Advertisements

You Can Heal Your Life Book Summary | क्या आप सुखी और खुश रहना चाहते है

You Can Heal Your Life by Louise Hay। You Can Heal Your Life book summary। आपकी जिंदगी आपके हाथ में है। आज ही सुधारिये, अपनी जिंदगी। आप अपना जीवन ठीक कर सकते हो। खुशहाल जीवन, हंसता चेहरा। आपके विचार ही आपकी जिंदगी बनाते हैं। क्या आप सुखी और खुश रहना चाहते हैं। You Can Heal Your Life book review। The Power of Positive Affirmation 

You Can Heal Your Life Motivational Book
Advertisements

You Can Heal Your Life By Louise Hay
Book Summary

हम सब कभी न कभी इस दौर से गुजरे हैं। Life में बहुत down सा feel होता है। जब हमें कुछ भी motivate नहीं करता। हमारा enthusiasm (उत्साह) खत्म होने लगता है। ऐसे time में लगता है कि काश! कोई हमारी help करता। लेकिन सोचिए, क्या होता है। कभी-कभी ऐसे हालात का सामना, हमें अकेले ही करना पड़ता है।

कोई भी हमारे काम नहीं आता है। फिर एक ही चीज रह जाती है। आप अपनी help खुद करो। लेकिन इससे पहले कि आप भी कभी इस situation से गुजरे। आपको self-help philosophy और Holistic health के basic सीखने होंगे।

     आज की Book summary, You Can Heal Your Life पर आधारित है। जिसे लुईस हे ने 1984 में लिखा था। Author इस किताब के जरिए। यही बताती हैं कि हमारे शरीर की बीमारी की जड़ें, हमारे खयालों से जुड़ी हैं। वह modern science के disease के symptoms पर सीधा वार करने के तरीके को सही नहीं मानती हैं। उन्होंने सेहत को अच्छा बनाए रखने के बहुत से उपाय बताए हैं। 

     जिसमें सकारात्मक मनोविज्ञान, मंत्र, योगा, ध्यान और self therapy शामिल है। उन्होंने मनोविज्ञानिक कारणों से, कुछ खास बीमारियों को भी जोड़ने की कोशिश की है। वो समझाती हैं कि हमारे beliefs और thoughts हमारी सेहत और खुश रहने पर बहुत असर डालते हैं। हमारी मेंटल लाइफ, हमारे फिजिकल लाइफ से जुड़ी हुई है।

इसलिए दिमाग की pathology यानी  रोग विज्ञान को ठीक करके। उससे होने वाली physical illness को भी ठीक किया जा सकता है। सबसे बड़ा unhealthy believe खुद से हीनता का है। जो हमे बहुत-सी इंसानी परेशानियों को समझने व सुलझाने से रोकता है। उनका मानना है कि mental work से किसी भी physical symptom को ठीक किया जा सकता है।

Financial Insecurity Or Greed For Money

आमदनी की सुरक्षा व पैसों का लालच सबसे बड़ी परेशानियों में से एक है। जिससे लोग अपना ही नुकसान करते हैं। Author का मानना है कि लोग खुद को गरीब मानते हैं। वह मानते हैं कि वह friend या दोस्त deserve नहीं करते हैं। वह अपनी किस्मत को बना नहीं सकते है। Author ने इससे पहले heal your body नाम की एक और किताब भी लिखी थी। जो body के illness के बारे में है।

      इसी वक्त उन्हें पता लगा कि उन्हें कैंसर है। जो एक बेहतर diet और mental technique से ठीक हो गया। वह कहती हैं कि बीमारी state of mind का ही product है। माफ करने की काबिलियत न होना। सभी बीमारियों की जड़ है। Healing के लिए, हमें उन खयालों की जरूरत होती है। जो हमें हमारी, present condition तक ले आए हैं। परेशानियां असल में परेशानी नहीं है। अपने बारे में, वह अंधविश्वास है। 

      जो चीजें हमें पसंद नहीं है। वह हमारे इस विश्वास को और भी पक्का कर देता है। कि हम अन्य के मुकाबले, उतने अच्छे नहीं हैं। अपने आपको प्यार करना ही, हमारी self feeling का आधार है। बहुत सी दिक्कतों और परेशानियों की जड़, यह सोच है। मैं उतना अच्छा नहीं हूं। खुद से प्यार करने की कमी है। उदाहरण के लिए, पैसे के न होने के पीछे का कारण, यह हो सकता है। मैं पैसा पाने के लायक नहीं हूं।

      दोस्त न होने का कारण, यह सोचना हो सकता है। मुझे कोई प्यार नहीं करता है। इन beliefs के साथ, बहुत से और ideas जैसे कि हम कौन हैं। किन नियमों के साथ, हमें जीना चाहिए। ये अक्सर हम अपने आसपास के लोगों से ही सीखते हैं। जब हम बहुत young होते हैं। जब हम बड़े होते हैं। तो हम अपनी पूरी जिंदगी, इन beliefs के आसपास बनाने लगते हैं।

     Author इसके लिए, कुछ exercise का सुझाव देती है। जैसे मुझे यह करना चाहिए को मैं यह कर सकता हूं, से बदले। ताकि आपको यह एहसास हो कि आप दिखाई देने वाली परेशानियों के कारणों को चुन सकते हैं। यह समझे कि हमारे बहुत से beliefs कहां से आते हैं। असल में, हम ख्यालों के pattern से deal करते हैं। एक बार हम यह बात अच्छे से समझ ले। तो हमें ये पता चलेगा। हम सभी मे किसी भी बदलाव शुरू करने की ताकत है। क्योंकि यह सब हमारे दिमाग की ही उपज होती है।

इससे हमें जिंदगी के सभी outcomes पर पूरा-पूरा control भी आता है। हमारे beliefs ऐसे लड़कर रोते नहीं है। क्या आप इस चीज में अच्छी नहीं है। यही हमारी strength बन गई है। इसलिए हमें उन्हें मानने से पहले, समझ लेना चाहिए। चाहे वह past में सच थे। जैसे कि हम बचपन में मानते थे। अजनबियों पर भरोसा मत करो। यह हो सकता है कि आज सच न हो। पुराने और गलत feelings को जाने देना। सीखने से ही हमारी जिंदगी बदल सकती है।

    हम अपनी जिंदगी को कैसे बदल सकते है। कैसे आप अपनी जिंदगी और बदलाव पर काबू पा सकते हैं। ऐसा तभी संभव है। जब आप अपने आपको बदलने की रुकावट से उभारते है। हमे अपने ख्यालों और भावनाओं को समझना होगा। हम सीखेंगे कि कैसे बदलने की इच्छा को बनाये। जिसमें दिमाग की सफाई और अंदरूनी रुकावट को खत्म करने करना शामिल है। अपने दिमाग और ख्यालों को कैसे काबू करें। कैसे खुद को और दूसरों को माफ करें।

      Positive बदलाव का काम, बीज बोने जैसा होता है। बीजों को फूटने में वक्त लगता है। हमें लगातार बीजों का पोषण करना होगा। कीड़ों को दूर रखना होगा। अब जिस पर भी अपना ध्यान लगाते हैं, वह बढ़ता है। इसलिए negative से दूर हटे। जैसे कि मैं मोटा नहीं होना चाहता। मैं दुखी नहीं होना चाहता। जो आप करते हैं उस पर ध्यान दें। जैसे मैं खुश हूं। Healthy हूं। Positive affirmation में सोचना सीखें।

हमें अपने जीवन मे Present tense को use करना होगा । जैसे कि मैं समर्द्ध हूँ। मेरे पास अच्छी health है। इसके लिए Author हमें अपनी सेहत के पालन-पोषण का बेहतरीन तरीका बताते हैं। हमारे सोचने और बोलने के तरीके से से ही, हमारे शरीर को आराम और बीमारियां मिलती है।

हम अपने शरीर में हर बीमारी, अपने ख्यालों के pattern से ही बनाते हैं। खास करके criticism, gilt और डर के ख्याल ही। हमारी so called, illness का कारण हैं। माफ करना, इन खयालों को जाने देना और साथ ही healthy nutrition और शरीर का ध्यान रखने से ही। Wellness मिल सकती है।

What I Believe

जिंदगी बहुत simple है। जो हम बाहर देते हैं। वही पाते हैं। हम अपनी अच्छी या खराब जिंदगी के लिए, जिम्मेदार हैं। किसी इंसान, जगह या चीज के पास। हमसे ज्यादा ताकत नहीं है। जब हम अपने दिमाग में शांति और सन्तुलन बना लेते हैं। तो वही हम अपनी जिंदगी में भी पा लेते हैं। हम जो भी सोचते या भरोसा करते हैं। Universe पूरी तरह से support करता है। हम जो भी भरोसा करते हैं। हमारा subconscious mind उसे मान लेता है।

       Universal power हमारी कभी निंदा नहीं करती है। हम लोगों में से बहुत के  पास, इस बात के फालतू ideas होते हैं। कि हम कौन हैं। बहुत से कठोर भी। जिनसे हमें अपनी जिंदगी जीनी चाहिए। ख्यालों को बदलो और वह एहसास चला जाएगा। Past पर कोई जोर नहीं है। कोई फर्क नहीं पड़ता है कि कितना वक्त, हम negative pattern में रहे हैं। हम इस पल से आजाद होना शुरू कर सकते हैं।

      खुद को negative सोचने से मना करें। कल बीत चुका है और खत्म हो चुका है। हम सब उसे नहीं बदल सकते है। लेकिन हम कल के लिए, अपने ख्यालों को बदल सकते हैं। जब हम panic state पर होते हैं। तब healing work पर, अपना दिमाग लगाना मुश्किल हो सकता है। पहले तो डर को खत्म करें। कल को जाने देने के लिए, हमें पहले माफ करने की इच्छा रखनी पड़ेगी।

       हो सकता है कि मैं पता न हो कि कैसे। या हम करना न चाहते हो। लेकिन fact यह है कि हमारे चाहने से ही healing process शुरू होता है। जब भी आप बीमार हो। तब उन्हें ढूंढो। जिन्हें माफ करने की जरूरत है। उसका पता लगाएं। जिसे माफ करना। सबसे ज्यादा मुश्किल है। उसे जाने देना सबसे जरूरी है। इसका मतलब यह नहीं है कि गलत चीजों को सहना।

Universe सब जानता है। हम अपने दर्द को, इतना अच्छे से समझते हैं। इनको माफ किए जाने की जरूरत है। वह भी दर्द में है। वह बस वही कर रहे हैं। जो कर सकते हैं। आपको सिर्फ एक चीज पर काम करना है। खुद से प्यार करना। जब हम खुद को वैसे ही accept करते हैं। जैसे हम हैं। तो जिंदगी में सब कुछ ठीक हो जाता है। Health, पैसा, रिश्ते बेहतर होते हैं।

What Is The Problem ?

 प्यार की जितनी तारीफ की जाए। उतनी कम है। यह जादुई नुख्सा है। हमें खुद की इज्जत करनी होगी। अपने दिमाग और शरीर के चमत्कार को gratitude देना होगा। अपनी कीमत न समझना। खुद से प्यार न करना है।

Where Does It Come From ?

हम हमेशा बदलते रहते हैं। हमारी age maturity और knowledge। पर हम हमेशा से perfect और अंतरात्मा से सुंदर हैं। हो सकता है, हमारे effort से outcome हमेशा अच्छे न हो। लेकिन हममें जो भी समझ, जागरूकता और ज्ञान है। उससे जो भी best कर सकते हैं, कर रहे हैं। जब हम ज्यादा समझ, जागरूकता और ज्ञान हासिल करते हैं। तो हम चीजों को अलग तरीके से करते हैं।

Mental House Cleaning

   Past की ठीक से जांच करें। खुद के और दूसरों के लिए अपने beliefs को देखें। यह दुखदाई हो सकता है। पर यह जरूरी है। जैसे हम रोजाना अपने घर को साफ करते हैं। वैसे ही हमें अपने अंदर का की गंदगी नियमित साफ करनी चाहिए। दूसरों पर इल्जाम डालना। परेशानी में ही रहने का तरीका है। इस तरीके से हम ताकत दूसरों को दे देते हैं। समझदारी से, हम परेशानी से निकल सकते हैं। Future का control अपने हाथ में ले सकते हैं।

वह लोग जिन्होंने हमारे साथ बहुत बुरा किया है। वह उतने ही घबराए हुए थे। जितना आप डरे हुए हैं। वह और कुछ नहीं कर सकते थे। उनको negative चीजें सिखाई गई थी। समझने से दया आती है। आप खुद को आजाद नहीं कर पाएंगे।

जब तक आप दूसरों को आजाद न करें। तब तक अगर आप उनसे perfection की demand करेंगे। तो वह same demand आपसे करेंगे। आप जिंदगी भर दुखी रहेंगे। हम सब अपनी पुरानी सीमाओं को तोड़ना चाहते हैं। हम सब अपनी भव्यता को पहचानना चाहते हैं। हम सबको अपने negative belief से ऊपर उठना है।

Is It Ture ?

    क्या यह सच है। ये हमारे choices और belief पर depend करता है। गिलास आधा खाली है या आधा भरा है। यह इस पर depend करता है कि हम किस पर ज्यादा ध्यान देते हैं। अपने ख्यालों को समझें। हम जो भी मानते हैं। वो असलियत बनता है। परेशानी खयालों को pattern होती है। जिन्हें बदला जा सकता है।

अगर हम raincoat पहने या छाते का इस्तेमाल करते हैं। अपने attitude को बदलें। तो हम एक बरसाती दिन का मजा ले सकते हैं। लेकिन अगर हम यह सोचे कि यह घटिया दिन है। हम बारिश का स्वागत ठंडे मन से करें। तो हम present moment का fun miss कर देंगे।

Joyous Thoughts - Joyous Life

 खुशहाल ख्याल, खुशहाल जिंदगी। प्यार भरे ख्याल, प्यार भरी जिंदगी। हर पल एक नई शुरुआत है। चाहे परेशानी कितनी भी बड़ी हो। हम आज से बदलना शुरू कर सकते हैं। याद रहे, आप भी अपने दिमाग में सोच सकते हैं। खयाल जो इतनी तेजी से बहते हैं। उन्हें check करना हमेशा, इतना आसान नहीं होता है। जो बोलना है उसे सुने।  Positive हो या negative, sentence के बीच में रूके। उसे दोबारा बनाए या drop कर दें। भावनाएं और भी ज्यादा अच्छी indicator होती हैं। जब भी कोई परेशानी होती है। तो कुछ करना नहीं होता है। इससे पहले हम कुछ करें। हमें उसको जानना होता है।

What Do We Do Now ?

बदलाव करने में रुकावट, गुस्से के रूप में भी आ सकती है। House cleaning, कुछ ख्यालों को सिर्फ polishing की जरूरत होती है। जो हम खुशी-खुशी कर देंगे। कुछ ख्यालों को, ठीक करना पड़ सकता है। जिसके लिए थोड़ा effort करना पड़ेगा। कुछ ख्याल बदबूदार कूड़े की तरह हो सकते हैं। जिन्हें बस फेंक देने की जरूरत है।

      बदलने के बहुत से तरीके हो सकते हैं। spiritual, mental, physical किसी भी एक से शुरुआत करें। लेकिन इसमें सभी areas को include कर ले। कुछ की शुरुआत prayer या meditation से हो सकती है। जब हम घर साफ करते हैं। तो कोई फर्क नहीं पड़ता है कि हम शुरू कहां से करें। जहां से आपका मन हो। वहां से शुरू कर दे। बाकी सब कुछ लगभग खुद ही हो जाएगा।

जिंदगी भर negative ख्यालों में रहने के बाद। मानसिक घर को साफ करना। आपको mental और physical रुकावट के कारण। आपको बुरा महसूस करवा सकते हैं।

Resistance To Change

Past में हमनें अनजाने में, इस ताकत का प्रयोग। उन चीजों को बनाने में किया है। जिसका अनुभव हम नहीं करना चाहते थे। आज हम जागरूक होकर जिम्मेदार हैं। हम इस ताकत का इस्तेमाल positive way में करते हैं। हम सबको बहुत से lessons सीखने हैं। जो चीजें मुश्किल हैं। वह भी lessons ही है।

      Assumption यह बेकार है। Beliefs यह गलत है। वह पसंद नहीं करेंगे। भगवान शायद पसंद न करें। Self Concepts मैं बहुत बूढ़ा, जवान, पतला, गरीब या बहुत छोटा हूं। Delaying मैं बाद में करूंगा। वक्त सही नहीं है। मैं busy हूं। Denial इसकी कोई जरूरत नहीं है। मैं शायद fail हो जाऊंगा। मैं उतना अच्छा नहीं हूं।

Leave Your Friends Alone

जब हमारे लिए, कुछ अच्छा होता है। हम अक्सर उसे दूसरों से बांटना चाहते हैं। पर हो सकता है कि वो उस वक्त बदलाव के लिए तैयार न हो। ऐसी चीजें हो सकती है। जो दूसरों के लिए सही से काम न करें। खुद को बदलना ही बहुत मुश्किल है। जब दूसरे न चाहते हो। तो उन्हें बदलने की कोशिश रिश्तो को बर्बाद कर सकती है।

Self - Criticism

Self-criticism भी पूरी तरह से गायब है। जब वह negative thoughts से दूर भागते है। तो हम बचने के लिए नए-नए तरीके ढूंढने लगते हैं। जैसे कि ज्यादा खाना।

How To Change

   Principles: इच्छा, पालन-पोषण, जाने देना, दिमाग को काबू करना। दूसरों और खुद के लिए माफी। कभी-कभी जब आप शुरू करते हैं। तो चीजें और बदतर हो सकती है। लेकिन हमें डटे रहना होगा। जानने के बाद, आपको एहसास होगा कि इन सब का, असल कारण कुछ और ही था। Past को आप भूल कर न रहने दें। जिन्होंने आपको दुख पहुंचाया। उनको पता भी नहीं था। शायद उनको फ़र्क भी नहीं पड़ता है।

Releasing: यादों से emotional attachment को दूर करे। हम उन कपड़ों को नहीं पहनते हैं। जिन्हें हम तब पहना करते थे। जब हम 5 साल के थे। वह सिर्फ एक याद है। बिना किसी emotion के। सब कुछ वैसा क्यों नहीं हो सकता है।

Building The New

हमारे अंदर जवाब आसानी से, हमारे awareness से आते हैं। आप जिस भी चीज पर अपना ध्यान लगाते हैं। वह बढ़ता है। अपनी और अपनी जिंदगी की जो problems आपको पसंद नहीं थी। वह आज भी आपके साथ हैं। बीज बोकर, शांत रहें। प्यार और मंजूरी safety का दायरा और भरोसा बनाते हैं। आपके दिमाग में एक organization बनाते हैं। loving relationship बनाते है। नए job को attract करते है।

Daily Work

मैं जो best कर सकता हूं। वो कर रहा हूं। खुद को हमेशा support करें। जब तक आप नियमों को मानते हैं। आपका काम नहीं बनता है। जो आप हैं या जो आप करते हैं। उससे प्यार करें। खुद पर और जिंदगी पर हंसे। कोई आपको छू भी नहीं सकता है। सब वैसे भी temporary है। अगली जिंदगी में चीजें, आप अलग तरीके से करेंगे। तो अभी क्यों नहीं।

Dream state में disasters की जरूरत नहीं है। इस state में केवल सफाई की जरूरत है। आप सोने से पहले कुछ भी बोल सकते हैं। जिसकी आपको जरूरत है। हो सकता है। सुबह तक आपको सवालों का जवाब मिल जाए। चैन से सोए। जिंदगी के process पर भरोसा करें। सब कुछ आपकी खुशी और अच्छे के लिए ही है। काम मजेदार है। हँसी का इस्तेमाल करें। Tragedy और comedy एक ही चीज है। बस नजरिये का फर्क है।

Relationships

  रिश्ते हमारा आईना होते है। जो भी हम attract करते हैं। वही हमें दिखाई देता है। चाहे,प वह रिश्ते की अच्छाइयां हो या उसके beliefs। अगर वह आपकी जिंदगी में compliment नहीं करते हैं। तो आप उन्हें attract नहीं कर सकते है। प्यार तब मिलता है। जब आपको सबसे कम उम्मीद होती है। प्यार की hunting करने से, सही partner कभी नहीं मिलता है। इससे सिर्फ unhappiness की मिलती है। 

प्यार कहीं बाहर नहीं है। हमारे अंदर ही है। सब्र रखें। Standards set करें। खुद नई qualities की list बनाएं। इनको कौन दूर रखता है। criticism लायक न होने का एहसास। unreasonable standard, एक belief कि आप प्यार किए जाने लायक नहीं है।

Prosperity

समृद्वि एक state of mind है। जिंदगी के बारे में, अच्छा महसूस करने का। आपके पास जो कुछ है। उसके लिए grateful रहे। जो भी जिंदगी में है। उसे प्यार से bless करें। Invitation, gift व compliment  को खुशी से accept करें। नई चीजों के लिए जगह बनाएं। Refrigerator और almirah साफ करें। जिन चीजों का लंबे वक्त से इस्तेमाल नहीं हुआ है। उनसे छुटकारा पाएं। अगर आपका घर बिखरा हुआ है। तो आपका मन भी बिखरा हुआ ही होगा।

 

Humble Request

   अभी तक आपने इसे पढ़कर, जो भी सीखा। वो पूरी Book का अंश मात्र है। यदि आप भी अपने जीवन मे सुखी और खुश रहना  चाहते है। तो Louise Hay की Book- You Can Heal Your Life जरूर पढ़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.