Advertisements

Vladimir Putin Biography in Hindi | पुतिन कैसे बने इतने शक्तिशाली व प्रभावशाली

Vladimir Putin Biography in Hindi। Russian President Vladimir Putin। What is Russia Ukraine dispute in hindi। व्लादिमीर पुतिन कैसे बने, दुनिया के सबसे प्रभावशाली व्यक्ति। व्लादिमीर पुतिन का जीवन परिचय। क्यों पुतिन है दुनिया के सबसे मजबूत नेता। रूसी राष्ट्रपति पुतिन। पुतिन कैसे बनें इतने ताकतवर। पुतिन ने यूक्रेन पर हमला क्यों किया। पुतिन ने यूक्रेन पर हमला क्यों किया। व्लादिमीर पुतिन की जीवनी।  Inspirational Biography of Vladimir Putin। Ukraine Russia Conflict। Biography of President Vladimir Putin। Putin to be President Till 2036। Vladimir Putin Family। Vladimir Putin Wife। Vladimir Putin Daughter। Vladimir Putin Lifestyle। Vladimir Putin Age। Vladimir Putin Income and Net-worth। Vladimir Putin in Hindi

Vladimir Putin Biography in Hindi
दुनिया के सबसे प्रभावशाली व्यक्ति

आज जिस शख्स के बारे में आप जानेगें। अगर उनके नाम के आगे महामहिम न लगा। तो यह तय कर पाना मुश्किल हो जाता है। आखिर उन्हें क्या कहा जाए। क्योंकि यह जो कर सकते हैं। उसे दुनिया का कोई भी राष्ट्र अध्यक्ष तो छोड़िए। कोई भी हरफन मौला इंसान करने की सोच भी नहीं सकता। एक बार उनकी खूबियों को नजर डालिये।

    KGB का जासूस, मार्शल आर्ट में ब्लैक  बेल्ट होल्डर, जंगी जहाज उड़ाने वाला एक पायलट। सेना का टैंक चला सकने वाला, एक सैनिक। अभेद निशाना लगा सकने वाला, एक निशानेबाज। हवा से बात करने वाला, एक स्पोर्ट्स कार रेसर। नौजवानों से तेज बाइक दौड़ा सकने वाला, एक बाइकर।  बर्फ पर आइस हॉकी खेल सकने वाला खिलाडी। पानी में शिकार करने वाला शिकारी।

    जंगली जानवर से खेलने वाला जियाला। नंगे बदन घुड़सवारी करने वाला, एक घुड़सवार। ठंडे पानी में तैराकी करने वाला एक तैराक। पहाड़ों को लाँघने वाला एक climber। पानी के तल को नाप आने वाला एक Scuba Diver। फ्राई पैन को अपने  हाथों से मोड़ देने वाला, एक पहलवान। दुनिया का सबसे शक्तिशाली और प्रभावशाली नेता। शायद अब आपको बताने की जरुरत ही नहीं कि यह हैं – रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन

    यह 20 साल से सत्ता के शीर्ष पर काबिज है। हम जानेंगे, कैसे एक चूहे पकड़ने वाला बच्चा बना, KGB का जासूस। इसके बाद, दुनिया का सबसे शक्तिशाली शख्स। जो पुरे यूरोप और अमेरिका को अपने ठेंगे पर रखता है। जिससे दुनिया ख़ौफ खाती है। जो हमेशा से ही भारत का सबसे अच्छा और वफादार दोस्त रहा।

चतुराई और दिलेरी किसी मार्शल आर्ट की दो बड़ी खूबियाँ मानी जाती है। जुडो में ब्लैक बेल्ट व्लादिमीर पुतिन, इन दोनों खूबियों के मालिक हैं। पुतिन के यह सारे अंदाज, उनके चाहने वालों को लुभाते हैं। और न चाहने वाले लाख चाहकर भी, उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाते हैं। रूस में एक कीर्तिमान जो स्टालीन ने बनाया था। वही दो दूसरा कीर्तिमान व्लादिमीर पुतिन के नाम पर है। पुतिन ही हैं, जो स्टालिन के बाद रूस के सत्ता के शिखर पर, दो दशक से काबिज हैं। 

    जहां स्टालिन सोवियत यूनियन के परे आए थे। वही पुतिन दुनिया भर में, रूस की पहचान बन चुके हैं। पुतिन का मौजूदा कार्यकाल साल 2024 में खत्म हो रहा है। लेकिन उससे 4 साल पहले ही संवैधानिक सुधारों पर विवादित राष्ट्रव्यापी मतदान के जरिए। पुतिन अगले 16 साल तक भी, सत्ता के शीर्ष पर बने रह सकते हैं। यही वजह है। रूस के अंदर बाहर मौजूद पुतिन के विरोधी और आलोचक संवैधानिक सुधारों के रास्ते, पुतिन की मंशा पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

Biography of President Vladimir Putin
Advertisements

Vladimir Putin - An Introduction

 

President of Russia

Vladimir Putin – Ek Nazar

पूरा नाम

व्लादिमीर वलादिमिरोविच पुतिन

उप नाम

VVP, वोलोडाय,वॉव,ग्रे कार्डिनल

जन्म तिथि

7 अक्टूबर 1952

जन्म स्थान

लेनिनग्राद,रुस्सियन, सोवियत यूनियन

पिता

व्लादिमीर स्पिरिदोनोविच पुतिन

माता

मारिया इवानोव्ना पुतिन

स्कूल

सेंट पीटरबर्ग हाई स्कूल

कॉलेज

सेंट पीटरबर्ग स्टेट यूनिवर्सिटी

शैक्षिक योग्यता

कानून में स्नातक

पत्नी

ल्यूडमिला ओछेरेटनाय (2013 में तलाक)

बच्चे

• मारिया पुतिन (बड़ी बेटी)

• एकाटेरिना पुतिन (छोटी बेटी)

व्यवसाय

राजनीतिज्ञ (यूनाइटेड पार्टी से राष्ट्रपति)

व्यवसाय

राजनीतिज्ञ (यूनाइटेड पार्टी से राष्ट्रपति)

डेब्यू

1990 में, उन्हें मेयर सोबचाक के अंतरराष्ट्रीय मामलों के सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया था।








राजनैतिक सफर

●  सोवियत संघ के कार्यवाहक राष्ट्रपति 

(1999 – 2000) 

●  चुने गए राष्ट्रपति 

(2000 -2004)

●  दूसरी बार चुने गए राष्ट्रपति

(2004 -2008)

●  प्रधानमंत्री के रूप में चुने गए (2008 – 2012)

●  चौथी बार चुने गए राष्ट्रपति

(2012 – 2018)

●  पांचवी बार चुने गए राष्ट्रपति

(2018 – 2024)

सबसे बड़े प्रतिद्वंदी

बोरिस नेमतसोव

(मृत्यु – 2015)




 शौक

•Judo

•Skiing 

•Ice Hockey

•Riding

•Fishing

•Swimming

•Hunting

सैलरी (रूसी राष्ट्रपति के रूप में)

$240,000+ प्रतिवर्ष

$12000+ प्रतिमाह

नेट-वर्थ

$75 बिलियन

व्लादिमीर पुतिन का प्रारम्भिक जीवन
Early Life of Vladimir Putin

पुतिन का जन्म 7 अक्टूबर 1952 को सोवियत संघ के, एक गरीब परिवार में हुआ था। व्लादिमीर पुतिन की परवरिश लेनिनग्राद, जो कि अब सेंट पीट्सबर्ग है। ऐसे माहौल में हुई। जहां स्थानीय लड़कों के बीच मारपीट एक आम बात थी। ये लड़के कई बार पुतिन से बड़े और ज्यादा ताकतवर होते थे। यही बात पुतिन को जुडो की तरफ ले गई। अपनी आत्मरक्षा के लिए, उन्हें यह सीखना पड़ा। पुतिन मार्शल आर्ट में ब्लैक बेल्ट है।

      पुतिन का परिवार सेंट पिट्सबर्ग के एक अपार्टमेंट में, तीन और परिवारों के साथ रहता था। इनके जन्म से पहले ही, उनके दो भाइयों विक्टर और अल्बर्ट की मृत्यु हो गई थी। इनकी मां मारिया इवानोव्ना, एक फैक्ट्री में मामूली मजदूर थी। उनके पिता व्लादिमीर स्पिरिदोनोविच पुतिन, जो कि नेवी में थे। लेकिन इसके बावजूद, उनके घर का खर्च नहीं चल पाता था। तो बचपन से ही पुतिन ने, खाली समय में चूहों को पकड़कर, बाहर छोड़ने का काम शुरू कर दिया। जिसके एवज में उन्हें कुछ पैसे मिल जाते थे।

व्लादिमीर पुतिन की शिक्षा
Vladimir Putin - Education

पुतिन बचपन से ही पढ़ने में, काफी तेज  थे। उनका दिमाग किसी हथियार की तरह  तेज धारदार था। पुतिन विरोधी स्वभाव के थे। बच्चे अपने टीचर के लिए फूल लेकर जाते थे। लेकिन पुतिन अपने टीचर्स को पौधे भेट करते थे। वह स्कूल में चाकू लेकर चले जाते थे। उन्हें गिटार बजाना पसंद था। वह बीटल्स के रिकॉर्ड सुनते थे।

     उनके पिता ने उन्हें बॉक्सिंग सीखना चाहते थे। लेकिन उन्होंने जूडो सीखा। वह खुद कहते हैं कि मार्शल आर्ट ने, उनकी जिंदगी बदल दी। जिससे उनमें दृढ़ता का भाव आया। पुतिन जब मिडिल स्कूल में थे। तभी उन्हें कम्युनिस्ट पार्टी का स्कूल लीडर चुना गया। पुतिन ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सेंट पीटरबर्ग, हाई स्कूल से पूरी की। 

    इसके बाद उन्होंने सेंट पीटरबर्ग स्टेट यूनिवर्सिटी में दाखिला ले लिया। जहां से पुतिन ने 1975 में Law की Degree हासिल की। पुतिन को अपनी मातृभाषा रूसी के अतिरिक्त जर्मन भी आती है। पुतिन को जर्मन बोलने में महारत हासिल है लेकिन उन्हें अंग्रेजी से घबराहट लगती है उनका कहना है कि उन्होंने अंग्रेजी भाषा, राष्ट्रपति बनने के बाद सीखी। पुतिन अपनी औपचारिक  वार्तालाप के लिए, दुभाषियों का सहारा लेते हैं।

व्लादिमीर पुतिन का केजीबी में शामिल होना
Vladimir Putin Joining the KGB

  पुतिन का सपना था कि वह सोवियत सीक्रेट एजेंट बने। उनका यह सपना तो पूरा नहीं हुआ। लेकिन जिस उम्र में बच्चे  खिलौनों से खेलने की चाहत रखते हैं। उस उम्र में पुतिन ने Komitet Gosudarstvennoy Bezopasnosti (KGB) का जासूस बनने का मन बना लिया था। हालांकि यह उनका कोई शौक नहीं था। वे जासूसी को अपना पेशा बनाना चाहते थे। एक जासूस बनने की सारी खासियत तो पुतिन मे पहले से थी। तेज दिमाग, चुस्त शरीर, छोटी-छोटी बारीकियों पर गौर करना। हर चीज को शक  की निगाह से देखना।

       लेकिन सबसे बड़ी परेशानी की बात ये थी। उन्हें कोई idea नहीं था कि एक जासूस बनने के लिए, क्या करना होता है।  किससे मिलना है। किससे नौकरी की मांग करनी है। उन्हें कुछ भी नहीं पता था। उन्होंने कई लोगों से जानकारी एकत्रित करने की कोशिश की। लेकिन आखिरकार, उनके हाथ कुछ नहीं लगा। आखिर में थक हारकर उन्होंने फैसला किया। कि वह उस वक्त की जानीमानी खुफिया एजेंसी KGB के दफ्तर जाएंगे।

    सीधे उनसे नौकरी की मांग करेंगे। KGB के ऑफिस पहुंचकर, पुतिन की मुलाकात, एक महिला अधिकारी से हुई। उन्होंने उनसे कहा कि मैं एक जासूस बनना चाहता हूं। उनकी बात सुनकर, महिला अधिकारी थोड़ा आश्चर्यचकित हुई। क्योंकि उनकी उम्र, उस समय काफी कम थी। महिला ने सलाह दी कि वे कानून की डिग्री ले लें। तो बेहतर होगा। जिससे उनका KGB में आने का रास्ता साफ हो जाएगा।

पुतिन किसी भी कीमत पर KGB का हिस्सा बनना चाहते थे। उन्होंने Law की डिग्री पूरी करने के बाद, KGB के लिए आवेदन किया। पहले ही प्रयास में चुन लिए गए। 1975 में उन्होंने रूस की खुफिया एजेंसी KGB join कर ली। अपने पेज दिमाग के दम पर, उन्होंने जल्द ही KGB में अपना रसूक बना लिया। 

सोवियत संघ के विभाजन मे पुतिन की भूमिका
Putin - Role in the Split of the Soviet Union

 व्लादिमीर पुतिन को KGB में, पहले मिशन पर पूर्व जर्मनी भेजा गया। जहां पुतिन ने 5 साल ट्रांसलेटर बनकर, अंडरकवर एजेंट का काम किया। बर्लिन की दीवार के गिरते ही, वह वापस अपने देश रूस आ गए। जहां उन्होंने लेनिनग्राद स्टेट यूनिवर्सिटी में इंटरनेशनल अफेयर्स सेक्शन में काम किया। यहां वह नए KGB जासूसों की भर्ती का काम देखने लगे।

     तभी सोवियत संघ का सबसे बुरा दौर आया। जब उसके टुकड़े हो गए। उस वक्त गरीबी और करप्शन बढ़ गया। विभाजन से क्षुब्ध होकर, उन्होंने रिटायरमेंट का फैसला किया। 16 साल KGB में काम करने के बाद, 20 अगस्त 1991 को पुतिन ने लेफ्टिनेंट कर्नल के पद से रिटायरमेंट ले लिया। वह दोबारा उन्हीं गलियों में लौट आए। जहां उनका बचपन बीता था।

व्लादिमीर पुतिन का विवाह व तलाक
Vladimir Putin - Marriage and Divorce

  व्लादिमीर पुतिन की मुलाकात 1983 में, अपनी नौकरी के दौरान, एक महिला से हुई। जिनका नाम ल्यूडमिला ओछेरेटनाय था। इनसे बाद उन्होंने शादी कर ली। हालांकि उनकी शादी बहुत लंबी चल नहीं  पाई। उनकी पत्नी ने उनके ऊपर गंभीर आरोप लगाए।

      जैसे कि उत्पीड़न और दूसरी महिलाओं के साथ पुतिन के शारीरिक संबंध होने की बात। इसके चलते उनका तलाक हो गया। हालाकि यह आरोप कभी साबित नहीं हो पाए। उनके वैवाहिक जीवन में दो पुत्रियों ने जन्म लिया। जिनके नाम मारिया पुतिन व एकाटेरिना पुतिन है। रूसी मीडिया में कभी उनके परिवार का कोई फोटो नहीं आया

व्लादिमीर पुतिन के राजनैतिक जीवन की शुरुआत
Vladimir Putin - Beginning of the Political Career

  रूस के जाने-माने नेता और लेनिनग्राद  के मेयर Anatoly Sobchak के साथ जुड़कर राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की। वह उनके करीबी बन गए। सोबचक ने पुतिन को उप मेयर बना दिया। 1996 में सोबचक के हार के बाद, उन्होंने इस्तीफा दे दिया। फिर पुतिन सीधे मास्को चले गए। मास्को में पुतिन तब के राष्ट्रपति बोरिस येल्ट्सिन की टीम में, जगह बनाने में कामयाब रहे।

      इसके बाद तो जैसे उनका रास्ता साफ होता चला गया। राष्ट्रपति बोरिस ने पहले उन्हें पीएम बनाया। फिर 2 साल बाद, 1999 में जब बोरिस ने इस्तीफा दिया। तो  पुतिन को कार्यवाहक राष्ट्रपति बना दिया। लेकिन उनकी मंजिल यह नहीं थी। इसलिए पुतिन साल 2000 में, राष्ट्रपति पद के लिए खड़े हुए। उन्होंने जीत भी हासिल की। उसके बाद, रूस ने 2004 में उन्हें दोबारा राष्ट्रपति चुना। लेकिन रूसी संविधान के अनुसार, कोई लगातार तीन बार राष्ट्रपति नहीं बन सकता।

इसके चलते वह 2008 में, प्रधानमंत्री बन गए। फिर दोबारा 2012 में, चुनाव लड़ा। फिर राष्ट्रपति बन गए। तब से लेकर अब तक रूस की बागडोर, इसी शख्स ने संभाली हुई है। पुतिन ने वो तमाम कानून बदल डाले। जो उनके और राष्ट्रपति पद के बीच अड़चन बने हुए थे। एक लंबे शासन के बावजूद लोग उन्हें पसंद करते हैं। रूसी मीडिया के मुताबिक, पुतिन की लोकप्रियता ऐसी है। जो पश्चिम नेताओं के लिए सिर्फ सपना हो सकती है।

व्लादिमीर पुतिन की एक सख्त नेता की छवि
Vladimir Putin - As a Strict Leader

 रूसी मीडिया में पुतिन का राष्ट्रपति चेहरा छाया रहता है। वहां की मीडिया में, उनके पक्ष की खबरें खूब दिखती हैं। यही कारण है कि उनके आलोचकों की आवाज वहां दब जाती है। पुतिन अपने सख्त रवैया के लिए जाने जाते हैं। पूरी दुनिया ने उनका ऐसा रूप, आज से लगभग 20 साल पहले तब देखा था। जब 40 से 50 चेचन्या विद्रोहियों ने अक्टूबर 2002 में, एक थिएटर में लगभग 900 लोगों को बंधक बना लिया था।

     जब वहां एक प्ले चल रहा था। यह घटना इतिहास में, Moscow Theatre Hostage Crisis के नाम से मशहूर है। चेचन्या विद्रोही चाहते थे कि रूस अपने अपनी सेना, चेचन्या से हटा ले। फिर सरकार को 1 सप्ताह का वक्त दिया गया। तब पुतिन का कहना था कि आतंकियों के सामने झुक नहीं सकते। फिर फैसला हुआ कि ताकत का इस्तेमाल करेंगे। 3 दिन बाद, रूसी कमांडोज ने थिएटर को चारों तरफ से घेर लिया।

   एयर कंडीशनिंग सिस्टम से अंदर जहरीली गैस भर दी गई। सबका दम घुटने लगा। इसके बाद कमांडोज अंदर घुसे। फिर गोलीबारी हुई और सारे विद्रोही मारे गए। लेकिन 118 रूसी बंधक भी मारे गए। कई देशों में इसकी तारीफ हुई। तो वही कई देशों में इसकी निंदा। लेकिन इतना तो तय था कि पुतिन को कोई ब्लैकमेल नहीं कर सकता। पुतिन का कहना है कि लेनिनग्राद की सड़कों ने, मुझे एक नियम सिखाया था। अगर लड़ाई होनी तय है। तो पहला पंच मारो।

व्लादिमीर पुतिन कैसे 2036 तक राष्ट्रपति बने रहेगें
Vladimir Putin - Will Be the President Until 2036

 रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, अब 2036 तक राष्ट्रपति के पद पर बने रह सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि रूस की जनता ने संविधान संशोधन के लिए कराए गए। जनमत संग्रह में पुतिन की दावेदारी का समर्थन किया है। पिछले साल करोना संकट और विरोध के बीच, 7 दिनों तक यह जनमत संग्रह चला था। जिसमें पुतिन के समर्थन में, भारी जनमत मिला था।

      राष्ट्रपति पुतिन का मौजूदा 6 साल का कार्यकाल, 2024 में खत्म हो रहा है। रूस के संविधान में, राष्ट्रपति पद के लिए दो कार्यकाल की सीमा तय है। इसीलिए पुतिन को 2024 के बाद, सत्ता से बाहर होना पड़ता। इसी के मद्देनजर संविधान संशोधन की कवायद शुरू की गई थी। इसके बाद तय है कि अब रूस की बागडोर, 2036 तक पुतिन के पास ही रहेगी।

क्या है रसिया - यूक्रेन विवाद ?
What is the Russia - Ukraine Dispute?

 यूक्रेन का इतिहास यह है कि वह 1991 तक सोवियत संघ का ही सदस्य था। यूक्रेन  भूगोल यह है कि इसकी सीमा पश्चिम में यूरोप और पूर्व में रूस के साथ लगती है। 2013 में यूक्रेन में तत्कालीन राष्ट्रपति, Viktor Yanukovych का विरोध शुरू हुआ। रूस ने Yanukovych को support किया। जबकि अमेरिका और ब्रिटेन ने प्रदर्शनकारियों का। यही से रूस और यूक्रेन के बीच तनाव शुरू हुआ।

    2014 में Yanukovych को देश छोड़कर जाना पड़ा। इससे रूस नाराज हो गया। उसने यूक्रेन के क्रीमिया पर कब्जा कर लिया। 1954 में सोवियत संघ के नेता Nikita Khrushchev ने क्रीमिया आइसलैंड, यूक्रेन को गिफ्ट किया था। जब यूक्रेन सोवियत संघ से अलग हो गया। तो यही क्रीमिया दोनों देशों के बीच विवाद की वजह बन गया। 2015 में दोनों देशों के बीच, शांति समझौता भी हुआ।

      संघर्ष विराम पर सहमत बनी। लेकिन यह ज्यादा दिन नहीं चला। इस बीच यूक्रेन ने नाटो के कई देशों से, नजदीकियां बढ़ानी शुरू कर दी। रूस की मांग है कि नाटो यूरोप में अपने विस्तार पर रोक लगाये। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने चेताने के अंदाज में कहा था। अगर रशिया के खिलाफ, नाटो यूक्रेन में की जमीन का इस्तेमाल करता है। तो अंजाम बुरा होगा। इन्हीं बातों के बीच, दोनों देशों के बीच युद्ध शुरू हो गया है।

व्लादिमीर पुतिन की सैलरी, लाइफ़स्टाइल व नेट-वेर्थ
Vladimir Putin - Salary, Lifestyle and Net-worth

 पुतिन सातवें सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले लीडर हैं। उनकी कुल सैलरी ₹95 लाखों हैं। पुतिन की संपत्ति काफी लंबे समय से, चर्चा कर विषय है। हालांकि उनकी दौलत का सटीक अनुमान लगाना मुश्किल है। ऐसा माना जाता है कि उनकी दौलत रियल स्टेट, गोल्डन कंपनी और कई अकाउंट में बटी हुई है। माना जाता है कि यह $200 बिलियन की है। यानी कि दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति।

     खबरों के मुताबिक, पुतिन के पास 20 बंगले और महल है। उनका एक बंगला जो  under construction है। उसकी कीमत $750 मिलियन है। राष्ट्रपति पुतिन के पास एक दो नहीं। बल्कि कुल 58 एयरक्राफ्ट हैं। इसमें 15 हेलीकॉप्टर भी शामिल है। एयरक्राफ्ट के साथ ही, पुतिन को कारों का भी बेहद शौक है। इसलिए उनके पास 700 ultra luxury कारों का collection है।

     उनके पास दुनिया की कई महंगी और नायाब कारे हैं। सुपर पुतिन नाम से, एक ऑनलाइन कॉमिक्स श्रंखला भी शुरू की गई। जिसमें रूसी राष्ट्रपति को, एक सुपर हीरो की तरह बताया गया है। जो आतंकवादियों से लड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.