Advertisements

Satya Nadella Biography in Hindi। दुनिया मे सबसे ज़्यादा Salary पाने वाला शख्स

Satya Nadella Biography in Hindi। Microsoft- CEO Satya Nadella Biography। Satya Nadella Life Story in Hindi। दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाला शख्स। माइक्रोसॉफ्ट को बर्बादी से बचाने वाले CEO की कहानी। Bill Gates की कुर्सी पर बैठने वाले पहले भारतीय Satya Nadella। Success Story of Satya Nadella in Hindi। Chairman of Microsoft Corp. Satya Nadella। Satya Nadella Lifestyle। Satya Nadella Income। Satya Nadella Net-worth। Satya Nadella Wife। Satya Nadella Children। Satya Nadella Age। Satya Nadella Family। Satya Nadella in Hindi। Who is Satya Nadella in Hindi। Who is the New CEO of Microsoft 

Satya Nadella - Microsoft Indian CEO
Biography in Hindi

विकल्प मिलेंगे बहुत, रास्ता भटकने के लिए।

मगर संकल्प एक ही काफी है, मंजिल तक पहुंचने के लिए।।

      क्या आपको पता है कि कामयाब और नाकामयाब बनने में क्या फर्क है। कामयाब व्यक्ति जानता है कि उसे उसका पैसा और टाइम कहां पर invest करना है। इसीलिए वह कामयाब है। दूसरा व्यक्ति यह नहीं जानता। इसीलिए गलत चीज में पैसा और गलत चीज में टाइम invest कर देता है। इसी वजह से वह नाकामयाब है। पैसों का investment तो समझ में आता है। लेकिन टाइम का investment क्या है। इसे ऐसे समझते हैं।

    एक दिन पिकासो एक होटल में बैठे थे। तभी वहां पर एक लेडी आई। उसने पिकासो को, उसका sketch बनाने की जिद की। इस पर पिकासो ने, वहाँ के एक पेपर पर, 2 मिनट में उसकी तस्वीर बना दी। उस लेडी को देते हुए कहा, This is 1 million dollar sketch। वह लेडी थोड़ी हैरान हो गई। मार्केट में जाकर, जब उसने enquiry की। तो वह shocked थी। क्योंकि सच में, वह sketch एक मिलियन डॉलर का था।

       वह लेडी वापस पिकासो के पास आई। उसने पूछा सिर्फ 2 मिनट में, आपने यह एक मिलियन डॉलर का स्केच कैसे बना दिया। इस पर पिकासो ने हंसकर कहा। इस काबिलियत को पाने के लिए। मैंने अपनी लाइफ के, 25 से 30 साल invest किये है। तब जाकर मैं ऐसे sketches बना पाता हूं। यह है, वक्त का इन्वेस्टमेंट। इसलिए आप अपना वक्त, ऐसी चीजों में invest करो। जो कि आपको आगे चलकर अच्छे returns दे। 

       आज आपके पास time है। तो उसे नए skills को सीखने में। नई-नई चीजें सीखने में invest करो। जिसके returns आपको जिंदगी भर मिलते रहेंगें। अगर आज आप इसे waste करोगे। तो जिंदगी भर पछताओगे। इसलिए अपने वक्त की कदर करो। अगर आज आप इसकी कद्र नहीं करोगे। तो कल दुनिया, आपकी कद्र नहीं करेगी। क्योंकि अगर आपका वक्त अच्छा है। तो सब अच्छे हैं। बुरे वक्त में तो, अपने भी बदल जाते हैं।

       जब सपने बड़े होते हैं। तो मंजिल भी बड़ी ही मिलती है। इस कथन को सत्य किया। भारत के रहने वाले सत्य नडेला ने। यह एक ऐसे व्यक्ति हैं। जिन्होंने अपने target को पाने के लिए, कई बार ऑफिस में ही अपने स्लीपिंग को लेकर सो जाया करते थे। कई बार ऐसा भी देखा गया। कि वह जूते तक नहीं खोलते थे। उनका मानना था कि जूता खोलने और बांधने में जितना समय waste होगा। अगर उस समय को वो उपयोग कर ले। तो बहुत जल्द ही अपने goal को achieve कर सकते हैं।

Success Story of Satya Nadella in Hindi
Advertisements

Satya Nadella- An Introduction

 

Satya Nadella 

CEO of Microsoft 

 Ek Nazar

वास्तविक नाम

सत्यनारायण नडेला

जन्म तिथि

19 अगस्त 1967

जन्म स्थान

हैदराबाद, आंध्र प्रदेश 

(वर्तमान में तेलंगाना)

पिता

बुक्कपुरम नडेला युगंधर 

(प्रशासनिक अधिकारी – PM नरसिंघा राव के सेकेट्री)

माता

प्रभाती युगंधर ( संस्कृत की लेक्चरर)

नागरिकता

अमेरिकन

व्यवसाय

माइक्रोसॉफ्ट के चेयरमैन/ सीईओ

पहचान

क्लाउड गुरु के रूप में

स्कूल/ कॉलेज

• हैदराबाद पब्लिक स्कूल

• यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस

• यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन-मिल्वौकी

• मनिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी

शैक्षिक योग्यता

BS, MSBS, MBA

पत्नी

अनुपमा वी नडेला

बच्चे

बेटा – जैन (दिव्यांग)

बेटी – 2

पुरस्कार 

व 

सम्मान

● Time Magazine के top 100 person  की list में शामिल

●Financial Time: Person of the Year

●Fortune Magazine: Business Person of the Year

●CNBC ग्लोबल इंडियन बिज़नेस आइकन

Auto Biography

Hit Refresh by Satya Nadella

इनकम

$44 मिलियन +

नेट-वर्थ

$425 मिलियन

सत्य नडेला का प्रारम्भिक जीवन
Early Life of Satya Nadella

सत्य नडेला का जन्म 19 अगस्त 1967 को आंध्र प्रदेश के हैदराबाद में हुआ था। उनके पिता बुक्कपुरम नडेला युगंधर, एक प्रशासनिक अधिकारी थे। जो नरसिंमहा नरसिम्हा राव की सरकार में, प्रधानमंत्री के सचिव हुआ करते थे। उनकी माता का नाम प्रभाती युगंधर था। जो संस्कृत की लेक्चरार थी। लेकिन सत्य नडेला को न तो politics में interest था, न ही आध्यात्म में। उनकी  सिर्फ एक ही बात में रूचि थी। वह क्रिकेट था।

     उनके माता-पिता ने, उनके लिए कुछ और ही सोच रखा था। उनके पिता ने उनके रूम में, Karl Marx की फोटो लगा रखी थी। काफी ताकि वह एक अच्छे अर्थशास्त्री या बड़े intellectual बने। वहीं उनकी मां ने उनके रुम में, देवी लक्ष्मी की पोस्टर लगा रखी थी। ताकि वो अध्यात्म का महत्व समझें। लेकिन सत्य ने, अपने कमरे में एक और तस्वीर लगा रखी थी। वह हैदराबाद के क्रिकेट स्टार M.L. Jaisimha की थी।

     सत्य का क्रिकेट के प्रति लगाव देखकर, उनके माता-पिता चिंतित होने लगे थे। उन्हें इस बात की चिंता होने लगी थी। कि अगर सत्य नडेला, एक कामयाब प्रोफेशनल क्रिकेट बनने में असफल हो जाते हैं। तो वह क्या करेंगे। इस सवाल का जवाब देते वक्त, सत्य नडेला कहते थे। कि अगर वह प्रोफेशनल क्रिकेटर बनने में असफल हो जाते हैं। तो वह बैंकिंग करेंगे। लेकिन उनके माता-पिता इस जवाब से खुश नहीं थे।

    वह सत्य से हमेशा कहते थे कि अगर जिंदगी में, कुछ हासिल करना है। तो उन्हें हैदराबाद छोड़ना ही होगा। अपने पिता की यह बात सुनकर, 18 साल के सत्य नडेला सोच में पड़ गए। उन्होंने अपना पर्सनल कंप्यूटर फिर से शुरु किया। धीरे-धीरे उनकी इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर और पर्सनल कंप्यूटर में रुचि बढ़ने लगी।

सत्य नडेला की शिक्षा
Education of Satya Nadella

 सत्य नडेला की प्रारंभिक शिक्षा हैदराबाद पब्लिक स्कूल से हुई। इसके बाद उन्होंने मनिपुर इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में, अपना एडमिशन लिया। जहां से वे 1988 में ग्रेजुएट हुए। इस तरह उनका एक प्रोफेशनल क्रिकेटर बनने का सपना टूट गया। मनिपाल में उन्हें ऐसे दोस्त मिले। जिनकी सकारात्मकता, entrepreneur spirit व passion काफी सराहनीय थे। इस तरह उन्होंने अपने technology carrier की शुरुआत की।

     मनिपाल से अपनी study complete करते ही। उनकी जिंदगी में, ऐसा मोड़ आया। जिसे उनका turning point कह सकते हैं। उनके पास दो रास्ते से थे। एक अपने सपनों को chase करना या फिर अपने comfort zone में रहना। नडेला पर उनकी मां के, अध्यात्मिक विचारों का काफी प्रभाव था। उनकी मां का कहना था कि हमें जो भी best हो सकता है। उसे करना चाहिए। बाकी चिंता मैं नहीं करनी चाहिए।

 इसीलिए जब उन्हें मुंबई यूनिवर्सिटी से मास्टर प्रोग्राम का offer मिला। तो वह खुशी-खुशी accept करने वाले थे। लेकिन शायद उनकी किस्मत में कुछ ही लिखा था। तभी उनको यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन-मिल्वौकी से offer आया। उनको Computer Science में admission मिल चुका था। यहां पर उनकी Theoretical Computer Science में रुचि बढ़ने लगी थी। वह जानना चाहते थे कि हम कंप्यूटर साइंस से, क्या कुछ नहीं कर सकते। 1990 में वह यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन से ग्रेजुएट हो चुके थे।

सत्य नडेला का माइक्रोसॉफ़्ट कैरियर
Satya Nadella - Microsoft Career

  1992 में रेदमोंड, वाशिंगटन स्थिति माइक्रोसॉफ्ट के कैंपस में नडेला ने अपना पहला कदम रखा। तब माइक्रोसॉफ्ट Window 95 पर काम कर रहा था। जो कि समय का सबसे बड़ा, consumer technology product था। नडेला माइक्रोसॉफ्ट में ऐसे समय पहुंचे। जब Window 95 प्रोजेक्ट सफल होने की कगार पर खड़ा था। नडेला को माइक्रोसॉफ्ट के Window NT operating system पर काम करने को कहा गया।

    जहाँ नडेला को पूरे देश में घूमकर, consumers को convenience करना होता था। कि वह windows NT operating System को अपनाऐ। जहाँ वे अपनी जिम्मेदारी को लेकर, काफी उत्साहित थे। वहीं उनके मन में MBA करने की प्रबल इच्छा थी। तभी उन्हें यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो से, MBA करने का मौका मिला। लेकिन उनके सामने सबसे बड़ी दिक्कत यह थी। कि वे माइक्रोसॉफ्ट की जॉब के साथ-साथ ही, MBA करना चाहते थे।

 तब उन्होंने Part-Time Program के लिए enrolled किया। जिसमें उन्हें 5 दिन रेगुलर काम करना होता था। फिर weekend में MBA का प्रोग्राम attained करने के लिए, flight लेनी होती थी। उनका यह जुगाड़ काफी कामयाब साबित हुआ। नडेला के लिए, ये 2 साल  काफी महत्वपूर्ण थे। जहां उन्होंने अपनी strategy व leadership skills को develop किया। MBA के दौरान उन्होंने जो कुछ भी सीखा। उसने माइक्रोसॉफ्ट की तरक्की में उनकी नींव रखी।

सत्य नडेला का माइक्रोसॉफ़्ट के क्लाउड टेक्नोलॉजी में योगदान
Satya Nadella - Contribution to Microsoft Cloud Technology

 पहला managerial project, सत्य नडेला को Tiger Server मिला। Tiger server वीडियो की दुनिया का बहुत क्रांतिकारी कदम था। यहां पर उनकी लीडरशिप क्वालिटी का इंतहान होने वाला था। यह वही समय था। जहां पर Steve Ballmer ने, उन्हें नोटिस किया। ये वही शख्स थे। जो 2000 में microsoft के, दूसरे CEO बने।

      जनवरी 2011 में Ballmer ने, सत्य नडेला को माइक्रोसॉफ्ट नए क्लाउड टेक्नोलॉजी प्रोजेक्ट, Server Tools Business (STB) की जिम्मेदारी दी। Cloud Technology उस समय तक, मल्टी बिलियन डॉलर business बन चुका था। लेकिन इस बिज़नेस के बड़े हिस्से पर, Amazon अपना कब्जा कर चुका था। अब यह नडेला की जिम्मेदारी थी। कि वह इसे पहली पोजीशन दिला सके।

 इसके लिए नडेला ने सबसे पहले टीम में विश्वास की भावना पैदा की। उन्होंने सभी लीडर को एक साथ बैठाकर, उनके सारे issues को हल किया। ऐसा करने से कंपनी का एक open और trusting माहौल पैदा हुआ। सत्य नडेला ने पूरी लगन से कंपनी का एक के बाद एक task पूरा किया। माइक्रोसॉफ्ट के कई important position पर काम करते हुए। उन्होंने अपनी योग्यता को साबित किया। माइक्रोसॉफ्ट के Data Base, Window Server, Developer tool को Azure Cloud पर ले जाने का अलावा। महज 3 साल में, cloud service के revenue को $16.6 billion से $20.3 billion पर पहुँचा दिया।

सत्य नडेला का विवाह
Marriage of Satya Nadella

 1992 में सत्य ने अनुपमा से शादी की। जो कि उनके पिता के IAS Batchmate की बेटी हैं। अनुपमा मनिपाल में उनकी जूनियर थी। वहीं से उन दोनों की जान-पहचान बढ़ी। आज सत्य और अनुपमा के तीन बच्चे हैं। वे अपने बच्चों सहित वाशिंगटन में रहते हैं। 1996 में सत्य और उनकी पत्नी ने, अपने पहले बच्चे को जन्म दिया।

   उनके बेटे जैन asphyxia disease से पीड़ित हैं। Asphyxia एक ऐसी condition है। जिसके तहत शरीर में, ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। जिससे बेहोशी, घुटन या मृत्यु हो सकती है। सत्य और उनकी पत्नी के लिए, यह एक बहुत बड़ा घाव था। उनका तब से लेकर अब तक का समय अस्पताल के ICU, therapy और operations में बीता है।

सत्य कहते हैं कि उनके बेटे की हालत  ने, उनको दूसरों की तरफ हमदर्दी का भाव सिखाया। इस तजुर्बे ने उन्हें यह सीख दी। कि जिंदगी की problems को, हमेशा एक तरह से हल नहीं किया जा सकता।

सत्य नडेला माइक्रोसॉफ़्ट के सीईओ बने
Satya Nadella Becomes CEO of Microsoft

 सत्य नडेला माइक्रोसॉफ्ट के ज्यादातर, department को संभालने लगे। जिनमें Bing, Office 365, Skype, OneDrive व Xbox Live जैसे कामों अपना योगदान दिया। इन्होंने online service division में vice-president की भूमिका निभाई। बाद में इन्हें कंपनी के server and tool business का President बना दिया गया।

       जैसा कि Bill Gates के बाद, सत्य नडेला के पहले के CEO स्टीव बॉलमेर ने 14 सालों में, कुछ नहीं किया। Steve Ballmer ने 2000 में सीईओ बनने के बाद, वक्त रहते Internet Explorer में innovation करना जरूरी नहीं समझा। जिसके कारण आज google chrome व Mozilla Firefox ने उन्हें हरा दिया। Google ने 2004 में G-mail को लांच किया था। जबकि माइक्रोसॉफ्ट 7 साल पहले, 1997 में Hotmail को खरीद चुका था। लेकिन वह यहां पर भी सफल नहीं हो सका।

 Microsoft ने Ballmer  की लीडरशिप के अंतर्गत, windows phone जैसे प्लेटफार्म कम application की वजह से, फिर से फेल हो गया। फिर साल 2014 में Steve Ballmer ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। Finally, फरवरी 2014 में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर ने majority के साथ। सत्य नडेला को माइक्रोसॉफ्ट का तीसरा CEO बना दिया। नडेला की वजह से, माइक्रोसॉफ्ट की ग्रोथ। फिर से वापस अपनी जगह पर आ गई। बिल गेट्स की कुर्सी पर बैठना। नडेला के लिए, अपने आप में एक बड़ी बात थी।

सत्य नडेला के सीईओ बनने के बाद की उपलब्धियां
Satya Nadella- Achievement after CEO

   सत्य नडेला ने CEO बनने के बाद,  माइक्रोसॉफ्ट के business model में बहुत सारे बदलाव किए। माइक्रोसॉफ्ट शुद्व रूप में एक सॉफ्टवेयर कंपनी थी। लेकिन नडेला ने बिजनेस को, diversified करने के साथ ही। एक के बाद कंपनियों को acquire करना शुरू किया। जिसमें सबसे पहला Mojang था। जिसने Minecraft जैसे famous game को बनाया था।

       इसके बाद Xamarin, LinkedIn और GitHub भी Microsoft का हिस्सा बन गए। जिससे माइक्रोसॉफ्ट और ऊंचाइयों की ओर बढ़ती चली गई। सत्य ने Apple iPad में, माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस release की। माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक की app, आईफोन और एंड्रॉयड में रिलीज की। Window 9 के बाद, Windows 10 रिलीज की। Azure Cloud पर Linux Operating system शुरू किया।

Time Magazine के top 100 person  की list में जगह बनाने के साथ ही। Financial Time: Person of the Year और Fortune Magazine: Business Person of the Year का खिताब, नडेला ने अपने नाम की किया। इसके साथ ही CNBC टीम द्वारा, उन्हें मुंबई में ग्लोबल इंडियन बिज़नेस आइकन के अवॉर्ड से नवाजा गया।

सत्य नडेला की ऑटोबायोग्राफी
Autobiography of Satya Nadella

 सत्य नडेला ने अपनी एक ऑटो बायोग्राफी Hit Refresh लिखी है। वह Artificial Intelligence, Quantum Computing और Mixed Reality पर काम करना चाहते हैं। मतलब आने वाले समय में, वह दुनिया को और हैरान करने वाले हैं। नडेला कहते हैं- I don’t want to fight old battles. I want to fight new ones.

सत्य नडेला माइक्रोसॉफ़्ट के चेयरमैन बने
Satya Nadella - Becomes the Chairman of Microsoft

  सत्य नडेला को माइक्रोसॉफ्ट ने एक बड़ा प्रमोशन मिला है। माइक्रोसॉफ्ट ने 16 जून 2021 को सत्य नडेला को बतौर चेयरमैन नियुक्त किया है। नडेला अब जॉन थॉमसन की जगह लेंगे। वही जॉन थॉमसन को प्रमुख इंडिपेंडेंट डायरेक्टर यानी लीड इंडिपेंडेंट डायरेक्टर बना दिया गया है।

सत्य नडेला इनकम व नेट-वर्थ
Satya Nadella - Income and Net-Worth

सत्य नडेला के पास luxurious Brands की Car अच्छा कलेक्शन है। उनमें से किसी एक कार से, वे ऑफिस पहुंचते हैं। फिर अपने लिखे हुए काम को पूरा करने में लग जाते है।

इस समय सत्य नडेला की नेट-वर्थ लगभग  ₹3000 करोड़ है। वही उनकी Annual Salary ₹320 करोड़ है। इस हिसाब से, उनकी 1 दिन की salary ₹88 लाख है।

 F.A.Q

प्र० माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ/चेयरमैन का नाम क्या है?

उ० माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ/ चेयरमैन का पूरा नाम सत्य नारायण नडेला है।

प्र०  सत्य नडेला कौन है?

उ० भारतीय मूल के सत्य नडेला माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प के नए चेयरमैन हैं

प्र० सत्य नडेला माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ कब बने?

उ० सत्य नडेला फरवरी 2014 को माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ बने।

प्र०  सत्य नडेला की पत्नी का क्या नाम है?

उ०  सत्य नडेला की पत्नी का नाम अनुपमा है।

प्र०  सत्य नडेला की ऑटो बायोग्राफी का नाम क्या है?

उ०  Hit Refresh

प्र०  सत्य नडेला की नेट-वर्थ क्या है?

उ० सत्य नडेला की नेट-वर्थ 2022 के अनुसार, $425 मिलियन है।

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.