Advertisements

Most Inspirational Biography of Mary Kom in Hindi | बॉक्सिंग में छ: बार विश्व चैम्पियन

Mary Kom Biography in Hindi| Mary Kom ki Jivani | A Motivational Biography of Mary Kom in Hindi | Unbreakable मैरी कॉम की आत्मकथा | मैरी कॉम की प्रेरक उपलब्धियां | मुक्केबाज मैरी कॉम | Six time वर्ल्ड चैंपियन | Most inspirational biography of Mary Kom | Biopic of Mary Kom | Success story of Mary Kom in Hindi | World amateur boxing record holder | मैरी कॉम की जीवनी | Success Story of Indian Women Olympics Boxer| Success Story in Hindi| Mary Kom Family| Mary Kom Husband and Children| Mary Kom Age| Mary Kom Height| Real Life Success Story in Hindi| Mary Kom Net Worth| Mary Kom Income and Salary| Mary Kom Lifestyle

Mary Kom- Biography in Hindi
सफलता की पूरी कहानी

जितना कठिन संघर्ष होगा। उतनी ही शानदार जीत होगी। यह लाइन अगर किसी पर बिल्कुल सटीक बैठती है। तो वह है, एक गरीब किसान के यहां पैदा हुई- मैरी कॉम। जिन्होंने पूरी दुनिया में, भारत का नाम, अपने शानदार इच्छाशक्ति से पैदा किया। अब तो वह World Champion  है। 6 Gold Medal जीतने वाली, दुनिया की पहली महिला boxer बन गई है। हालांकि तीन बच्चों की मां, मैरी कॉम के लिए, यह सफर इतना आसान नहीं रहा। पहले तो वह एक गरीब घर में पैदा हुई। उसके ऊपर से एक लड़की होना। फिर भी उन्होंने अपनी मेहनत और संघर्ष के दम पर, यह कर दिखाया। परिस्थितियां कितनी भी विपरीत क्यों ना हो। अगर हम संकल्प लेकर आगे बढ़े। तो इस दुनिया में कुछ भी नामुमकिन नहीं रह जाता।

Great Boxer Mary Kom
Advertisements

Mary Kom - An Introduction
मैरी कॉम - एक परिचय

 

Mary Kom 

Personal Information

पूरा नाम

मांगते चुंगनेइजंग मैरी कॉम no

Mangte Chungneijang Mary Kom

उप नाम

मैरी कॉम, माग्निफीसेंट मैरी

पिता

मांगते तोनपा कॉम

माता

मांगते अक्हम कॉम

जन्म

1 मार्च 1983

जन्म-स्थान

कंगथे, मणिपुर, भारत

पति

करुंग ऑंखोलेर कॉम (Footballer)

बच्चे 

(बेटे)

रेचुंगवर कॉम व खुपनैवर कॉम (जुड़वाँ- twins) 2007

प्रिंस कॉम- 2013

शिक्षा

स्नातक

स्कूल

Loktak Christian Model High School, Moirang, Manipur

कालेज

Churachandpur College, (Manipur University, Manipur)

धर्म

ईसाई

राष्ट्रीयता

भारतीय

शौक़

Singing, Travelling, Watching TV, Martial

 

Mary Kom 

Professional Information

Profession

बॉक्सर

Sport Category

44 – 48 Kg

 


Coach

के. कोसना मैतेई (प्रथम)

गोपाल देवांग

एम नरजीत सिंह

चार्ल्स अतकिंसन

रोंगमी जोसिया




Debut

घरेलू : State Boxing Championship (2000)

अंतरराष्ट्रीय : Women’s World Amateur Boxing Championship (2001)

Global Recognition

Summer Olympic (2012)



World Ranking

1.Pang Chol-mi (North Korea) 

2. Busenaz Cakiroglu (Turkey)

3. Mary Kom (India)

 {as in Nov, 2020}

Awards

पद्म विभूषण (2020)

पद्म भूषण (2013)

पद्म श्री (2006)

Occupation

सांसद – राज्य सभा 

मैरी कॉम का बचपन व शिक्षा
Mary Kom - Childhood and Education

   Mary kom का जन्म 1 मार्च 1983 में, मणिपुर के एक छोटे से कस्बे Kangathei में हुआ था। यह एक ऐसी जगह हैं। जहां पर basic facilities भी पूरी नहीं थी। जो connectivity के आधार पर देश से कटा हुआ है। उनके पिता Mangte Tonpa Kom पेशे से एक farm labour थे। इसके साथ ही वह एक Wrestler (पहलवान) भी थे। उनकी मां Akham Kom एक housewife थी। उनका जन्म एक ईसाई परिवार में हुआ। मैरी कॉम बचपन से ही अपने माता-पिता का सहयोग किया करती थी। बचपन में उनका पूरा नाम  Mangte Chungneijang Mary Kom रखा गया। इसके साथ ही उनके परिवार में एक छोटा भाई और एक बहन है।

मैरी कॉम ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा Loktak Christian Model High School से की। फिर 8th तक कि पढ़ाई St. Xavier Catholic School से की। इसके बाद वह नवीं व दसवीं की पढ़ाई के लिए इंफाल चली गई। यहां पर उन्होंने Adim Jati High School,Imphal में दाखिला लिया। लेकिन दुर्भाग्य से, वह हाई स्कूल की परीक्षा पास नहीं कर सकी। फेल हो जाने के बाद, उन्होंने स्कूल छोड़ने का फैसला किया। Mary Kom अपने schooling के समय मे एक अच्छी Athletes थी। इसके साथ वह फुटबॉल भी खेला करती थी। इसके बाद उन्होंने National Institute of Open Schooling (NIOS) से हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा में पास की। फिर यहीं से इन्होंने अपना graduation भी complete किया।

बॉक्सर के रूप मे मैरी कॉम की शुरुआत
Mary Kom's Career Starts As A Boxer

  मैरी कॉम की रूचि बचपन से ही खेलकूद में बहुत अधिक रही। उनकी रुचि javelin और 400mt की दौड़ में थी।  लेकिन उन्होंने अब तक Boxing में कैरियर बनाने के बारे में नहीं सोचा था। तभी 1998 में मणिपुर राज्य के ही Dingo Singh ने बॉक्सिंग में सफलता हासिल की। Dingo Singh ने Asian Games, Bangkok में  Boxing का gold medal जीता था। इससे मैरीकॉम को भी बॉक्सिंग के क्षेत्र में, आने की प्रेरणा मिली। मैरी कॉम ने 15 साल की उम्र में ही, यह निश्चय कर लिया। उन्हें boxing के क्षेत्र में अपना career बनाना है। उन्होंने Boxing की training के लिए, इंफाल शहर की एक sports academy में admission लिया। यहां पर उनके पहले कोच, K.Kosana Meitei बने।

मैरी कॉम अपने घर वालों से बिना बताए बॉक्सिंग की ट्रेनिंग ले रही थी। क्योंकि उनके घर वाले नहीं चाहते थे। कि वह Boxing के खेल को सीखें। क्योंकि इस खेल में चोट लगने का डर रहता है। इसके साथ ही कहीं चेहरे पर चोट लग जाए। फिर उनकी शादी में भी दिक्कत आ सकती थी। इसी कारण शुरुआती दौर में मैरी कॉम का परिवार, उनके Support में नहीं था।

मैरी कॉम की बॉक्सिंग मे सफलताए
Mary Kom's Succes In Boxing

  कुछ सालों के बाद साल 2000 में, जब मैरीकॉम ने मणिपुर की स्टेट बॉक्सिंग चैंपियनशिप, अपने नाम की। तब उनकी उपलब्धि को न्यूज़पेपर और टीवी चैनल पर दिखाया गया। इसके कारण ही घर वालों को भी मैरी कॉम के बॉक्सिंग के बारे में पता चला। अब उन्होंने भी मैरी काम की लगन और मेहनत को देखते हुए। उनका support करना शुरू कर दिया।

      मैरी कॉम की मेहनत अगले ही साल 2001 में विश्व स्तर पर भी दिखाई देनी शुरू हो गई। जब उन्होंने AIBA Women’s World Championship में silver medal अपने नाम किया। मैरी कॉम बताती है कि ओलंपिक से ज्यादा tough, women’s चैंपियनशिप या Asian चैंपियनशिप होती है। क्योंकि इसमें हर कोई भाग लेता है। सारी दुनियाँ की teams भाग लेती हैं। यहां पर जीतना काफी मुश्किल होता है। इनकी धीरे-धीरे experience में वृद्धि होने के साथ ही। इन्होंने इसी AIBA Women’s World Championship का gold medal 2002 में, अपने नाम कर लिया। इसके बाद, Mary Kom ने बहुत सारे घरेलू और अंतरराष्ट्रीय खेलों में सफलता हासिल करना शुरू कर दी।

2002 में होने वाले विश्व कप भी इन्होंने अपने नाम किया। इसके बाद, 2003 में हिसार, हरियाणा में हुई, एशियन वीमेन चैंपियनशिप जीती। 2004 का वूमेन वर्ल्ड कप, नार्वे  जीता। एक बार फिर से 2005 की वूमेन चैंपियनशिप जीती। इसी के बाद 2005 की World Championship में भी सफलता हासिल की। इसके बाद 2006 की वूमेन वर्ल्ड चैंपियनशिप तीसरी बार जीती। इस तरह उन्होंने लगातार, तीन बार वर्ल्ड चैंपियनशिप अपने नाम की।

मैरी कॉम का विवाह
Marriage of Mary Kom

मैरी कॉम ने 2005 में Karung Onkholer kom से शादी कर ली। ऑंखोलेर से इनकी मुलाकात 2001 के national games के दौरान हुई। उस समय ऑंखोलेर एक फुटबॉल player होने के साथ, दिल्ली यूनिवर्सिटी में Law के student थे। इनकी यह मुलाकात, पहले प्यार में बदली। फिर शादी तक जा पहुंची। शादी के बाद भी उनके पति ने उनका पूरा साथ दिया। वह बॉक्सिंग के खेल में उनका हमेशा ही support करते रहे।

2007 में मैरीकॉम ने जुड़वा (twin boys) बच्चों को जन्म दिया। इन्होंने इन दोनों का नाम Rechungvar व Khupneivar रखा। फिर 2013 में एक तीसरे बेटे का जन्म हुआ। जिसका नाम prince kom रखा गया। मैरी कॉम ने मां  बनने के बाद भी, बॉक्सिंग का कैरियर जारी रखा। इसके बाद भी, इनकी सफलताओ का सिलसिला जारी रहा। ऑंखोलेर ने मैरी कॉम का हौसला बढ़ाया। फिर उन्हें मां बनने के बाद भी, बॉक्सिंग के लिए प्रेरित करते रहें।

माँ बनने से लेकर विश्व विजेता तक का स्वर्णिम सफर
The Golden Journey from A Mother to A World Champion

 मां बनने के बाद, मैरीकॉम ने 2 साल का gap लिया। उनका यह दौर बहुत मुश्किल रहा। इस समय, इन्होंने अपनी बॉक्सिंग पूरी तरह से छोड़ दी थी। इस बीच उन्होंने अपना पूरा समय, अपने घर-परिवार को दिया। इसके बाद दोबारा बॉक्सिंग में आना बहुत ही कठिन काम था। लेकिन ऑंखोलेर ने, इनको बहुत ज्यादा encourage किया। उन्होंने मैरी कॉम को दोबारा बॉक्सिंग की ट्रेनिंग के लिए तैयार किया। इस वक्त, वह अपने बच्चों से दूर रहती थी।

    2008 में Asian women’s Boxing championship भारत मे हुई। इसमें मैरी कॉम को सिल्वर मेडल से ही संतोष करना पड़ा। क्योंकि इन्होंने एक लंबे गैप के बाद बॉक्सिंग में कदम रखा था। लेकिन इसके बाद, 2009 में Asian Indoor Games, जो Vietnam में हुए थे। उसमें फिर से 46kg category में गोल्ड मेडल हासिल किया। इसके बाद 2010 में इन्होंने AIBA Women’s World Championship, Barbados में गोल्ड मेडल जीता। फिर इसी साल कजाकिस्तान में एशियन वूमेन बॉक्सिंग चैंपियनशिप हुई। इसमें भी उन्होंने गोल्ड मेडल जीता। इनकी जीत का सिलसिला लगातार चलता रहा।

2010 के एशियन गेम्स में इन्होंने 51kg category में bronze medal जीता। 2011 का Asian Women’s Cup जो China में हुआ। इसमें इन्होंने 48kg की category में जीता। इसके बाद 2012 में वूमेन एशियन चैंपियनशिप हुई, वह इन्होंने दी थी। 2012 में समर ओलंपिक्स लंदन में पहली बार women’s boxer को जगह मिली। जिसमे इन्होंने 51kg category में bronze medal जीता।

मैरी कॉम राज्य सभा सदस्य के रूप मे
Mary Kom As A Member of Rajya Sabha

संविधान के अनुसार, राज्यसभा में सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 निर्धारित की गई। जिसमें 238 के लिए चुनाव का प्रावधान होता है। जबकि 12 सदस्य राष्ट्रपति के द्वारा nominated किए जाते हैं। हर 2 साल में एक तिहाई सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो जाता है। मोदी सरकार ने 12 nominated सीटों में खाली हुई, 7 सीटों पर 6 दिग्गजों के नाम घोषित किये । जिनमें सुब्रमण्यम स्वामी, पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू के साथ, Olympic medalist Mary Kom का नाम प्रमुख था। मैरी कॉम ने 26 अप्रैल 2016 को राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली।

मैरी कॉम पर बनी फिल्म
A Film on Mary Kom

मेरीकॉम के जीवन संघर्ष को लेकर, उनकी Biopic – MC Mary Kom 2014 में आई। जिसमे Priyanka Chopra ने Mary Kom की भूमिका बखूबी निभाई। वही उनके पति के रूप में दर्शन कुमार ने ऑंखोलेर की भूमिका निभायी। इस film को उमंग कुमार ने निर्देशित किया। वही Creative Director संजय लीला भंसाली है। इस फ़िल्म में संगीत शशिर और शिवम का है। पूरी फिल्म में patriotism की भावना जाग उठती है। केको नाकाहारा की cinematography काबिले तारीफ है।

एक झलक मैरी कॉम की उप्लब्धियों पर
A Glimpse at the Achievements of Mary Kom

 

वर्ष

प्रतियोगिता

पदक

2001

AIBA वीमेन वर्ल्ड चैंपियनशिप

रजत

2002

AIBA वीमेन वर्ल्ड चैंपियनशिप

स्वर्ण

2002

वीमेन विश्व कप

स्वर्ण

2003

एशियन वीमेन चैंपियनशिप

स्वर्ण

2004

वीमेन विश्व कप

स्वर्ण

2005

एशियन वीमेन चैंपियनशिप

स्वर्ण

2005

AIBA वीमेन वर्ल्ड चैंपियनशिप

स्वर्ण

2006

AIBA वीमेन वर्ल्ड चैंपियनशिप

स्वर्ण

2006

वीमेन विश्व कप

स्वर्ण

2008

AIBA वीमेन वर्ल्ड चैंपियनशिप

स्वर्ण

2008

एशियन वीमेन चैंपियनशिप

रजत

2009

एशियन इंडोर गेम्स

स्वर्ण

2010

Advertisements

AIBA वीमेन वर्ल्ड चैंपियनशिप

स्वर्ण

2010

एशियन वीमेन चैंपियनशिप

स्वर्ण

2011

एशियन महिला कप

स्वर्ण

2012

एशियन वीमेन चैंपियनशिप 

स्वर्ण

2012

ग्रीष्मकालीन ओलंपिक

स्वर्ण

2014

एशियन गेम्स

स्वर्ण

2017

एशियाई महिला चैंपियनशिप

स्वर्ण

 

2018

विश्व महिला चैंपियनशिप

स्वर्ण

2019

महिला विश्व चैंपियनशिप

काँस्य

2020 – Olympics, जो Tokyo में होने वाले थे। उन्हें कोरोना महामारी (pandemic) के कारण निरस्त (postponed) कर दिया गया।

मैरी कॉम को पुरस्कार व सम्मान
Awards and Honors to Mary Kom

 

वर्ष

पुरस्कार व सम्मान

2003

अर्जुन अवार्ड (बॉक्सिंग)

2006

पद्मश्री (खेल)

2007

राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए दावेदार

2007

पीपल ऑफ द ईयर – लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स

2008

CNN-IBN और रिलायंस इंडस्ट्री का रियल हीरोज अवार्ड

2008

पेप्सी एमटीवी यूथ आइकॉन

2008

शानदार मैरी, एआईबीए

2009

राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार

2009

महिला मुक्केबाजी के लिए अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ की राजदूत

2010

स्पोर्ट्स वीमेन ऑफ द ईयर सहारा स्पोर्ट्स अवॉर्ड

2013

पदम भूषण (खेल)

2016

आनरेरी डॉक्टरेट डिग्री(D.Litt) की उपाधि, नार्थ-ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी द्वारा

2016

AIBA की ब्रांड एम्बेसडर

2019

DPhill की उपाधि, काजीरंगा यूनिवर्सिटी के द्वारा

2020

पदम विभूषण (खेल)

मैरी कॉम की आत्मकथा
Autobiography of Mary Kom

Olympic gold medalist मैरी कॉम ने 2013 में अपनी ऑटो बायोग्राफी अनब्रेकेबल (Unbreakable) लॉन्च की। इसमें उन्होंने अपने जीवन के, उन कठिन संघर्षों के बारे में उल्लेख किया है। जिसके बारे में दुनिया को नहीं पता है। उन्होंने मां बनने के बाद अपने कैरियर में आई, कठिनाइयों का भी सत्यता के साथ उल्लेख किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.