के सामने खड़े होकर, speech देने का अभ्यास किया करते थे। ताकि उनके speech न दे पाने की समस्या दूर हो सके।

     जो बाइडेन Democratic Party के member थे। वो आज भी हैं। साल 1970 में, उनको new council, County Council के लिए select किया गया था। इसके बाद, वह साल 1972 में वह सीनेट का चुनाव जीते। इसके बाद, वह लगातार 6 बार, सीनेटर चुने जाते रहे थे। जो बाइडेन ने साल 1973 से 2009 तक यूनाइटेड के सीनेटर बनकर काम किया। यह सिर्फ 30 साल के थे। जब उन्हें US का सीनेटर बनाया गया।

     उन्होंने साल 1988 में और साल 2008 में डेमोक्रेट पार्टी से राष्ट्रपति बनने सीनेटके लिए, दावेदारी जताई थी। लेकिन इन्हें दोनों ही बार असफलता मिली। लेकिन जब वह 2008 में, बराक ओबामा के सामने हार गए। तब इन्हें अमेरिका के उपराष्ट्रपति के पद पर आसीन किया गया था।  के शुरुआती जीवन में, जो बाइडेन ने बहुत ही चीजों पर ध्यान दिया। यह हर उस चीज पर गौर करते थे। जिससे देश में अच्छा बदलाव लाया जा सके। 

     बाइडेन ने consumer protection, investment issue, senior citizen के साथ-साथ, Public health care पर focus कर। बेहतर बदलाव लाने की पूरी कोशिश की। जो बाइडेन पूरी तरह से, एक अच्छे नागरिक बनने का कर्तव्य, निभाते आए हैं। उनसे कुछ फैसले लेने में, गलतियां हुई है। जिसे वह खुलकर स्वीकार करते हैं। बाइडेन 47वें उपराष्ट्रपति थे। जो 2009 से 2017 तक, यानी 8 साल तक Obama administration के अंतर्गत काम किया। Biden ने women empowerment के लिए बहुत सारे काम किए हैं। इनके अच्छे फैसलों के कारण, US की जनता ने इन्हें पसंद करती है।

जो बाइडेन यूएस के 46वें राष्ट्रपति बनें
Joe Biden - Becomes the 46th President of the US

जो बाइडेन की फॉरेन पॉलिसी बहुत अच्छी थी। यह लिबलर नेता है। लोगों के बीच में इनका काफी प्रभाव था। जिसके चलते हैं। इन्होंने उपराष्ट्रपति रहते हुए। ओबामा के हर decision का भरपूर support किया। उनका कंधे से कंधा मिलाकर, साथ दिया।  चाहे वो इराक से अमेरिकी सैनिकों को वापस लाना हो। चाहे वह Obamacare हो। यह सारी चीजें उन्होंने अच्छे से manage की।

2016 के राष्ट्रपति चुनाव में, जब ओबामा जी कर कार्यकाल पूरा हो चुका था। तब ओबामा ने, जो बाइडेन का support किया। बाइडेन का एक लंबा अनुभव था। इसके साथ ही, वह लगातार ओबामा जी के साथ काम कर रहे थे। इनका डेमोक्रेटिक पार्टी में, प्रभाव भी अच्छा खासा था। इसके चलते उन्होंने Presidential Campaign  शुरू कर दी। लेकिन तब हिलेरी क्लिंटन ने बाजी मार ली। तब पार्टी की तरफ से हिलेरी क्लिंटन को चुन लिया गया।

   Democratic की तरफ से, हिलेरी क्लिंटन राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार बन गई। दुर्भाग्यवश हिलेरी, ट्रंप के सामने हार गई। शायद उनकी जगह बाइडेन होते। तो संभावनाएं थी कि वह राष्ट्रपति के लिए चुन लिए जाते। उस समय ओबामा की छवि बहुत अच्छी थी। उनके support की वजह से, वह राष्ट्रपति बन सकते थे। इसके बाद 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में, जो बाइडेन को पार्टी ने आगे किया। पार्टी के सभी नेताओं ने उनका support किया। वहीं दूसरी तरफ Bernie Sanders भी कड़ी टक्कर दे रहे थे।

   यही Biden के लिए दिक्कत बने हुए थे। चूंकि Bernie Sanders काफी आगे चल रहे थे। लोगों व पार्टी में उनका अच्छा प्रभाव था। इन सब के बाद भी, Biden ने  अप्रैल 2019 में अपनी campaign शुरू कर दी। फिर अचानक कुछ ऐसा हुआ कि बर्नी सांडर्स ने अप्रैल 2020 में, अपना नाम वापस ले लिया। इस तरह 2020 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए, जो बाइडेन पार्टी की तरफ से उम्मीदवार बन गए। जैसा कि आप सभी को अब ज्ञात है। जो बाइडेन ट्रंप को हराकर, अमेरिका के 46 में राष्ट्रपति बन गए।

जो बाइडेन इनकम, लाइफस्टाइल व नेट- वर्थ
Joe Biden - Income, Lifestyle and Net-worth

जो बाइडेन को Presidential Salary के रूप में, हर महीने लगभग $4 लाख मिलते है। इस पर उन्हें टैक्स भी पे करना होता है। इसके अलावा इन्हें Foreign Trip के लिए $1 लाख मिलते है। इसके साथ ही Entertainment के लिए $19 हजार मिलते हैं। इस तरह से हर महीने, बाइडेन को भारतीय मुद्रा के अनुसार, 3 करोड़ 53 लाख 49000 हजार मिलते हैं।

      2020 के अनुसार, इनकी नेटवर्क $15 मिलियन है। Biden अपनी family के साथ न्यूयॉर्क में रहते हैं। Forbes के अनुसार, Biden के पास सिर्फ एक यही घर है। जिसकी कीमत $5 मिलियन है। इनके पास एक Covette Stingry Car है। जिसकी कीमत ₹5 करोड़ है। इनके पास एक Corvete Z06 भी है। जिसकी कीमत ₹90 लाख है। इसके अलावा Ford Raptor, जो ₹60 लाख की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.