Advertisements

Abraham Lincoln Motivational Biography in Hindi| संघर्ष और सफलता की कहानी

Abraham Lincoln Biography in Hindi । The assassination of Abraham Lincoln। अब्राहम लिंकन का जीवन परिचय। Failure से डर लगता है तो इनके बारे में जानो। अमेरिका के सबसे महान राष्ट्रपति। संघर्ष और सफलता की कहानी। अब्राहम लिंकन की असफलताओ से सफलता की यात्रा। The Life of Abraham Lincoln । The Story of Abraham Lincoln। 16th President of America। inspiring biography of Abraham Lincoln

Abraham Lincoln - 16th President of America
Motivational Biography

 जिंदगी में आप तब तक नहीं हार सकते। जब तक कि आप खुद से न हार जाओ। दुनिया में कुछ लोगों ने, success पाने की कसम खा रखी होती है। उनके बारे में लोग क्या सोचते हैं। इससे उन्हें कोई फर्क नही पड़ता। वह अपने लक्ष्य तक पहुंचने में, कितनी बार असफल हुये। इससे भी कोई फर्क नही पड़ता।

कितने संघर्षों और कितने failure का सामना किया। इससे भी उसे कोई फर्क नहीं पड़ता। आज की बायोग्राफी, एक ऐसे ही शख्स की है। जिन्होंने अपनी जिंदगी में, इतनी मुसीबतों का सामना किया। लेकिन उनका मानना था कि तुम मेहनत करते-करते कभी मायूस मत होना। क्योंकि तेरी मेहनत, तेरे अलावा, तेरे खुदा ने भी देखी है

आप सफलता की राह पर चलते-चलते गिर जाते हैं। तो यह आपकी असफलता नहीं है। लेकिन आप गिरने के बाद, सफलता की राह पर। फिर से आगे बढ़ने के लिए खड़े नहीं होते। तो यह जरूर आपकी असफलता है। यह powerful motivational शब्द है। उस महान इंसान के, जिन्होंने एक गरीब परिवार में जन्म लिया।

जीवन में कितने ही बुरे से बुरे हालातों से गुजरे। बड़ी से बड़ी असफलता को हराया । अमेरिका जैसी बड़ी महासत्ता के राष्ट्रपति बनने का गौरव हासिल किया। इनकी वजह से ही अमेरिका सबसे बड़े गृह युद्ध से उभरा। इनकी ही वजह से अमेरिका में दासता कानून खत्म हुआ। उनका नाम है- अब्राहम लिंकन

Abraham Lincoln 16th President of America
Advertisements

Abraham Lincoln - An Introduction

 

अब्राहम लिंकन – एक परिचय

पूरा नाम

अब्राहम थामस लिंकन

जन्म

12 फरवरी 1809

जन्म स्थान

केटुंकी, अमेरिका

पिता

थॉमस लिंकन

माता

नैंसी

बहन

सारा लिंकन

पत्नी

मैरी टॉड (1842)

बच्चे

रोबर्ट, एडवर्ड, विल्ली व टेड

व्यवसाय

वकील

प्रसिद्ध होने का कारण

Abolishment of Slavery 

16th President of America

मृत्यु

14 अप्रैल 1865

मृत्यु का कारण

John Wilkes Booth के द्वारा हत्या

मृत्यु का स्थान

Fort Theatre

Growth of American Nation

सबसे पहले एशिया महाद्वीप से लोग अमेरिका पहुंचे। वह लोग वहां बस गए। इसीलिए Americans को Red Indians भी कहा जाता है। उन्होंने अमेरिका को बसाया। 1493 में क्रिस्टोफर कोलंबस अमेरिका पहुंचे। उन्होंने एक बड़ा land mass देखा। फिर उन्होंने इसे अमेरिका नाम दे दिया। इसके बाद यहां पर settlement आना शुरू हुए। सबसे पहले France settlement आया। जो कि Mississippi में settle हुआ। फिर Spanish settlement आया। जो फ्लोरिडा में settle हुआ।

      1607 में British settlement आया। जो वर्जिनियां में settle हुआ। इन्होंने यहाँ लूटना शुरू किया। उन्होंने बहुत अधिक टैक्स लगाना शुरू कर दिया। तब अमेरिकंस ने कहना शुरू किया। No Tax without Representation । इसके बाद 1775 से 1776 तक अमेरिकन रिवॉल्यूशन हुआ। Finally, 4 जुलाई 1776 को अमेरिका को independence मिली। अंततः जॉर्ज वाशिंगटन के द्वारा, American constitution को adopt किया गया। यह यूरोपीयन कॉलोनी से मुक्त होने वाला पहला देश था।

इसके बाद अमेरिका ने अपनी territory को expand करना शुरू किया। America उन्हें unite करके एक United State बनाना चाहता था। इन सब के background में slavery थी। तब वहां इंसानों की कोई कीमत व अधिकार नहीं थे। उन्हें खरीदा जाता था। उन्हें मारा-पीटा जाता था। जब वह काम नहीं करते थे। इसी दौरान, अब्राहम लिंकन का जन्म हुआ।

Early Life of Abraham Lincoln

  अब्राहम लिंकन का जन्म 12 फरवरी 1809 को हुआ था । उनका जन्म Hardin county नामक छोटी-सी जगह में हुआ। जो अमेरिका के केंटुकी राज्य में था। उनके पिता का नाम थॉमस लिंकन था। उनकी मां का नाम नैंसी लिंकन था। अब्राहम का पूरा बचपन बहुत ही गरीब बिता। उनका पूरा परिवार एक लकड़ी के मकान में रहता था। जिसे उनके पिता ने खुद ही बनाया था। अब्राहम लिंकन की एक बड़ी बहन सारा भी थी। अब्राहम का एक छोटा भाई था। जिसकी बचपन में ही मृत्यु गई थी।

      अब्राहम के माता-पिता England से आए थे। जो बाद में न्यू जर्सी, पेंसिलवेनिया और वर्जीनिया में आकर बस गए थे। वह बहुत गरीब थे। खेती करके अपना जीवन-यापन करते थे। अब्राहम के पिता थॉमस खेती साथ ही carpentry का भी काम किया करते थे। एक जमीनी विवाद के कारण। लिंकन परिवार को उन्हीं की जमीन से निकाल दिया गया। फिर उन्हें शहर छोड़ने पर भी मजबूर किया गया। 

  1811 में उनका परिवार, केंटुकी से 13 km उत्तर की ओर Knob Creek farm में रहने के लिए आ गया। वहां पर उन्होंने जमीन को खेती के लायक बनाकर, खेती करना शुरू किया। लेकिन यहां से भी उनके परिवार को, वहां के स्थानीय लोगों ने भगा दिया। अंततः 1816 में परेशान होकर, उनका परिवार इंडियाना की ओहियो नदी के किनारे आकर बस गया। यहां पर उन्होंने घने जंगलो को काटकर, खेती करना शुरू कर दिया। यहां पर आज भी उनके घर और खेतों को, एक स्मारक के रूप में संरक्षित करके रखा गया है।

Abraham Lincoln's Education And Struggle

अब्राहम का परिवार अत्यधिक गरीब था शुरुआती दौर में वह उनका परिवार खानाबदोश जीवन बिताने के लिए मजबूर था इन सबके चलते उनकी प्रारंभिक शिक्षा स्कूल में नहीं हो सकी लेकिन अब्राहम लिंकन को पढ़ने का बहुत शौक था इसलिए कहा जा सकता है कि वह सेल्फ एजुकेटेड थे।

       1818 में अब्राहम लिंकन की मां की मृत्यु हो गई। तब उनके भाई-बहन भी बहुत छोटे ही थे। तब उनके पिता Thomas Lincoln ने 1820 में Sarah “Sally” Bush Johnston से दूसरी शादी कर ली।  आमतौर पर कहा जाता है कि सौतेली मां बहुत बुरी होती है। लेकिन यहां ठीक इसका उल्टा था। अब्राहम अपनी step mother के सबसे करीब थे। इन्होंने ही पढ़ने के लिए उन्हें प्रोत्साहित किया। 

अब्राहम लिंकन सालों तक depression में रहे। लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। वह कभी पीछे नहीं हटे। उनके दोस्तों ने, उनके कमरे से चाकू, रस्सी, कैंची, माचिस जैसी सब हटा दी थी। वह कहीं आत्महत्या न कर ले। लेकिन तब अब्राहम लिंकन ने अपने दोस्तों से कहा। अभी तक मैंने इतिहास रचा नहीं है। तो सुसाइड करने का कोई प्रश्न ही नहीं है।

Independent Life of Abraham Lincoln

अब्राहम लिंकन जब बड़े हुए । तो उनके पिताजी से नहीं बनती थी। तब उन्होंने independent होने का फैसला किया। अमेरिका में एक उम्र के बाद, बच्चे independent हो जाते थे। जिसका मतलब था कि आप अपना घर छोड़िए। अपने आगे की जीवन खुद से निर्धारित कीजिए। अब्राहम न्यूसेलम में जाकर settle हो गए। यहां पर वह 6 साल तक रहे।

यहां पर रहकर, उन्होंने लकड़हारे (woodcutter) का काम काम किया। उन्हें कुल्हाड़ी व तलवार चलना बहुत अच्छे से आता था। अब्राहम ने यहां दासों (slaves) की बहुत बुरी दशा देखी। जिसे देखकर, वह बहुत दुखी हुए। उन्होंने प्रण किया कि जब भी कभी उन्हें मौका मिलेगा। तो वह इसका समूल नाश करेंगे। क्योंकि यह दुनिया का सबसे अमानवीय काम है। जहां पर इंसानो को जानवर से भी, बदतर treat किया जाता था।

अब्राहम लिंकन ने यहां रहकर, बहुत सारे अलग-अलग काम किए। इन्होंने यहाँ पर grocery में काम किया। कुछ समय तक postmaster भी रहे। इनकी ईमानदारी की वजह से लोग, इन्हें सराहने लगे थे। इन्होंने बहुत सारे बिजनेस किए। जिसमें इन्हें loss हुआ। कुछ जमीन भी खरीदी। उनमें भी नुकसान हुआ। यह जिस भी चीज में हाथ लगाते थे। तो वह डूब जाता था।

इसके चलते, इन्होंने ब्लू मास नाम का drug लेना शुरू कर दिया। जिसमें मरकरी होता था। मरकरी एक neurotoxin होता है। जिसके कारण ये बहुत aggressive होते चले गए। बाद में नहीं एहसास हुआ। तब इन्होंने इसे लेना बंद कर दिया। लेकिन इन सबके बावजूद, अब्राहम लिंकन ने कभी हार नहीं मानी।

Marriage of Abraham Lincoln

अब्राहम लिंकन की एक प्रेमिका Ann Rutledge थी। जिसे वह बहुत चाहते थे। anarchy 22 साल की उम्र में मृत्यु हो गई थी जिसके कारण भी अब्राहम लिंकन काफी disturb रहे। इसके बाद, एक पार्टी में उनकी मुलाकात Mary Todd से हुई। जो बहुत धनी परिवार से संबंधित थी। Mery काफी गुस्सैल स्वभाव की थी। जिसकी वजह से इनका विवाह होने से पहले ही कई बार टूटने की नौबत आई।

   Finally, 4 नवम्बर 1842, में इनका विवाह हो गया। अब्राहम लिंकन के 4 बच्चे हुए। लेकिन उनमें से तीन की early age में ही death हो गई। सिर्फ उनका एक बेटा Robert Lincoln ही survive कर पाया। Mary Todd से इनके बहुत झगड़े होते थे। जिसकी वजह से, अब्राहम लिंकन बहुत परेशान रहने लगे थे। लेकिन झगड़े होना अलग बात थी। 

Mary Todd एक ideal wife साबित हुईं। उन्होंने अब्राहम लिंकन का हर कदम पर साथ दिया। उन्होंने अब्राहम के हर decision की पूरी respect की। आखिरी समय तक, उन्होंने अब्राहम का साथ दिया। हर मुसीबत में उन्होंने अब्राहम लिंकन को संभाला।

The Beginning of Abraham Lincoln's Political Career

   1834 में अब्राहम लिंकन अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। वो Illinois state legislature के member बने। अब्राहम वहां की Whig Party से जुड़े। उन्होंने अपना जबरदस्त campaign किया। फिर  जीते भी। अब्राहम कानून की जानकारी के लिए, lawyer बनना चाहते थे। इसलिए उन्होंने law की self study की।

1836 में अब्राहम Illinois Bar में शामिल हुए। इन्होंने William Herndon के साथ वकालत की शुरुआत की। अब्राहम single term के लिए, Senate में house of representative भी रहे। यहां पर भी वह खुलकर बोलते थे।

इन्होंने Mexican War और slavery के खिलाफ बोलना शुरू किया। लेकिन उस समय उनकी बात को सुनने वाला कोई नहीं था। President ship के लिए, इन्होंने Zachary Taylor का पूरा समर्थन किया। तभी इन्होंने abolition of slavery के लिए एक draft भी तैयार किया था।

What is Slavery in America

  अमेरिका में slavery (दास प्रथा) बहुत ज्यादा प्रचलित थी। साउथ अमेरिका में, अफ्रीका से slaves को लाया जाता था। क्योंकि यहां पर cotton cultivation होता था। African (black) को यहाँ पर कोई rights नहीं दिए जाते थे। इनको किसी product की तरह use किया जाता था। अगर यह काम करने, लायक नहीं होते थे। तो उन्हें वही गोली मार दी जाती थी। इन blacks से 24 घंटे काम करवाया जाता था। 

      जब अब्राहम लिंकन का उदय हुआ। तब उन्होंने slavery के खिलाफ शुरू में तो कुछ नहीं बोला। लेकिन जब उन्होंने पूरा देश घुमा। तब उन्होंने पाया कि slavery तो एक अपराध है। यह अमानवीय है। लेकिन South State ने इसे अस्वीकार किया। जबकि नॉर्थ अमेरिका में हालात बहुत अच्छे थे। यहां पर दास प्रथा बहुत बहुत कम थी।

यहां पर आधुनिकीकरण था। यहाँ पर बहुत सी industries थी। इसी वजह से अमेरिका दो हिस्सों में बट गया था। जहाँ नॉर्थ अमेरिका एक यूनियन स्टेट था। वहीं दूसरी तरफ साउथ अमेरिका था। जिसे Confederate States of America (अमेरिका के संघीय राज्य) कहा जाता था। इसी कारण यहां पर Civil War की शुरुआत हुई।

Abraham Lincoln Becomes President

उस समय अमेरिका में लगभग सभी लोग, सभी दल व सभी राजनीतिक पार्टियां Slavery के पक्ष में थी। इसी वजह से 1854 में रिपब्लिकन पार्टी का जन्म हुआ। इसी के साथ, अब्राहम लिंकन को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया। अब्राहम लिंकन ने इसके खिलाफ, पूरे देश में campaign चलाई। दूसरी तरफ डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार स्टीफन ए डगलस थे।

     अमेरिका की परंपरा के अनुसार, Lincoln-Douglas के बीच 7 ऐतिहासिक debates हुई। इन debates में पहले एक candidate को अपनी बात रखने का मौका दिया जाता है। फिर दूसरे कैंडिडेट को बोलने का मौका मिलता है। इन सब debates में डगलस को हराते हुए। 6 नवंबर 1860 को अब्राहम लिंकन को राष्ट्रपति चुन लिया गया। उन्होंने रिपब्लिकन पार्टी के पहले व अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।

अब्राहम लिंकन ने जैसे ही सत्ता संभाली। तब slavery का समर्थन करने वाले 7 states टूट कर अलग हो गए। उन सभी ने मिलकर, अपना एक अलग राज्य बना लिया। जिसे Confederate States of America (CSA) के नाम से जाना गया। Jefferson David इसके president बने। इनका अपना झंडा, अपनी यूनिफार्म  थी। कुछ समय के बाद, चार states और CSA  में शामिल हो गए।

Civil War in America

  अमेरिका के उत्तरी और दक्षिणी राज्यों के बीच गृह युद्ध छिड़ गया था। दक्षिणी राज्यों के गोरे लोग, उत्तरी राज्य के काले लोगों को अपने पास बंधक बनाकर रखते थे। गुलामों की तरह ताकि वह उनसे खेती करवा सकें। दक्षिण राज्यों के लोग अपना अलग देश बनाना चाहते थे।

       दूसरी तरफ उत्तरी राज्यों के लोग गुलामी प्रथा को खत्म करके मिलजुल कर रहना चाहते थे। यही कारण था सिविल वार का। जो अब्राहम लिंकन के राष्ट्रपति बनने के साथ शुरू हुआ। फिर 1885 में खत्म हुआ। इस civil war के पीछे की वजह केवल slavery ही थी।

     CSA किसी भी तरह से surrender करने को तैयार नहीं था। ऐसे में CSA ने  British से मदद मांगी। उनको लगा कि ब्रिटिशर्स, हमारी मदद करेंगे। क्योंकि वहां से कॉटन Britain में जाता था। फिर Manufacture होकर, वापस वहीं पर बिकता था। लेकिन ब्रिटिशर्स को पता था कि इसमें हमारा ही नुकसान होगा। क्योंकि आखिरकार जीत तो union की निश्चित थी।

       अब्राहम लिंकन ने इन सारे हालातों को बहुत अच्छे से control किया। Navy की सारी कमान उनके पास थी। उन्होंने ब्रिटेन से आने वाले सारे ships के ऊपर tariff लगाना शुरू कर दिया। लेकिन इसे CSA ने मानने से इनकार कर दिया। 1861 से civil war की शुरुआत हुई। Union और CSA के बीच बहुत सारे युद्ध होते हैं।

    1863 में लिंकन मुक्ति की उद्घोषणा (Emancipation Proclamation) देते है। तब उन्होंने कहा कि हम slavery को abolish कर देगे। उन्होंने कहा कि 1 जनवरी से अगर Rebel state हमारे साथ आ गए। तो उन्हें मुक्तिदान दे देंगे। वह free state होंगे। वहां slavery नहीं होगी। लेकिन CSA ने एक बार फिर, इसे मानने से इंकार कर दिया।

       जुलाई 1863 में, Gettysburg battle हुई। इसमें अमेरिका की जीत हुई। इस जीत पर अब्राहम लिंकन ने गठन बर्फ की ऐतिहासिक speech दी। इनकी इसी speech को, आज सारे देश follow करते हैं। For the People, Of the People, By the People shall not perish from the earth। इसके बाद भी जेफरसन डेविस हार मानने को तैयार नहीं थे।

तब अब्राहम लिंकन के general, Ulysses S. Grant ने एक final campaign चलाई। अटलांटा से सबाना के बीच लाखों लोगों को मारा। जो भी इनके बीच में आया, उसे मरते चले गए। अंत में CSA के general Robert Lee ने हार मान ली। अन्ततः 9 अप्रैल 1865 को surrender कर दिया।

The Dream Before the Assassination (हत्या) of Abraham Lincoln

   4 अप्रैल 1865 की रात में अब्राहम लिंकन बहुत ज्यादा थक गए थे। जब वह सोने गए। तो उन्होंने नीदं में एक सपना देखा। उन्होंने देखा कि White House ( राष्ट्रपति का निवास) में, एक दिन बहुत शांति छाई हुई थी। उन्हें यह शांति बहुत अजीब लगी। उन्होंने शांति का कारण जानने चाहा। वह जब नीचे उतरे। तो पाया कि लोग रो रहे थे। वह आगे बढ़ने लगे। यह देखने के लिए कि आखिर हुआ क्या है।

वह जब पास पहुंचे। तो उन्होंने देखा कि वहां पर एक डेड बॉडी थी। वह डेड बॉडी का चेहरा नहीं देख पा रहे थे। इसलिए उन्होंने एक गार्ड से पूछा, यहाँ किसकी मौत हुई है। गार्ड ने जवाब दिया, प्रेसिडेंट की। यह सुनते ही अचानक उनकी नींद खुल गई।

इस भयानक सपने के बाद, वह सोचने लगे। यह कोई संकेत तो नहीं है। फिर अगली दो-तीन रातों तक, वह लगातार इस सपने को देखते रहे। 14 अप्रैल 1865 को उन्होंने अपने सपने के बारे में, अपने बॉडीगार्ड William H. Crook को बताया।

Assassination of Abraham Lincoln

अब्राहम लिंकन को theatre जाना बहुत पसंद था। उनके Bodyguard ने उन्हें theatre न जाने की सलाह दी। उसने कहा आपके इस डरवाने सपने का यही कारण है। लेकिन अब्राहम लिंकन को fort  theatre जाना पसंद था। उन्होंने अपने बॉडीगार्ड से कहा कि उन्होंने अपनी पत्नी मरी डॉट को आज theatre ले जाने का वादा किया है। फिर उन्होंने अपने का Bodyguard को Goodbye बोला। वह 14 अप्रैल 1865 को अपनी पत्नी के साथ, fort  theatre पहुंचे।

Fort theatre में उस दिन Our American Cousin नाम का show चल रहा था। जिस में मुख्य भूमिका John Wilkes Booth निभा रहे थे। अब्राहम के साथ theatre में उनके कुछ guards भी थे। वह भी show के बीच में, बाहर निकल गए। रात 10:15 बजे मौका देखकर, जॉन बूथ ने अब्राहम लिंकन के सर पर पीछे से गोली मार दी। गोली लगने के, कुछ घंटों बाद भी Abraham जिंदा थे। अगली सुबह  7:22 पर Petersen house में उनकी मौत हो गई।

Cause of Abraham Lincoln's Assassination

अब्राहम अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे। जिनकी हत्या कर दी गई थी। हत्या के पीछे अमेरिका में छिड़ा सिविल वार ही था। एक बहुत बड़ी साजिश की गई थी। United State of America के तीन बड़े अधिकारियों की हत्या करने की। लेकिन साजिश पूरी तरह से कामयाब नहीं हुई। सिर्फ अब्राहम लिंकन ही षड्यंत्रकारियो के शिकार हुए।

षड्यंत्रकारियो को बाद में पकड़ लिया गया। उन्हें मौत की सजा दी गई। John Booth दक्षिणी अमेरिका का बदला लेना चाहता था। इसके साथ ही वह अपने भाई Admin Booth को बिल्कुल पसंद नहीं करता था। क्योंकि Admin Booth चाहता था।

सभी लोग मिलजुल कर रहे। वह दास प्रथा के खिलाफ था। लेकिन John Booth इसका पक्षधर था। एक साल पहले Admin Booth ने अब्राहम लिंकन के सबसे बड़े बेटे Robert Todd lincoln की जान बचाई थी।

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.